शेयर बाजार की जानकारी | Share Market in Hindi | Stock Market ki Jankari

इंटरनेट से पैसा कमाने के कई तरीके हैं इन्ही में एक तरीका शेयर मार्किट (Share Market) का हैं, इसे Stock Market भी कहते हैं, जहा से आप घर बैठे पैसा कमा सकते हैं। आइये जाने शेयर मार्किट क्या हैं और इससे पैसा कैसे कमाते हैं..

शेयर बाजार की जानकारी | Share Market in Hindi | Stock Market ki JankariShare Market या Stock Market क्या हैं – What is Share Market in Hindi?

शेयर का मतलब ही होता हैं हिस्सा,  शेयर मार्केट एक ऐसा मार्केट है जहाँ बहुत से कम्पनीज के शेयर्स ख़रीदे और बेचे जाते हैं। शेयर बाजार की भाषा में बात करें तो शेयर का अर्थ है कंपनियों में हिस्सा। उदाहरण के लिए एक कंपनी ने कुल 10 लाख शेयर जारी किए हैं। आप कंपनी के प्रस्ताव के अनुसार जितने अंश खरीद लेते हैं आपका उस कंपनी में उतने का मालिकाना हक हो गया जिसे आप किसी अन्य खरीददार को जब भी चाहें बेच सकते हैं। यह एक ऐसी जगह है जहाँ कुछ लोग या तो बहुत पैसे कमा लेते हैं या तो अपने सारे पैसे गवा देते हैं। आप जितने पैसे लगायेंगे उसी के अनुसार से कुछ प्रतिशत के मालिक आप उस कंपनी के हो जाते हैं। जिसका मतलब ये है की अगर उस कंपनी को भविष्य में मुनाफा होगा तो आपके लगाये हुए पैसे से दुगना पैसा आपको मिलेगा और अगर घाटा हुआ तो आपको एक भी पैसे नहीं मिलेंगे यानि की आपको पूरी तरह से नुकसान होगा। आप जितने चाहे कंपनी के शेयर खरीद सकते हैं।

शेयर मार्केट में शेयर कैसे ख़रीदे – Share Market Share Kaise Kharide?

Share Market / शेयर मार्किट में शेयर आप डायरेक्ट अपने बैंक अकाउंट के जरिये नहीं खरीद सकते। इसके लिए आपको एक Demate Trading account खुलवाना होगा। इसके भी दो तरीके हैं, पहला किसी Broker यानि की दलाल के पास जाकर एक Demat account खोल सकते हैं। दूसरा आप बैंक में खुलवा सकते हैं। इसके लिए आपके पास किसी बैंक एक सेविंग अकाउंट रहना चाहिए, जोकि आपके Demate account से लिंक रहेगा। Demat account में हमारे Share के पैसे रखे जाते हैं जिस तरह की हम किसी बैंक के खाते में अपना पैसा रखते हैं ठीक उसी तरह। अगर आप शेयर मार्किट में निवेश कर रहे हैं तो आपका Demat account होना बहुत ही जरुरी है। क्यूंकि कंपनी को मुनाफा होने के बाद आपको जितने पैसे मिलेंगे वो सारे पैसे आपके Demat account में जायेंगे। यहाँ से आप अपने बैंक अकाउंट में पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं।

शेयर आप तीन तरीको से खरीद सकते हैं  – Stock Market se Share Kaise Kharide 

  1. खुद ऑनलाइन खरीद सकते है.
  2. दलाल (Broker) के जरिये.
  3. Indian Public Offering (IPO) के जरिये.

शेयर मार्किट में शेयर कब ख़रीदे – 

शेयर मार्किट में पैसा लगाने से पहले शेयर मार्किट की पूरी जानकारी आपके पैसा होनी चाहिए, क्यूंकि ये एक ऐसा प्लेटफार्म हैं जहा पर जितना प्रतिशत पैसा कमाने का चांस रहता हैं उतना ही पैसा गवाने का भी रहता हैं। इन्वेस्ट करने से पहले उस कंपनी की जानकारी रहना चाहिए, की किस कंपनी का शेयर बढ़ रहा या घट रहा हैं। इसलिए शुरुआत में छोटा-छोटा इन्वेस्ट करे और एक्सपीरियंस ले। सबसे महत्वपूर्ण बात की इस क्षेत्र में भी कई कम्पनिया फ्रॉड रहती हैं। जो की शेयर इन्वेस्ट करने के बाद पैसा लेके भाग जाती हैं। इसलिए संभल के पैसा लगाए।

हालाँकि इसमें भी कई ब्रोकर्स होते हैं जो की स्टॉक मार्किट का ही सदस्य होते हैं। ये आपको सुझाव देंगे की किस में पैसा लगाए। कंपनी जब शेयर जारी करती है उस वक्त किसी व्यक्ति या समूह को कितने शेयर देना हैं यह उसका विवेकाधीन अधिकार है। बाजार से शेयर बाजार खरीदने/बेचने के लिए कई शेयर ब्रोकर्स होते हैं जो उनके तय पारिश्रमिक (लगभग 2 फीसदी) लेकर अपने ग्राहकों को यह सेवा देते हैं।

शेयर में कब और कैसे बदलते हैं प्राइस? 

सबसे पहले आईपीओ लाते वक्त शेयर्स के Price कंपनी निर्धारित करती हैं लेकिन एक बार आईपीओ पूरा हो जाने के बाद Shares का मूल्य निर्धारित करने में कंपनी का कोई Role नहीं होता और Shares के मूल्य स्वतन्त्र रूप से shares की Deemand और Supply के आधार पर Stock एक्सचेंज द्वारा निर्धारित किये जाते हैं।

अगर ख़रीदे जाने वाले शेयर की तुलना में बेचे जाने वाले शेयर की संख्या कम होगी तो शेयर के Price बढ़ेंगे और अगर बेचे जाने वाले शेयर की तुलना में ख़रीदे जाने वाले शेयर की संख्या कम होगी तो Share Price कम होगी।

शेयर बाजार में लिस्टेड होने के लिए कंपनी को बाजार से लिखित समझौता करना पडता है, जिसके तहत कंपनी अपनी हर हरकत की जानकारी बाजार को समय-समय पर देती रहती है, खासकर ऐसी जानकारियां, जिससे निवेशकों के हित प्रभावित होते हों। इन्हीं जानकारियों के आधार पर कंपनी का मूल्यांकन होता है और इस मूल्यांकन के आधार पर मांग घटने-बढ़ने से उसके शेयरों की कीमतों में उतार-चढाव आता है। अगर कोई कंपनी लिस्टिंग समझौते के नियमों का पालन नहीं करती, तो उसे डीलिस्ट करने की कार्रवाई सेबी करता है।

भारत में 2 Stock Exchange है – Stock Exchange in India 

  • NSE – National Stock Exchange
  • BSE – Bombay Stock Exchange

शेयर मार्किट में SENSEX और NIFTY क्या हैं? What is SENSEX and NIFTY in Hindi

Sensex बोम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक (Index) हैं और Sensex का निर्धारण BSE में लिस्टेड टॉप 30 कंपनियों के मार्केट कैपिटलाइजेशन (कंपनीयों का कुल मूल्य) के आधार पर किया जाता हैं। Sensex BSE की टॉप 30 कंपनियों के प्रदर्शन को प्रदर्शित करता हैं। अगर सेंसेक्स बढ़ता हैं तो इसका मतलब हैं कि BSE में रजिस्टर्ड अधिकांश कंपनियों ने अच्छा प्रदर्शन किया हैं और इसी तरह अगर सेंसेक्स गिरता हैं तो इसका मतलब यह हैं कि अधिकांश कंपनियों का प्रदर्शन ख़राब रहा हैं।

Nifty नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक (Index) हैं और इसका निर्धारण NSE में लिस्टेड टॉप 50 कंपनियों के के मार्केट कैपिटलाइजेशन (कंपनीयों का कुल मूल्य) आधार पर किया जाता हैं। अगर Nifty बढ़ता हैं तो इसका मतलब यह हैं कि NSE में रजिस्टर्ड कंपनियों ने अच्छा प्रदर्शन किया हैं और अगर Nifty घटता हैं तो इसका अर्थ यह हैं कि NSE की कंपनियों ने बुरा प्रदर्शन किया हैं।

Stock Market में ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती हैं – Types of Trading in Stock Market in Hindi

1). इंट्रा-डे ट्रेडिंग (Intra Day Trading) – इंट्रा-डे ट्रेडिंग में एक ही दिन में शेयर खरीद कर उसे बेच दिया जाता है। मार्केट खुलने के बाद आप शेयर खरीदते हैं और मार्केट बंद होने से पहले उसे बेच देते हैं।

2). स्कैल्पर ट्रेडिंग (Scalper Trading) – यह शेयर ट्रेडिंग का ऐसा तरीका है, जिसमें शेयर को खरीदने के 5-10 मिनट के अंदर ही बेच दिया जाता है। यह बहुत जोखिम भरा होता हैं।

3). स्विंग ट्रेडिंग (Swing Trading) या शार्ट टर्म ट्रेडिंग – स्विंग ट्रेडिंग थोड़े लंबे समय के लिए किया जाता है। इसमें आम तौर पर शेयर खरीदने के बाद उसकी डीमैट अकाउंट में डिलीवरी ले ली जाती है। इसे कुछ दिनों के अंदर बेचा जाता हैं।

4). LONG TERM ट्रेडिंग – जब आप किसी शेयर को खरीद कर लंबी अवधि के लिए रख लेते हैं तो उसे Long term ट्रेडिंग कहते हैं। स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने के बाद अगर आप एक निवेशक के रूप में किसी शेयर में 6 महीने से लेकर कुछ साल तक बने रहें तो यह लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग है। यह थोड़ा सेफ होता हैं।

बात पते की 

शेयर मार्किट में पैसा बनाना बहुत आसान है उसी प्रकार शेयर बाजार में पैसा खोना भी बहुत आसान है। इससे बचा जा सकता है अगर आप स्वंय शेयर बाजार के बारे में अधिक से अधिक जानकारी एकत्र करें,शोध करें और दूसरों के दिये टिप्स पर न जायें। शेयर बाजार एक खतरनाक खेल है, इसमें कूदने से पहले इसके बारे में अधिक से अधिक जानकारी ले लेना बहुत आवश्यक है। मगर इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि शेयर मार्किट में निवेश करने के लिए कोई अलग तरह की प्रतिभा या योग्यता ही चाहिए। कोई भी कोशिश करके शेयर बाजार की जानकारी ले सकता है।


और अधिक लेख –

Please Note : – Share Market In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे।

2 thoughts on “शेयर बाजार की जानकारी | Share Market in Hindi | Stock Market ki Jankari”

Leave a Comment

Your email address will not be published.