जम्मू कश्मीर की जानकारी, इतिहास | Jammu kashmir information in hindi

Jammu kashmir / जम्मू और कश्मीर भारत का महत्वपूर्ण राज्य है। ये भारत के सबसे उत्तर में स्थित हैं। यहाँ के निवासियों अधिकांश मुसलमान हैं, किंतु उनकी रहन-सहन, रीति-रिवज एवं संस्कृति पर हिंदू धर्म की पर्याप्त छाप है। कश्मीर के सीमांत क्षेत्र पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सिंक्यांग तथा तिब्बत से मिले हुए हैं। कश्मीर अपनी खूबसूरती के लिए दुनिया भर में प्रसिद्द हैं। चारों ओर बिछी हुई बर्फ की सफेद चादर, देवदार तथा चीड़ के पेड़ों से गिरते बर्फ के टुकड़े सच में यहाँ आने वालों को नई दुनिया का आभास देते हैं। सर्दियों में जम्मू-कश्मीर के उन पर्यटनस्थलों का नजारा जिन्हें शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता और एक बानगी देखने पर हर शख्स कह उठता है: ‘अगर धरती पर कहीं स्वर्ग है तो यहीं है, यहीं है, यहीं है।’ पूरी दुनिया से लगभग लाखो शैलानी यहां हर साल घूमने आते हैं। आइये जाने जम्मू कश्मीर के बारे में और अधिक जानकारी- 

जम्मू कश्मीर की जानकारी और तथ्य - Information & History of Jammu and Kashmir in Hindiजम्मू कश्मीर की जानकारी और तथ्य – Information & History of Jammu and Kashmir in Hindi

1). जम्मू और कश्मीर राज्य की स्थापना 26 अक्टूबर 1947 में हुई थी।

2). भारत की स्वतन्त्रता के समय राजा हरि सिंह यहाँ के शासक थे, जो अपनी रियासत को स्वतन्त्र राज्य रखना चाहते थे।

3). आज़ादी के समय कश्मीर में पाकिस्तान ने घुसपैठ करके कश्मीर के कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया। बचा हिस्सा भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर का अंग बना।

4). भारतीय जम्मू और कश्मीर के तीन मुख्य अंचल हैं : जम्मू (हिन्दू बहुल), कश्मीर (मुस्लिम बहुल) और लद्दाख़ (बौद्ध बहुल)।

5). जम्मू और कश्मीर की राजधानी ग्रीष्म काल में श्रीनगर और शीतकाल में जम्मू होती है।

6). पहाडी क्षेत्र होने के कारण यहॉ का तापमान वर्ष भर ठण्ड रहता है।

7). कश्मीर का अधिकांश भाग चिनाब, झेलम, तथा सिन्धु नदी की घाटियों में स्थित है।

8). श्री नगर का प्रमुख उघोग कश्मीरी शाल की बुनाई है जो सम्राट बाबर के समय से चली आ रही है।

9). मई से अक्टूबर महीने में जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट श्रीनगर में होता है तथा नवम्बर से अप्रैल माह के लिए जम्मू स्थानान्तरित कर दिया जाता है।

10). इस राज्य में जिलों की संख्या 22 है।

11). इस राज्य की राजकीय भाषा ‘उर्दू’ है।

12). इस राज्य का क्षेत्रफल 222236km है।

13). इस राज्य की प्रमुख नदीयां झेलम, चेनाब, सिन्धु हैं।

14). इस राज्य के सबसे बडे शहर गुलमर्ग, कारगिल, पहलगाम, लेह, लदृाक, श्रीनगर हैं।

15). इस राज्य का राजकीय पशु ‘हंगुल’ है।

16). इस राज्य का राजकीय पक्षी काले गर्दन वाला ‘सारस’ है।

17). इस राज्य का राजकीय वृक्ष ‘चिनार’ है।

18). इस राज्य का राजकीय फूल ‘कमल’ है।

19). यहॉ की प्रमुख फसलें धान, गेहूॅ, मक्का, जौ, बाजरा, ज्वार आदि है।

20) भारतीय संविधान की धारा 370 के अन्तर्गत जम्मू कश्मीर राज्य को विशेष संवैधानिक प्रावधान दिये गये है।

21). इस राज्य में राज्यसभा की 4 और लोकसभा की 6 सीटें है।

22). पर्यटन जम्मू और कश्मीर की अर्थव्यवस्था का आधार रहा है।

22). प्राचीनकाल में कश्मीर (महर्षि कश्यप के नाम पर) हिन्दू और बौद्ध संस्कृतियों का पालना रहा है।

23). कश्मीर घाटी में जल की बहुलता है। अनेक नदी नालों और सरोवरों के अतिरिक्त कई झीलें हैं।

24). पाकिस्तान कश्मीर के उत्तरी इलाके (“पाक अधिकृत कश्मीर”) या तथाकथित “आज़ाद कश्मीर” के हिस्सों पर क़ाबिज़ है, जबकि चीन ने अक्साई चिन पर कब्ज़ा किया हुआ है। भारत इन कब्ज़ों को ग़ैरक़ानूनी मानता है जबकि पाकिस्तान भारतीय जम्मू और कश्मीर को एक विवादित क्षेत्र मानता है।

25). कश्मीर में स्थित झेलम या बिहत, वैदिक काल में ‘वितस्ता’ तथा यूनानी इतिहासकारों एवं भूगोलवेत्ताओं के ग्रंथों में ‘हाईडसपीस’ के नाम से प्रसिद्ध है।

26). जम्मू-कश्मीर राज्य में प्रचुर खनिज साधन हैं किंतु अधिकांश अविकसित हैं। कोयला, जस्ता, ताँबा, सीसा, बाक्साइट, सज्जी, चूना पत्थर, खड़िया मिट्टी, स्लेट, चीनी मिट्टी, अदह (ऐसबेस्टस) आदि तथा बहुमूल्य पदार्थों में सोना, नीलम आदि यहाँ के प्रमुख खनिज हैं।

27). जम्मू-कश्मीर पर्वतीय धरातल होने के कारण यातायात के साधन अविकसित हैं। पहले बनिहाल दर्रे (9,290 फुट) से होकर जाड़े में मोटरें नहीं चलती थीं किंतु दिसंबर, 1956 ई. में बनिहाल सुरंग के पूर्ण हो जाने के बाद वर्ष भर निरंतर यातायात संभव हो गया है। पठानकोट द्वारा श्रीनगर का नई दिल्ली से नियमित हवाई संबंध है। अब पठानकोट से जम्मू तक रेल की भी सुविधा हो गई है। लेह तक भी जीप के चलने योग्य सड़क निर्मित हो गई है। वहाँ भी एक हवाई अड्डा है।

28). राज्य में यूँ तो कई पर्यटन स्थल हैं जहाँ जाने की चाहत हर आने वाले पर्यटक की होती है पर गुलमर्ग, सोनमर्ग, पहलगाम तथा पटनीटाप जाए बिना शायद ही कोई रह पाता हो। इनमें से पहले तीन तो कश्मीर वादी मेंअलग-अलग दिशाओं में हैं तो चौथा पटनीटाप जम्मू संभाग में कश्मीर की ओर जाते हुए रास्ते में पड़ता है।

29). गुलबर्ग कश्मीर संभाग के बारामूला जिले में स्थित है। यह श्रीनगर से 57 किलोमीटर की दूरी पर है। यात्री बस से श्रीनगर से गुलमर्ग दो घंटों में पहुँचा जा सकता है। गुलमर्ग में स्कीइंग, गोल्फ कोर्स, विश्व की सबसे ऊँची केबल कार और ट्रैकिंग के अलावा सूफी संत बाबा ऋषि की दरगाह है।


और अधिक लेख – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here