अनार खाने के फायदे और गुण, नुक्सान | Pomegranate Benefits in Hindi

सेहत को स्वस्थ और तंदुरुस्त रखने के लिए अनार (Pomegranate) बेहद ही फायेदमंद हैं। अनार हमें कई बीमारियों से बचाता हैं साथ ही वजन घटाने और ताकतवर बनाने में भी मदद करता हैं। अनार की सबसे अच्छी बात यह है कि यह पूरे साल उपलब्ध रहता है। यह एक रामबाण औषधि है जो अनेकों बिमारियों का उपचार है। अनार में कई तरह के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं लेकिन मुख्य रूप से विटामिन ए, सी, ई, फोलिक एसिड और एंटी ऑक्सीडेंट पाये जाते हैं।

अनार खाने के फायदे और गुण, नुक्सान | Pomegranate Benefits in Hindiयह फल ओमेगा-6 फैटी एसिड का भी एक अच्छा स्रोत है। अनार का फल ही नहीं अपितु इसका हर एक अंश शरीर के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। अनार के पेड़ की जड़ें, पत्तियां, छिलका, बीज आदि सभी औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग की जाती हैं। यह पाचन शक्ति को बेहतर करता है, वीर्य गठन को बढ़ाता है, स्मृति को सक्रिय करता है, हवा, पित्त, कफ की वजह से शरीर में हुए असंतुलन को ठीक कर देता है, हीमोग्लोबिन के गठन को बेहतर बनाता है और एक बहुत अच्छा रक्त शोधक है। आइये जाने अनार खाने के लाभ और गुण

अनार में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व – Pomegranate Nutrition Facts in Hindi

क्रमांक
अनार में पाये जाने वाले तत्व
1कैल्शियम
2एंटीऑक्सीडेंट
3पॉली अनसेचुरेटेड फेटी एसिड
4ओमेगा 5
5एलगिस एसिड
6फास्फोरस
7पोटेशियम
8फॉलिक एसिड
9विटामिन A, C, E
10राइबोफ्लेविन
11थायमिन
12फाइबर

अनार खाने के फायदे और गुण – Pomegranate Benefits for Health in Hindi

ब्लड बढ़ाने में अनार हैं सहायक :- ब्लड का स्तर बढ़ाने के लिए डॉक्टर सबसे पहले अनार खाने के लिए कहते हैं। अनार के बीज शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं, इससे रक्त बनता हैं। एनीमिक मरीज के लिए अनार बहुत जरुरी हैं। प्रतिदिन अनार के जूस से शरीर में रक्त का संचालन अच्छी तरह से होता है।

बुढापा आने से बचाए :- अनार एंटीऑक्सीडेंट का बहुत ही अच्छा स्रोत है। इसलिए यह शरीर की कोशिकाओं को फ्री रेडिकल्स से बचाता है, जिससे आप वक्त से पहले बूढ़े नहीं दिखते। फ्री रेडिकल्स का निर्माण सूर्य की रोशनी और वातावरण में मौजूद विषैले तत्व से होता है।

प्राकृतिक ब्लड थीनर :- खून दो तरह से जमते हैं। पहला तो कटने या जलने की स्थिति में खून जमता है, जिससे खून का बहाव रुक जाता है। वहीं दूसरे तरह का खून आंतरिक रूप से जमता है, जो बहुत ही खतरनाक होता है। मसलन हृदय या धमनी में खून जम जाने से इसका परिणाम प्राणघातक भी हो सकता है। अनार में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण खून के लिए वही काम करता है, जो पेट के लिए थीनर करता है। यह शरीर में खून को जमने या थक्का बनने से रोकता है।

इम्यून सिस्टम को मजबूत करता :- अनार में वायरस और बैक्टेरिया से लड़ने का गुण पाया जाता हैं जिससे इम्युनिटी बढ़ती हैं। यह मुँह में पाए जाने वाले रोगाणुओं जिससे, केविटी पनपती हैं, को भी खत्म करता हैं। अनार में मौजूद तत्व दंत पट्टिका (प्लाक) के खिलाफ संरक्षण प्रदान करने में सक्षम होते हैं। पट्टिका गठन को कम करके, यह दंत क्षय, पायरिया, मसूड़े की सूजन और कृत्रिम दांतों स्टोमेटिटिस जैसी दंत समस्याओं के जोखिम को कम कर देते हैं। अनार एक अकेला फल हैं जो एच.ई.वी संकरण को रोकता है। इस तरह अनार इम्यून सिस्टम को मजबूत करता हैं।

एथेरॉसक्लेरॉसिस से रोकता है :- बढ़ती उम्र और गलत खानपान से रक्तवाहिनी की दीवार कोलेस्ट्रोल व अन्य चीजों से कठोर हो जाती है, जिससे रक्त के बहाव में अवरोध पैदा होता है। अनार का एंटीऑक्सीडेंट गुण कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन और कोलेस्ट्रोल को ऑक्सीडाइजिंग से रोकता है। यानी अनार रक्तवाहिनी की दीवार को अतिरिक्त वसा से कठोर होने से बचाता है।

ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाता :- अनार का जूस खून में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाता है। इसका एंटीऑक्सीडेंट कोलेस्ट्रोल को कम करता है, फ्री रेडिकल्स से बचाता है और खून का थक्का बनने से रोकता है। यानी अनार शरीर में खून की प्रवाह को बेहतर बनाता है, जिससे खून में ऑक्सीजन का स्तर भी सुधरता है।

गठिया रोग से रोकथाम :- अनार गठिया रोग से पीड़ित व्यक्ति के कार्टिलेग को नुकसान पहुंचने से बचाता है। यह फल कार्टिलेग को नष्ट करने वाले एंजाइम से लड़ता है और जलन और सूजन से भी सुरक्षा प्रदान कराता है।

रक्त के शुगर लेवल को कंट्रोल करता :- अनार जूस में फ्रुक्टोज होता हैं जिससे रक्त का शुगर लेवल नहीं बढ़ता। अन्य फ्रूट और ज्यूस मधुमेह के रोगियों को कम खाने की सलाह दी जाती हैं लेकिन वे अनार का सेवन कर सकते हैं।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन से बचाता है :- अनार लज्जनजक स्थिति निर्मित होने से भी बचाता है। पर ध्यान रहे, यह कोई आश्चर्यजनक दवा नहीं है। अनार इलेक्टाइल डिसफंक्शन को सामान्य रूप से ही सुधारता है। हालांकि इस विषय को लेकर शोध कार्य जारी है, फिर भी इस फायदे के पक्ष में कई लोग हैं।

एनीमिया से पीड़ित रोगियों के लिए फायदेमंद :- अनार एनीमिया से पीड़ित रोगियों के लिए एक संजीवनी बूटी के सामान है। यह शरीर में लौह की कमी को पूरा कर रेड ब्लड सेल्स की संख्या को भी बढ़ाता है। यह रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा में बढ़ोतरी कर उसके प्रवाह में भी सुधार लाता है। इसके अलावा यह विटामिन सी से भी भरपूर होता है जो लौह के अवशोषण में सहायता करता है।

प्रोस्ट्रेट कैंसर और दिल की बीमारी से सुरक्षा :- अनार का जूस प्रोस्ट्रेट कैंसर से लड़ने में मदद करता है। एक प्रयोगशाला परीक्षण में पाया गया कि अनार का जूस कैंसर सेल के विकास को धीमा कर उसे मार देता है। एक अन्य प्रयोग में यह तथ्य सामने आया कि अनार खून की स्थिति को सुधारता है, जिससे हृदय से संबंधित बीमारी से ग्रसित रोगी को स्वास्थ्य लाभ मिलता है।

चेहरे के लिए फायदेमंद :- अनार का रस त्वचा के लिए बहुत लाभकारी होता हैं इससे चेहरे पर झुर्री नहीं आती लेकिन इसका रोजाना इस्तेमाल ही ऐसे प्रभाव देता हैं। यह चेहरे को दाग धब्बे और डार्क सर्किल से भी बचाता हैं।अनार का रस सभी तरह की त्वचा के लिए फायदेमंद हैं। यह सुखी त्वचा को अंतरिम नमी देता हैं जिससे चेहरे में निखार आता हैं। यह तेलीय त्वचा के लिए भी फायदेमंद हैं यह पिम्पल से राहत दिलाता हैं। यह सीबम के उत्पादन को नियंत्रित करता हैं।

दस्त से राहत :- अगर आप दस्त से जूझ रहे हैं तो अनार खाना अच्छा रहता है। इसका जूस मिचली पैदा होने से भी बचाता है।

ब्लड प्रेशर को कम :- अनार का रस रक्त के दवाब को बनाये रखता हैं जिससे ब्लडप्रेशर नियंत्रित रहता हैं। यह दिल के मरीज को बहुत अधिक लाभ देता हैं। रक्त वाहिकाओं की सुजन कम करता हैं। यह एक प्राकृतिक एस्प्रिन की तरह काम करता हैं। अनार खून को पतला रखता हैं रक्त के थक्के जमने नहीं देता।

वजन नहीं बढाता :- अनार से वजन नहीं बढ़ता है, क्योंकि यह बिना कैलोरी वाला फल है।

हड्डी बने मजबूत :- इस फल से हड्डी को मजबूती मिलती है और कार्टिलेग को विकृत होने से बचाता है। अनार के रस के सेवन से जोड़ो के दर्द या अन्य हड्डी के दर्द में राहत मिलती हैं क्यूंकि यह अंदरूनी और बाहरी सुजन को कम करता हैं

अल्जाइमर रोग को घटाता है :- अल्जाइमर रोग जैसी याददाश्त से संबंधित बीमारी से निजात दिलाने में भी अनार काफी उपयोगी होता है। 2013 में हुए एक शोध में पाया गया कि अनार दिमाग की क्रियाओं में सुधार लाता है और उम्र-सम्बंधित दिमाग की समस्याओं को भी ठीक करता है।

पाचन तंत्र को सुधरता हैं :- अनार में बहुत अधिक फाइबर होते हैं जो घुलनशील एवम अघुलनशील दोनों ही तरह के हैं। जिससे पाचन तंत्र अच्छा रहता हैं और इसके इसी गुण के कारण वजन कम करने में इसे सहायक फल माना गया हैं क्यूंकि इसमें सैचुरेटेड एसिड होता हैं और कॉलेस्ट्रोल नहीं होता। पेट, लीवर और ह्रदय की गतिविधी को दुरुस्त रखने में अनार सहायक फल हैं।

गर्भवती महिलाओं के लिए अनार बहुत फायदेमंद :- अनार उन महिलाओं के लिए अत्यंत फायदेमंद होता है जो गर्भवती होने का प्रयास कर रहीं हैं। यह गर्भाशय में रक्त प्रवाह को बढ़ा उसे सशक्त कर देता है और गर्भपात के खतरे को खत्म कर देता है। अनार में विटामिन C और K के साथ-साथ फोलिक एसिड भी होता है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास को बढ़ावा देता है। यह शरीर को चिंता एवं तनाव से भी मुक्त कराने में सहायक है जो गर्भ धारण करने में और समग्र स्वस्थ्य में सुधार लाने में मदद करता है।

हार्ट अटैक और स्ट्रोक के खतरे से बचाता हैं :- अनार के सेवन से हार्ट अटैक और स्ट्रोक के खतरे को भी कम किया जा सकता है।

इन बातों का ध्यान रखे – 

  • यह ध्यान रखे अनार का पूरा एक फल खाना चाहिये क्यूंकि अनार के सभी दाने गुणकारी हो जरुरी नहीं इसलिए इसे आधा या मिल बाँट कर ना खायें। एक पुरे अनार का सेवन करे। यह शरीर के लिए बहुत लाभकारी हैं।
  • अनार का रस फ्रेश बनाकर खाना ज्यादा हितकारी होता हैं। बाजार के ज्यूस में मिलावट के साथ हानिकारक तत्व भी हो सकते हैं।
  • आप एक सप्ताह तक अनार को कमरे के सामान्य तापमान पर स्टोर कर सकते हैं। यदि आप उन्हें फ्रिज में रखना चकते हैं तो उन्हें प्लास्टिक में लपेट कर रखें। अनार के ताज़ा बीज को 3 से 4 दिनों के लिए फ्रिज में रखा जा सकता है।
  • अनार के बीज खाने के बाद यदि आपको खाद्य एलर्जी के लक्षण दिखें, उसका सेवन करना तुरंत रोक दें और अपने चिकित्सक से परामर्श लें। अनार के रस का सेवन रक्त-सम्बंधित दवाइयों के साथ डॉक्टर की सलाह लेने के पश्चात ही करना चाहिए।

अनार के हानिकारक –

  • अनार उन लोगो को नहीं लेना चाहिए जिसे किसी भी तरह की एलर्जी हैं अनार का सेवन उस एलर्जी को बढ़ा सकता हैं।
  • अनार में मौजूद एंज़ाइम लिवर में मौजूद कुछ एंज़ाइमों के कामकाज में बाधा कर सकते हैं। यदि आप लिवर विकारों के लिए किसी भी विशिष्ट दवा पर हैं, तो इस फल या इसके रस लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • अनार ब्लडप्रेशर को नियंत्रित करता हैं अगर इसके सेवन के साथ मेडिसिन भी ली जाए तो इफ़ेक्ट गलत हो सकता हैं क्यूंकि ब्लडप्रेशर पर फल और मेडिसिन दोनों अपना प्रभाव छोड़ेंगे। इसलिए डॉकटरी परामर्श के बाद ही ले।
  • आप एक डाइट पर हैं और अपने कैलोरी की मात्रा को देख रहे हैं, तो यह फल या इसका रस लेने से बचें। अनार से कैलोरी में इजाफा होता है। यह वजन बढ़ने का कारण भी बन सकता है।

और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *