हिमाचल प्रदेश के दर्शनीय व पर्यटन स्थल | Himachal Pradesh Tourism in Hindi

Himachal Pradesh Tourism Place / हिमाचल प्रदेश सैलानियों के लिए भारत में मनोरंजन और पर्यटन के लिए पसंदीदा स्थान है। यह राज्य हिमालय की तलहटी की शांति में बसा है। भौगोलिक दृष्टि से हिमाचल प्रदेश के पूर्व में तिब्बत पश्चिम में पंजाब , और उत्तर में जम्मू और कश्मीर जैसे राज्यों से घिरा हुआ है। मुख्य रूप से देवभूमि या देवताओं की भूमि के नाम से लोकप्रिय ये राज्य आने वाले पर्यटकों के लिए स्वर्ग है यहां की हरियाली, बर्फ से ढंकी हुई चोटियां, बर्फीले ग्लेशियर, मनमोहक झीलें आने वाले किसी भी पर्यटक का मन मोहने के लिए काफी है।

हिमाचल प्रदेश के दर्शनीय व पर्यटन स्थल | Himachal Pradesh Tourism in Hindi

हिमाचल प्रदेश के दर्शनीय व पर्यटन स्थल – Himachal Pradesh Tourism Place in Hindi

हिमाचल प्रदेश, भारत के उत्तर में स्थित राज्य है जो अपनी खूबसूरती, प्रकृति और शांत वातावरण के कारण हर साल पूरी दुनिया के लाखों पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है। दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखला हिमालय, हिमाचल प्रदेश से ही गुज़रती हैै। खूबसूरत और आकर्षक हिल स्टेशनों वाला यह राज्य भारत का टाॅप पर्यटन स्थल है।

आकर्षक पहाड़ी क्षेत्र हिमाचल प्रदेश का इतिहास बहुत समृद्ध और विविध है। इतिहासकारों ने जो सबसे चैंकाने वाले तथ्य ढूंढे हैं उनमें कुछ दो मिलीयन साल पुराने हैं, जिसमें प्रागैतिहासिक काल के लोगों के कांगड़ा और सिरसा घाटी में रहने के प्रमाण मिले हैं।

हिमाचल प्रदेश प्राचीन काल में इस क्षेत्र की जनजातियों का दास कहा जाता था। बाद की शताब्दियों में पर्वतीय हिस्सों के मुखिया लोगों ने मौर्य, कुषण, गुप्त राजवंशों की अधीनता स्वीकार की। 19वीं शताब्दी में रणजीत सिंह ने इस क्षेत्र के अनेक भागों को अपने राज्य में मिला लिया। जब अंग्रेज यहां आये, तो उन्होंने गौरखा लोगों को पराजित करके कुछ राजाओं की रियासतों को अपने साम्राज्य में मिला लिया। 1950 में हिमाचल प्रदेश के एक राज्य बन जाने के बाद ब्रिटिश भारत की गर्मियों की राजधानी रहे शिमला को इस राज्य की राजधानी बना दिया गया।

यहाँ पर्यटन तेजी से बढ़ रहे उद्योगों में से एक है और यही कारण है की प्रतिवर्ष राज्य की आय में भी भारी इजाफा हो रहा है। राज्य के पर्यटन में आये तेज उछाल के चलते यहां बीते कुछ वर्षो में होटल और रिजोर्ट में बढोत्तरी हुई है जो राज्य की प्रगति और विकास के लिए एक अच्छा संकेत है।

हिमाचल प्रदेश में सर्दियां बेहद कड़ाके की होती हैं और गर्मियों के मौसम में ज्यादा गर्मी नहीं पड़ती। हिमाचल प्रदेश घूमने का सबसे अच्छा समय वसंत का है जो कि फरवरी से अप्रैल का होता है।

राज्य के प्रमुख 12 जिले अपनी मनमोहक साईट सीइंग, धार्मिक स्थलों, फिशिंग, पर्वतारोहण, पैर ग्लाइडिंग , ट्रेकिंग, रिवर राफ्टिंग, गॉल्‍फ, पैराग्‍लाइडिग, स्कीइंग के कारण हमेशा से ही दुनिया भर के पर्यटकों का ध्यान अपनी और आकर्षित करते आये हैं।

हिमाचल प्रदेश में देखने लायक स्थान – Himachal Pradesh Tourist Place in Hindi

1). शिमला

यह राजधानी शहर होने के साथ साथ पर्यटन के लिहाज से देश में सबसे मशहूर जगह है। ब्रिटिश काल से ही शिमला एक लोकप्रिय हिल स्टेशन रहा है। कई पुरानी इमारतें शानदार ब्रिटिश वास्तुकला की याद दिलाती हैं और आज के इस आधुनिक शहर को पुराना फ्लेवर भी देती हैं। इस शहर ने अपना भरापूरा साम्राज्य 12 किमी. के विस्तृत शैली शिखर पर फैला हुआ है। प्रकृति ने अपना प्यार जी भर कर प्राकृतिक सौंदर्य के रुप में यहां की वादियों पर बरसाया है।

2). कालीबाड़ी

यहां पर मंदिर में मां स्यामल देवी की पूजा-अर्चना की जाती है तथा साथ में ही यह दोनों देवी की मूर्तियों जयपुर से लाकर यहां प्रतिष्ठित की गई थी। दुर्गापूजा पर विशेष उत्सव मनाया जाता है। सम्पूर्ण वातावरण बंगाली संस्कृति की भीनी-भीनी महक से ओतप्रोत है।

3). रोहतांग दर्रा

मनाली से 150 किलोमीटर की दूरी पर और एक हजार एक सौ ग्यारह मीटर की उंचाई पर केलोंग हाईवे पर रोहतांग दर्रा स्थित है। यहां आकर आपको महसूस होगा कि दुनिया में सबसे ऊपर विशाल हिमालय पर्वत बांहे फैलाए आपका स्वागत कर रहा है।

4). धर्मशाला

धर्मशाला की ऊंचाई 1,250 मीटर (4,400 फीट) और 2,000 मीटर (6,460 फीट) के बीच है। यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है, जहां पाइन के ऊंचे पेड़, चाय के बागान और इमारती लकड़ी पैदा करने वाले बड़े वृक्ष ऊंचाई, शांति तथा पवित्रता के साथ यहां खड़े दिखाई देते हैं। वर्ष 1960 से, जब से दलाई लामा ने अपना अस्‍थायी मुख्‍यालय यहां बनाया, धर्मशाला की अंतरराष्‍ट्रीय ख्‍याति भारत के छोटे ल्‍हासा के रूप में बढ़ गई है।

5). चंबा

यह एक लुभावना हिमालयी शहर है और हिमाचल प्रदेश के कई आकर्षणों में से एक है। यह खूबसूरत शहर डलहौजी से 50 किलोमीटर की दूरी पर है। इस शहर में ना सिर्फ सुंदर लैंडस्केप बल्कि कुछ बेहतरीन नक्काशीदार मंदिर भी हैं।

6). कांगड़ा

धार्मिक भाव रखने वाले लोगों के लिए यह पसंदीदा जगह है। कांगड़ा अपने प्राचीन मंदिरों के लिए मशहूर है। एडवेंचर खेलों की चाह रखने वालों और प्रकृति पे्रमियों के लिए यह जगह स्वर्ग से कम नहीं है।

7). कुल्लू

यह विशाल हिमालय की सबसे शानदार घाटियों में से एक है। यह आकर्षक कुल्लू घाटी ब्यास नदी के दोनों ओर फैली है। कुल्लू घाटी संुदर ही नहीं विशाल भी है और इसकी चैड़ाई दो किलोमीटर और लंबाई करीब आठ किलोमीटर है। एक हजार एक सौ तीस मीटर की ऊंचाई पर स्थित कुल्लू की आबादी 381571 है।

8). मनाली

मनाली हिमाचल प्रदेश राज्य में स्थित कुल्लू घाटी का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल होने के साथ ही भारत का प्रसिद्ध पर्वतीय स्थल भी है। कुल्‍लू से उत्तर दिशा में केवल 40 किलो मीटर की दूरी पर लेह की ओर जाने वाले राष्‍ट्रीय राजमार्ग पर घाटी के सिरे के पास मनाली स्थित है। लाहुल, स्‍पीति, बारा भंगल (कांगड़ा) और जनस्‍कर पर्वत श्रृंखला पर चढ़ाई करने वालों के लिए यह एक मनपसंद स्‍थान है। मंदिरों से अनोखी चीजों तक, यहां से मनोरम दृश्‍य और रोमांचकारी गतिविधियां मनाली को हर मौसम और सभी प्रकार के यात्रियों के बीच लोकप्रिय बनाती हैं।

9). क्राइस्ट चर्च

भारत में हिमाचल प्रदेश के इस चर्च की गिनती प्राचीनतम चर्चा में की जाती है। रंगीन काँच व नक्काशीदार चर्च की शोभा देखते ही बनती है। यह चर्च 1857 ई. में निर्मित किया गया था।

10). डलहौजी

पश्चिमी हिमाचल प्रदेश में डलहौज़ी नामक यह पर्वतीय स्‍थान पुरानी दुनिया की चीजों से भरा पड़ा है और यहां राजशाही युग की भाव्‍यता बिखरी पड़ी है। यह लगभग 14 वर्ग किलो मीटर फैला है और यहां काठ लोग, पात्रे, तेहरा, बकरोटा और बलूम नामक 5 पहाडियां है। इसे 19वीं शताब्‍दी में ब्रिटिश गवर्नर जनरल, लॉड डलहौज़ी के नाम पर बनाया गया था। इस कस्‍बे की ऊंचाई लगभग 525 मीटर से 2378 मीटर तक है और इसके आस पास विविध प्रकार की वनस्‍पति-पाइन, देवदार, ओक और फूलों से भरे हुए रोडो डेंड्रॉन पाए जाते हैं डलहौज़ी में मनमोहक उप निवेश यु‍गीन वास्‍तुकला है जिसमें कुछ सुंदर गिरजाघर शामिल है। यह मैदानों के मनोरम दृश्‍यों को प्रस्‍तुत करने के साथ एक लंबी रजत रेखा के समान दिखाई देने वाले रावी नदी के साथ एक अद्भुत दृश्‍य प्रदर्शित करता है जो घूम कर डलहौज़ी के नीचे जाती है। बर्फ से ढका हुआ धोलाधार पर्वत भी इस कस्‍बे से साफ दिखाई देता है।

मार्च से जून का महीना इस घाटी को घूमने आने का सबसे अच्छा समय है, लेकिन अगर कोई हिमालय की सर्दियों के मज़े लेना चाहे तो दिसंबर से फरवरी के बीच भी आ सकता है। हरे भरे घास के मैदान, तेज बहते झरने, पहले कभी ना देखे ऐसे फूल और कुल मिलाकर सारा नज़ारा कुल्लू को धरती का स्वर्ग बनाता है।

11). कुफरी

अनंत दूरी तक चलता आकाश, बर्फ से ढकी चोटियां, गहरी घाटियां और मीठे पानी के झरने, कुफरी में यह सब है। यह पर्वतीय स्‍थान शिमला के पास समुद्री तल से 2510 मीटर की ऊंचाई पर हिमाचल प्रदेश के दक्षिणी भाग में स्थित है। कुफरी में ठण्‍ड के मौसम में अनेक खेलों का आयोजन किया जाता है जैसे स्‍काइंग और टोबोगेनिंग के साथ चढ़ाडयों पर चढ़ना। ठण्‍ड के मौसम में हर वर्ष खेल कार्निवाल आयोजित किए जाते हैं और यह उन पर्यटकों के लिए एक बड़ा आकर्षण है जो केवल इन्‍हें देखने के लिए यहां आते हैं। यह स्‍थान ट्रेकिंग और पहाड़ी पर चढ़ने के लिए भी जाना जाता है जो रोमांचकारी खेल प्रेमियों का आदर्श स्‍थान है।

12). छितकुल

इस गांव के निवासी यहां के प्राकृतिक परिवेश अहेलादी हो उठते हैं। यहां पर हर तरफ अनेक प्रकार के फलों के बगीचे शोभायमान होते हैं। स्वच्छन्द व मदमस्त वातावरण में उन्मुक्त होकर सरपट दौड़ लगाते कुलाचें भरते हिरणों के झुंड, समा देखते ही बनता है। जिसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है।

13). डल झील

धर्मशाला से 11 किलोमीटर दूर और समुद्र स्तर से 1775 मीटर की उंचाई पर स्थित डल झील एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। हरे भरे देवदार के पेड़ों के जंगल से घिरी ये झील मक्लिओडगंज और नद्दी गांव के बीच स्थित है। ये झील यहाँ आने वाले ट्रेकर के लिए एक बेस कैम्प के तौर पर भी काम कारती है। यहाँ झील के किनारे हर साल सितम्बर के महीने में वार्षिक मेले का आयोजन किया जाता है जो की पर्यटकों का एक प्रमुख आकर्षण होता है। इस झील के बारे में ये भी मान्यता है कि कोई भी व्यक्ति इस झील में स्नान कर ले तो उसके समस्त दुखों का निवारण हो जायगा साथ साथ ही उसे भगवान् शिव कि कृपा प्राप्त होगी। साथ ही इस झील के पास एक मंदिर भी घूमने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है बताया जाता है कि ये मंदिर एक ऋषि दुर्वासा को समर्पित है।

कैसे जाएँ 

हिमाचल प्रदेश राज्य में तीन हवाई अड्डे हैं, इनमें कुल्लू और मनाली के पास भुंतुर, धर्मशाला के पास गग्गल हवाई अड्डा और शिमला के पास जुबरहट््टी शामिल हैं। साथ ही सभी प्रमुख शहरों में रेलवे स्टेशन हैं। शिमला, पालमपुर और जम्मू रेलवे स्टेशन काफी लोकप्रिय हैं और इनमें देश के सभी हिस्सों से रेलें आती हैं। राज्य का सड़क नेटवर्क बहुत विकसित है और उत्तर भारत के सभी प्रमुख शहरों से यह जुड़ा है।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.