पीरियड्स में दर्द का कारण और इलाज – Periods me Dard ka Ilaj

पीरियड्स महिलाओं को होने वाली आम समस्या है। इसे हिंदी में माहवारी या मासिक धर्म के नाम से जाना जाता हैं, इस दौरान होने वाले दर्द को डिस्मेनोरिया भी कहा जाता है। माहवारी की उम्र में लगभग हर महिला को एक बार तो इस पीड़ा से गुज़रना ही पड़ता है। माहवारी के दौरान किसी महिला को बहुत ज्‍यादा दर्द महसूस होता है तो किसी को कम। मासिक धर्म के दौरान निचले पेल्विक हिस्‍से में दर्द महसूस होता है। ये दर्द जांघों, पैरों, पीठ और कभी-कभी सीने में भी हो सकता है। अधिकतर मामलो में पहली बार माहवारी होने पर लड़कियों को सबसे ज्‍यादा दर्द होता है। यहां पर जानते हैं मासिक धर्म की तकलीफों से बचने के लिए कुछ घरेलु आसान उपाय –

Periods me Dard ka Ilaj

पीरियड्स में दर्द का कारण – Period me Pain kyu Hota hai in Hindi

महिलाओं के शरीर में बनने वाला प्रोस्टाग्लैंडीन रसायन मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं का कारण है। जो ऊतक (tissue) गर्भाशय का अंदरूनी अस्तर बनाता है वही इन रसायनों को भी बनाता है। प्रोस्टाग्लैंडीन गर्भाशय की मांसपेशियों में संकुचन को बढ़ाता है। जिन महिलाओं में अधिक मात्रा में प्रोस्टाग्लैंडीन पाया जाता है उनमें संकुचन अधिक होने के कारण मासिक धर्म में दर्द भी अधिक होता है।

घरेलू उपचार – Periods ke Dard ke Upay

1). अदरक – Adrak Se Periods ka Ilaj

पीरियड्स में दर्द के दौरान अदरक का सेवन भी तुरंत राहत पहुंचाता है। एक कप पानी में अदरक के टुकड़े को बारीक काटकर उबाल लें। चाहें तो इसमें स्वादानुसार शक्कर भी मिलाएं। दिन में तीन बार भोजन के बाद इसका सेवन करें।

2). पपीता का इस्तेमाल  – Papita for Periods Pain in Hindi

पपीता पाचन क्रिया को मजबूर बनाने का काम करता है। पीरियड्स के दौरान इसका सेवन करने से दर्द में आराम मिलता है। इसके लिए कच्चे पपीते का जूस बनाकर पिएं या अपने मासिक चक्र के बीच में रोज पपीता खाएं।

3). हर्बल चाय पिएं – Herbal Tea for Periods Treatment in Hindi

हर्बल टी भी पीरियड्स के दर्द को दूर करने के लिए बहुत अच्छा उपाय मानी जाती है। यह दर्द निवारक पदार्थ के रूप में कार्य करती है। आप चाहें तो ग्रीन टी या कैमोमाइल टी का सेवन कर सकती हैं। हर्बल टी में कई तरह के पोषक तत्व और एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं, जो मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को दूर करने का काम करते हैं।

4). अजवायन से राहत – Ajwain se Mahwari ka Ilaj

पीरियड्स आने में देरी हो रही हैं तो अजवायन का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके लिए 150 ml पानी में 6 ग्राम अजवायन को उबाल लें और दिन में 3 बार इसे पिएं। इसके अलावा 2 बार अजवायन की चाय पिएं।

5). गर्म पानी की बोतल या हीटिंग पैड यूज करें – Garm Pani se Masik Dharm ka Ilaj

आप हॉट वॉटर बैग, हीटिंग पैड या फिर कांच की बोतल में गर्म पानी भरकर उससे पेट और कमर के निचले हिस्से की करीब 10-15 मिनट तक सिंकाई करें. कई स्टडीज में यह बात साबित भी हो चुकी है कि गर्म पानी की सिंकाई, पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को दूर करने के लिए ली जाने वाली दवाइयों की तरह ही काम करता है।

6). पेपरमिंट या लैवेंडर ऑइल से करें मालिश – Period Pain Relief Tips in Hindi

लैवेंडर और पेपरमिंट का ऑइल भी पीरियड्स के दर्द को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है। 1 से 2 चम्मच नारियल तेल और जोजोबा के तेल में 3 से 4 बूंद लैवेंडर का तेल या फिर 3 से 4 बूंद पेपरमिंट का तेल मिला लें और फिर पेट व कमर के निचले हिस्से में हल्के हाथ से मालिश करें।  इससे दर्द को दूर करने में मदद मिलती है।

7). डेयरी उत्पाद – Pet Periods Dard ka Gharelu Ilaj Hindi

दूध और दूध के बने उत्पाद का सेवन महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है। जिन महिलाओं के शरीर में कैल्शियम की कमी होती है उन्हें मासिक धर्म से संबंधित समस्याएं अधिक होती हैं। ऐसे में न सिर्फ पीरियड्स बल्कि हमेशा दूध व डेयरी उत्पाद का सेवन महलिओं के बहुत जरूरी है क्योंकि इनमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है।

Tips – ध्यान देनेवाली बात यह हैं की माहवारी के दौरान खट्टी चीजों से हमेशा परहेज करें। ये शरीर के अंगों में सूजन पैदा करते हैं। इसके अलावा बैंगन, मीट, पीला कद्दू और आलू का सेवन पहले से ही बंद कर दें।

Also, Read More:- 

Leave a Comment

Your email address will not be published.