भारत के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल | Historical Places in India In Hindi

Indian Historical Places in Hindi – भारत की सभ्यता बहुत ही पुरानी हैं, ऐसे में यहाँ कई महान राजा-महाराजो का निवास रहा हैं  जिस कारण यहाँ कई ऐतिहासिक स्थल मिलते हैं जो की भारत को दुनिया के सामने एक अलग ही पहचान मिलती हैं। यहाँ पर भारत के प्रसिद्द और ऐतिहासिक स्थल की जानकारी दी गयी हैं..

भारत के प्रसिद्द ऐतिहासिक स्थल – Historical Places in India Information In Hindi

निचे Historical Places in India की सूचि दी गयी हैं। अगर आपको किसी ऐतिहासिक स्थल (Historical Places) के बारे में पढ़ना हैं तो उस के नाम पर क्लिक करे।

#1). ताजमहल – The Taj Mahal – सच्चे प्यार की पहचान करनी है तो आप ताजमहल (TajMahal) का दीदार कर सकते हैं। ये एक ऐसी अजिमोशान ईमारत हैं जिसे देखकर लोग आज भी प्यार पर भरोसा करते है। आगरा का ताजमहल भारत की शान और प्रेम का प्रतीक चिह्न माना जाता है। उत्तरप्रदेश का तीसरा बड़ा जिला आगरा ऐतिहासिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। इसका निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था। इस अद्भुत सफ़ेद संगमरमर स्मारक को आज भी दुनिया का हर एक इंसान देखने की चाह रखता है क्योकि इसे मोहब्बत का मंदिर कहा जाता है। ताजमहल विश्‍व के सात आश्‍चर्यों में से एक है। (Read Full Post) 

#2). गोलकोण्डा का किला – Golkonda Fort – गोलकुंडा एक क़िला व भग्नशेष नगर है। यह आंध्र प्रदेश (अब तेलंगाना) का एक ऐतिहासिक नगर है। जिसे मुख्यत: गोलकोंडा और गोल्ला कोंडा के नाम से जाना जाता हैं। हैदराबाद से 9 किलोमीटर पश्चिम की ओर बहमनी वंश के सुल्तानों की राजधानी गोलकुंडा के विस्तृत खंडहर स्थित हैं। गोलकुंडा का प्राचीन दुर्ग वारंगल के हिन्दू राजाओं ने बनवाया था। यह साम्राज्य बेसकीमती मिलनेवाले हीरे-जवाहरातों के लिये प्रसिद्ध था। जैसे – कोहिनूर हिरा। (Read Full Post)

#3). क़ुतुब मीनार – Qutub Minar – कुतुब मीनार भारत में दिल्ली शहर के महरौली भाग में स्थित, ईंट से बनी विश्व की सबसे ऊँची मीनार है। इसकी ऊँचाई 72.5 मीटर (237.86 फीट) और व्यास 14.3 मीटर है, जो ऊपर जाकर शिखर पर 2.75 मीटर (9.02 फीट) हो जाता है। इसमें 379 सीढ़ियाँ हैं। यह विश्व धरोहर UNESCO वर्ल्ड हेरिटेज साईट में भी शामिल है। यह भारत का सबसे खास और प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है। (Read Full Post) 

#4). पुराना किला (दिल्ली) – Old Fort – पुराना किला भारत के नई दिल्ली में यमुना नदी के किनारे स्थित प्राचीन दीना-पनाह नगर का आंतरिक किला है। इस किले का निर्माण (Purana Qila was built by) शेर शाह सूरी ने अपने शासन काल में 1538 से 1545 के बीच करवाया था। अगर आप इतिहासिक और वास्तुकला के प्रेमी हैं तो पुराना किला एक बार जरूर विजिट करे। (Read Full Post)

#5). चारमीनार – Charminar – चार मीनार भारत के तेलंगाना राज्य के हैदराबाद में स्थित विश्व प्रसिद्ध और महत्त्वपूर्ण स्मारक है। वर्तमान में यह स्मारक हैदराबाद की वैश्विक धरोहर बनी हुई है और साथ ही चारमीनार भारत के मुख्य 10 स्मारकों में भी शामिल है। चार मीनार को हैदराबाद के शासक मुहम्मद कुली क़ुतुबशाह ने बनवाया था। (Read Full Post)

#6). लाल किला – Red Fort – लाल किला एक विश्व प्रसिद्ध किला हैं जो मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा बनवाया गया था। इस किले का निर्माण 1639 में शुरू हुआ जो 1648 तक जारी रहा। हालांकि, किले का अतिरिक्त काम 19 वीं सदी के मध्य में शुरू किया गया। लाल किले को आर्किटेक्ट उस्ताद अहमद लाहौरी ने डिजाईन किया था, और उन्होंने ने ही ताज महल का भी निर्माण किया था। लाल किला पूरी तरह से लाल पत्थरो का बना होने के कारण उसका नाम लाल किला पड़ा। लाल किला वर्तमान में यूनेस्को विश्व विरासत स्थल है। (Read Full Post)

#7). आगरा का किला – Agra fort – आगरा किला ताजमहल के बाद आगरा का दूसरा विश्व धरोहर स्थल है। यह ताज महल से केवल 2.5 किलोमीटर की दुरी पर ही स्थित है। इसे आगरा का लाल किला भी कहा जाता हैं। इसका निर्माण मुगल बादशाह अकबर ने 1565 में करवाया था। रोचक बात यह हैं कि, किले के प्रवेश द्वार पर एक तख्ती है, जिसपर लिखा है “इस किले का निर्माण मूल रूप से 1000 इस्वी से भी पहले किया गया था और अकबर ने सिर्फ इसका नवीनीकरण करवाया था।” इस किले को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में भी शामिल किया गया है। (Read Full Post)

#8). इंडिया गेट – India Gate – इंडिया गेट दिल्ली का ही नहीं अपितु भारत का महत्‍वपूर्ण स्‍मारक है। इंडिया गेट को 90,000 से अधिक ब्रिटिश भारतीय सैनिकों की याद में निर्मित किया गया था जिन्‍होंने प्रथम विश्‍वयुद्ध और अफ़ग़ान युद्ध में वीरगति पाई थी। यह स्‍मारक 42 मीटर ऊंची आर्च से सज्जित है और इसे प्रसिद्ध वास्‍तुकार एडविन ल्‍यूटियन्‍स ने डिज़ाइन किया था। यह ऐसी प्रसिद्द स्मारक हैं की दिल्ली आने वाले पर्यटक यहाँ अवश्य आते हैं। (Read Full Post) 

#9). मेहरानगढ़ का किला – Mehrangarh Fort – मेहरानगढ़ किला भारत के राजस्थान में स्थित एक प्राचीन विशालकाय किला हैं जिसे जोधपुर का क़िला (Jodhpur ka Qila) भी कहा जाता है। यह भारत के समृद्धशाली अतीत का प्रतीक है। मेहरानगढ़ किला एक बुलंद पहाड़ी पर 150 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह शानदार किला राव जोधा द्वारा 1459 ई0 में बनाया गया था। मेहरानगढ़ क़िला पहाड़ी के बिल्‍कुल ऊपर बसे होने के कारण राजस्थान राज्य के सबसे ख़ूबसूरत क़िलों में से एक है। (Read Full Post)

#10). मुमताज़ महल – Mumtaz Mahal – मुमताज़ महल जिनका वास्तविक नाम ‘अर्जुमंद बानो बेगम’ (Arjumand Banu Begum) था मुग़ल महारानी और मुग़ल शासक शाहजहाँ की पसंदीदा बेगम थी। मुमताज की ही याद में उनके पति शाहजहाँ ने आगरा में ‘ताजमहल’ का निर्माण किया था। (Read Full Post)

#11). सिंधु घाटी सभ्यता – Sindhu Ghati Sabhyata – सिंधु घाटी सभ्यता जिसे इंडस वैली सिविलाइज़ेशन (indus valley civilization) भी कहते हैं, विश्व की प्राचीन नदी घाटी सभ्यताओं में से एक प्रमुख सभ्यता थी। यह हड़प्पा सभ्यता और सिंधु-सरस्वती सभ्यता के नाम से भी जानी जाती है। कुछ समय पहले तक यह माना जाता था की ये सभ्यता 5500 साल पुरानी हैं, लेकिन हाल ही में आईआईटी के वैज्ञानिकों द्वारा यह प्रमाणित किया गया की ये सभ्यता 8000 साल पुरानी हैं। इसका विकास सिंधु और घघ्घर/हकड़ा (प्राचीन सरस्वती) के किनारे हुआ। मोहनजोदड़ो, कालीबंगा, लोथल, धोलावीरा, राखीगढ़ी और हड़प्पा इसके प्रमुख केन्द्र थे। (Read Full Post)

#12). बीबी का मकबरा – Bibi Ka Maqbara – बीबी का मक़बरा महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद में स्थित है। इस मकबरे का निर्माण मुगल बादशाह औरंग़ज़ेब के शहजा़दे आज़मशाह ने अपनी मां बेगम राबिया की याद में बनवाया था। मुख्‍य प्रवेश द्वार पर पाए गए एक अभिलेख में यह उल्‍लेख है कि यह मक़बरा अत-उल्लाह नामक एक वास्‍तुकार और हंसपत राय नामक एक अभियंता द्वारा अभिकल्पित और निर्मित किया गया। इस मकबरे का प्रेरणा स्रोत आगरा का विश्‍व प्रसिद्ध ताजमहल था। यही कारण है कि “दक्‍कन के ताज” के नाम से जाना जाता है। हालाँकि ताजमहल की कॉपी करने में वे विफल रहे। अत-उल्लाह उस्ताद अहमद लाहौरी का बेटा था जिन्होंने ताज महल को डिज़ाइन किया था। (Read Full Post) 

#13). हम्पी गाँव और मंदिर – Hampi – हम्पी मध्यकालीन हिन्दू राज्य विजयनगर साम्राज्य की राजधानी था। तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित यह नगर अब ‘हम्पी’ के नाम से जाना जाता है। यह प्राचीन शानदार नगर अब मात्र खंडहरों के रूप में ही अवशेष अंश में बची है। यहाँ के खंडहरों को देखने से यह सहज ही प्रतीत होता है कि किसी समय में हम्पी में एक समृद्धशाली सभ्यता निवास करती थी। (Read Full Post) 

#14). हवा महल – Jaipur Hawa Mahal – हवा महल भारत के गुलाबी शहर जयपुर में स्थित एक राजसी-महल है। हवामहल का मतलब है कि हवाओं की एक जगह। यानी कि यह एक ऐसी अनोखी जगह है, जो पूरी तरह से ठंडा रहता है। हवामहल को साल 1799 में महाराज सवाई प्रताप सिंह ने बनवाया था। इस पांच मंजिला इमारत को बहुत ही अनोखे ढंग से बनाया गया है। यह ऊपर से तो केवल डेढ़ फुट चौड़ी है और बाहर से देखने में किसी मधुमक्खी के छत्ते के समान दिखती है। इस हवामहल में 953 छोटी खिड़कियां हैं जिससे ठंडी और ताजी हवा आती रहती है। जिसके कारण यह जगह बिल्कुल ठंडी रहती है। यह महल लाल और गुलाबी बलुआ पत्थरो से बना हुआ है। (Read Full Post)

#15). साँची स्तूप – Sanchi Stupa – साँची स्तूप बौद्ध स्मारक हैं, जो कि तीसरी शताब्दी ई.पू. से बारहवीं शताब्दी के बीच के हैं। यह स्तूप एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है जो भोपाल शहर से लगभग 46 किमी दूर मध्यप्रदेश के साँची गाँव में स्थित है। यहाँ तीन स्तूप हैं और ये देश के सर्वाधिक संरक्षित स्तूपों में से एक हैं। ‘साँची’ 1989 में यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल सूची में शामिल हैं। (Read Full Post)

#16). जलमहल – Jal Mahal – जल महल एक सुंदर महल है जो पिंक सिटी जयपुर के मानसागर झील के मध्‍य स्थित है। इस महल को 18वी शताब्दी में आमेर के महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा बनवाया गया था। यह महल अरावली पहाडिय़ों के गर्भ में बसा सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र है। (Read Full Post)

#17). कमल मंदिर – Lotus Temple – कमल मंदिर भारत के नयी दिल्ली में स्थित एक मंदिर है जो की उन्नीसवीं सदी के ईरान में सन 1844 मे स्थापित एक नया धर्म, बहाई धर्म का हैं। यह अपने फुल जैसे आकार के लिये प्रसिद्ध है जिसे मॉडर्न भारत का 20वी शताब्दी का ताज महल भी कहा जाता है। ये एक ऐसा मंदिर हैं जिसमे किसी भी धर्म का व्यक्ति इस मंदिर पर जाके प्राथना कर सकता हैं। (Read Full Post) 

#18). अजंता गुफाएँ – Ajanta Caves – अजंता की गुफाएं, महाराष्‍ट्र राज्‍य के औरंगाबाद जिले में स्थित है। अजंता और एलोरा की गुफाओं में ज्‍यादा दूरी नहीं है व दोनों ही गुफाएं महत्‍वपूर्ण ऐतिहासिक केन्‍द्र है। अजंता की गुफाएं लगभग 200 साल ईसा पूर्व की बनी हुई है। चट्टानों को काटकर बनाए गए इन गुफाओं में हिंदू, बौद्ध और जैन धर्म के चित्र, मूर्ति व अन्‍य कलाकृति लगी हुई है। अजंता की गुफाओं को सन 1983 में यूनेस्‍को द्वारा विश्‍व विरासत स्‍थल का दर्जा दिया गया है। (Read Full Post)

#19). ग्वालियर किल्ले – Gwalior fort – ग्वालियर क़िला मध्य प्रदेश में स्थित एक प्रसिद्ध किला हैं। यह किला ग्वालियर शहर का प्रमुखतम स्मारक है। किले का निर्माण 8वीं शताब्दी में राजा मान सिंग तोमर द्वारा किया गया था। तीन वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैले इस किले की ऊंचाई 35 फीट है। शहर के कोने-कोने से इस क़िले को देखा जा सकता है। यह मध्यकालीन भारतीय वास्तुकला के श्रेष्ठ उदाहरणों में से एक है। (Read Full Post)

#20). भीमबेटका – Bhimbetka – भीमबेटका गुफाएं एवं चट्टानों से बने आश्रय स्थल मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में स्थित हैं। यह आदि-मानव द्वारा बनाये गए शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। इन चित्रो को पुरापाषाण काल से मध्यपाषाण काल के समय का माना जाता है। महाभारत के एक पौराणिक चरित्र भीम के नाम पर आधारित भीमबेटका भारत की प्राचीन गुफाओं में से एक है। इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है। ये जगह चारों ओर से विंध्य पर्वत श्रेणी से घिरे हुए हैं। भीमबेटका में पायी जाने वाली कुछ कलाकृतियाँ तो तक़रीबन 30,000 साल पुरानी है। यहाँ की गुफाये हमें प्राचीन नृत्य कला का उदाहरण भी देती है। (Read Full Post) 

#21). रानी की वाव – Rani ki vav – रानी की वाव भारत के गुजरात राज्य के पाटण ज़िले में स्थित प्रसिद्ध बावड़ी (सीढ़ीदार कुआँ) है। 23 जून, 2014 को इसे यूनेस्को के विश्व विरासत स्थल में सम्मिलित किया गया। यह बावड़ी एक भूमिगत संरचना है जिसमें सीढ़ीयों की एक श्रृंखला, चौड़े चबूतरे, मंडप और दीवारों पर मूर्तियां बनी हैं जिसके जरिये गहरे पानी में उतरा जा सकता है। यह सात मंजिला बावड़ी है जिसमें पांच निकास द्वार है और इसमें बनी 800 से ज्यादा मूर्तियां आज भी मौजूद हैं। यह बावड़ी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के तहत संरक्षित स्मारक है। (Read Full Post) 

#22). खजुराहो मंदिर – Khajuraho Temple – खजुराहो में चंदेल राजाओं द्वारा बनवाए गए ख़ूबसूरत मंदिरो का समूह हैं। यहां बहुत बड़ी संख्या में प्राचीन हिन्दू और जैन मंदिर हैं। यहां की प्रतिमाऐं विभिन्न भागों में विभाजित की गई हैं। जिनमें प्रमुख प्रतिमा परिवार, देवता एवं देवी-देवता, अप्सरा, विविध प्रतिमाऐं, जिनमें मिथुन (सम्भोगरत) प्रतिमाऐं भी शामिल हैं तथा पशु व व्याल प्रतिमाऐं हैं, जिनका विकसित रूप कंदारिया महादेव मंदिर में देखा जा सकता है। यह भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त, छत्तरपुर ज़िले में स्थित एक छोटा-सा क़स्बा हैं। खजुराहो समूह भी यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में शामिल है। (Read Full Post)

#23). हुमायूँ का मकबरा – Humayun Tomb – मुगल सम्राट हुमायूँ का मकबरा दिल्ली के प्रसिद्ध दीनापनाह अर्थात् पुराने किले के पास स्थित है। इस मकबरे को हुमायूँ की याद में उनकी पत्नी हामिदा बानो बेगम द्वारा ने सन् 1571 में बनवाया था। 1993 में इस मकबरे को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट घोषित किया गया था और तभी से यह मकबरा पुरे विश्व में प्रसिद्ध है। (Read Full Post) 


और अधिक लेख –

Please Note : – Historical Places in India Information In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे। धन्यवाद।

2 thoughts on “भारत के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल | Historical Places in India In Hindi”

  1. Priyanka Tiwari

    आपके बेवसाईट पर दी गई जानकारी बहुत ही महत्वहपूर्ण एवं उपयोगी हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published.