पपीता के गुण और खाने के फायदे | Papaya Benefits in Hindi

Papaya Benefits / पपीता एक ऐसा फल है, जो कच्चा और पका हुआ दोनों ही रूप में खाया जाता है। इस पौष्टिक और रसीले फल से कई विटामिन मिलते हैं, नियमित रूप से खाने से शरीर में कभी विटामिन्स की कमी नहीं होती। पपीता न सिर्फ सेहत के लिए बल्कि यह बालों व स्किन के लिए भी अच्छा होता है। बीमार व्यक्ति को दिए जाने वाले फलों में पपीता भी शामिल होता है, क्योंकि इसके एक नहीं, अनेक फायदे हैं। आइये जाने पपीता के फायदे और गुण..

पपीता के गुण और खाने के फायदे | Papaya Benefits in Hindiपपीता (Papita) विटामिन A और B के गुणो से भरपूर है। पपीता फल के रूप मे खाया जाता है साथ ही साथ इसका उपयोग जूस, जेली, जैम बनाने के लिए भी किया जाता है। इतना ही नहीं पपीते को सलाद के रूप में भी खाया जा सकता है। यानी सलाद खाएं सेहत बनाएं। कई लोग पपीते को फ़ेस पेक के रूप मे भी उपयोग करते है।

पपीता में पाए जाने वाले पोषक तत्व – Papaya Nutrition Facts in Hindi

प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, बी और सी के साथ ही कुछ मात्रा में विटामिन-डी भी मिलता है। पपीता पेप्सिन नामक पाचक तत्व का एकमात्र प्राकृतिक स्रोत है। इसमें कैल्शियम और कैरोटीन भी अच्छी मात्रा में मिलता है। इसके अलावा फॉस्फोरस, पोटेशियम, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट्स, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन भी होता है। पपीता सालभर बाजार में उपलब्ध होता है।

पोषक तत्व
मात्रा
पोटेशियम182 mg
कार्बोहाइड्रेट11 gm
शुगर8 gm
प्रोटीन0.5 gm
विटामिन A19%
विटामिन C101%
फाइबर1.7 gm
कॉपर13%

पपीता के फायदे और गुण – Papaya Nutrition Facts in Hindi

1). पपीता (Papaya) पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इससे पाचन तंत्र ठीक रहता है और पेट के रोग भी दूर होते हैं। इसमें विशेष रूप से एंजाइम होते हैं, जो मांसाहारी आहार करने वालों के लिए भी लाभकारी है, क्योंकि यह हाई कैलोरी मांसाहारी भोजन को पचाने में भी मदद करता है।

2). पपीता पेट के लिए किसी रामबाण औषधि से काम नहीं हैं यह पेट के तीन प्रमुख रोग आम, वात और पित्त तीनों में ही राहत पहुंचाता है। यह आंतों के लिए उत्तम होता है। साथ पपीता के सेवन से दाद, खाज, खुजली दूर हो जाती है।

3). पपीते के सेवन से चेहरे पर झुर्रियां पड़ना, बालों का झड़ना, बवासीर, चर्मरोग, अनियमित मासिक धर्म आदि अनेक बीमारियां दूर हो जाती है।

4). महिलाओं, लड़कियों को होने वाली मासिक परेशानी में पपीता खाने से बहुत आराम मिलता है। इसमें पापिन नाम का एंजाइम होता है, जो उस समय शरीर में होने वाले दर्द, परेशानी को कम करता है।

5). पपीता खाने से शरीर में हार्मोन बदलते है, और तनाव, गुस्से के समय में ये शांत करता है।

6). पपीते में बड़ी मात्रा में विटामिन-ए होता है। इसलिए यह आंखों और त्वचा के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है। इससे आंखों की रोशनी तो अच्छी होती ही है, त्वचा भी स्वस्थ, स्वच्छ और चमकदार रहती है।

7). पपीते के सेवन से अर्थराइटिस के दर्द और कैंसर जैसर बीमारियों से राहत मिलती हैं, हालांकि इससे बीमारी को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता लेकिन ये इन बीमारियों से होने वाले दर्द और अन्य़ समस्याओं से निजात दिलवाता है।

8). पपीते के सवेन से न सिर्फ हाई ब्लड प्रेसर को नियंत्रित किया जा सकता है बल्कि ये ऊर्जा बढ़ाने में भी कारगर है।

9). जिन लोगों को बार-बार सर्दी-खांसी होती रहती है, उनके लिए पपीते का नियमित सेवन काफी लाभकारी होता है। इससे इम्यून सिस्टम मज़बूत होता है।

10). यह हृदय रोगियों और डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। यह उच्च कोलेस्ट्राल स्तर को कम करने में मदद करता है।

11). जिन लोगों को बहुत अधिक कब्ज की शिकायत रहती है उनके लिए पपीता किसी औषधी से कम नहीं।

12). त्वचा पर अगर कहीं कट लग गया है या उसमें सूजन, जलन है तो पपीते को उस जगह लगाकर आराम मिलता है।

13). यदि किसी के पेट में कीड़े है तो पपीते के बीज और छिलके इस बीमारी को दूर करने में फायदेमंद है।

14). अगर किसी व्यक्ति को पीलिया होता है तो पपीता बहुत ही फायदेमंद होता है।

15). पपीता खाने से शरीर अंदरूनी रूप से स्वस्थ रहता है जिस कारण हमें सर्दी, खांसी, जुकाम जैसी बीमारियां भी नहीं होती।

16). लंबी उम्र पाने और लंबे समय तक जवान रहने के लिए पपीता खाना लाभाकारी है।

17). पपीता बवासीर रोग मे भी फायदेमंद है पपीता खाने से कब्ज नही होती तो बवासीर रोग मे भी लाभ होता है।

18). हृदय, नाड़ियों तथा पेशियों की क्रिया ठीक रखने में भी पपीते के सेवन से मदद मिलती है। साथ ही पपीते में कैल्शियम भी खूब मिलता है। इसलिए यह हड्डियां मजबूत बनाता है।

19). इसमें बढ़ते बच्चों के बेहतर विकास के लिए ज़रूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। शरीर को पोषण देने के साथ ही रोगों को दूर भी भगाता है।

20). पपीता स्किन के साथ साथ बालों के लिए भी अच्छा होता है। पपीते का पेस्ट बालों में लगाने से बाल लम्बे घने होने है। इसके साथ ही रुसी की परेशानी दूर होती है।

21). पपीता विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट्स से भी भरपूर होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जिसके चलते यह कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में काफी असरदार है।

पपीता के नुक्सान – Papaya Side Effects in Hindi

1). पपीता खाने के कई फायदे हैं, लेकिन पपीता के कुछ दुष्प्रभाव और उनके उपयोग से सम्बंधित कुछ चेतावनियां भी हैं।

2). स्तनपान करा रही माताओं को भी पपीते का सेवन डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही करना चाहिए।

3). पपेन, पपीता में मौजूद एंजाइम, एक शक्तिशाली एलर्जीन है। अतः पपीता के अत्यधिक सेवन से नाक में कंजेशन, घरघराहट, हे फीवर, दमा आदि जैसे विभिन्न श्वसन विकार आपके शरीर को अपना शिकार बना सकते हैं।

4). पपीते का सेवन एक साल से कम उम्र वाले शिशुओं के लिए उपयुक्त नहीं है।

5). बहुत अधिक पपीता खाने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम में समस्या उत्पन्न हो सकती है, जिससे कि आपको ब्लोटिंग, पेट-दर्द, उबकन आदि परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

पपीता खाने का तरीका – Papita Khane ka Sahi Tarika 

पपीता को सुबह नाश्ते के बाद और दोपहर को लंच से पहले खाना चाहिए। जो लोग दुबले पतले हैं उन्‍हें पपीता लंच के बाद ही खाना चाहिए। दरअसल खाने के बाद पपीता खाने से वजन बढ़ता है। आम को कभी भी खाया जा सकता है लेकिन अगर इसे भोजन से 1 घंटे पहले या बाद में खाया जाए तो बेहतर होता हैं।

FAQ

Q. पपीता कब नहीं खाना चाहिए?

Ans – डिनर के बाद पपीता नहीं खाना चाहिए, क्योंकि अत्यधिक फाइबर युक्त होने के कारण इस समय इसे पचाना पाचन तंत्र के लिए थोड़ा मुश्किल काम होता है।

Q. क्या बुखार में पपीता खाना चाहिए?

Ans – खांसी और जुकाम की दिक्कत होने पर पपीता खाने से परहेज करना चाहिए।

Q. खाली पेट पपीता खाने के क्या फायदे हैं?

खाली पेट पपीता खाने से हमारे शरीर में विषाक्त पदार्थों को बाहर करने में मदद कर सकता है। पाचन तंत्र (Digestion System) को बेहतर करने और पाचन एंजाइमों की उपस्थिति के कारण आंत को हेल्दी रखने में मदद कर सकते हैं। यह पाचन संबंधी विकारों को दूर रखने के लिए भी जाना जाता है जैसे पेट फूलना (Flatulence), पेट खराब होना और कब्ज।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *