कुत्ते के काटने पर घरेलू उपचार | Dog Bite Treatment In Hindi

2

कुत्ते के काटने के आयुर्वेदिक घरेलू उपचार | Dog Bite Treatment In Hindiकुत्ता एक ऐसा जानवर हैं जो पालतू और वफादार होता हैं। घर में कुछ लोग इन्हें पालना पसंद करते हैं. तो कुछ अपने घर की रखवाली के लिए इन्हें घर में बांधते हैं। लेकिन जितना प्यारा ये जानवर हैं उतना खतरनाक भी हैं। अगर गलती से काट ले और सही उपचार न हो तो संक्रमक हो सकता है, कई बीमारियों का शिकार हो सकते। घर के पालतू कुत्ते के काटने पर किसी प्रकार के इन्फेंकशन होने का या जहर फैलने का खतरा नहीं रहता जितना की गली मोहोल्लों के कुत्तो के काटने पर रहता हैं। क्यूंकि घर के कुत्तो को पहले ही लोग इंजेक्शन लगवा देते हैं। गलियों में घुमने वाले कुत्तों को इंजेक्शन नहीं लगे होते। गली में घुमने वाले कुछ कुत्ते पागल तथा घायल भी होते हैं। इसलिए उनके काटने पर शरीर में इन्फेक्शन होने का या जहर फैलने का डर रहता हैं। जब कुत्‍ता आपको काटे तो इसका इलाज आपको कई चरणों में करना पड़ता है। लेकिन यह सब जख्‍म की गंभीरता और हालात पर भी निर्भर करता है। यदि कभी कुत्ता काट लें और डाक्टर न मिलें तो तुरंत उपनाये ये घरेलू आयुर्वेदिक उपाय।

लक्षण –

कुत्ते के काटने (Dog Bite) पर शरीर के जिस भाग पर कुत्ते ने कटा है। वो भाग पूरा लाल हो जाता हैं, कुत्ते के दांत बहुत ही नुकीले होते हैं जिससे उनके काटते ही खून निकलने लगता हैं तथा दर्द होता हैं।

इन बातो का ख्याल रखे –

  • सबसे पहले इस जख्‍म से खून बहने को रोकें नहीं। लेकिन अगर खून बहुत तेजी से और बहुत ज्‍यादा बह रहा हो, तो इस पर ज्‍यादा ध्‍यान देने की जरूरत है
  • पांच मिनट बाद जख्‍म को दबाकर देखें कि क्‍या खून का बहना रुक रहा है अथवा नहीं। अगर ऐसा न हो, तो फौरन आपातकालीन चिकित्‍सीय सहायता प्राप्‍त करने का प्रयास करें। अगर खून रुक जाए तो जख्‍म को नल के बहते पानी के नीच रखकर उसे पांच साफ करें। आप माइल्‍ड सोप से अपने जख्‍म को साफ भी करें।
  • आवारा कुत्‍ते के काटने पर इस बाबत आप नगर निगम को सूचित करें। वह इस कुत्‍ते को पकड़कर ले जाएंगे। इसके साथ ही आपको फौरन रेबीज का टीका भी लगवाना चाहिये। अगर आपको काटने वाला कुत्‍ता पागल या पैरालाइज हो या फिर उसका व्‍यवहार अजीब हो तो भी फौरन आप चिकित्‍सक से संपर्क कीजिये। हां किसी भी प्रकार की परिस्थिति में अपने जख्‍मों को साफ करना न भूलें।

कुत्ते के काटने के आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार – 

  • पिसी हुए लाल मिर्च जख्म पर तत्काल बांध देने से कुत्ते का विष नष्ट हो जाता हैं। यदि मिर्चा की तेजी ना महसूस हो तो समझे कि वह कुत्ता पागल था।
  • आक की काली, धतूरे की जड़ और पुनर्नवा की जड़ को शहद के साथ पीसकर घाव पर लगाए कुत्ते का विष नष्ट हो जाएगा।
  • मुर्गे की बीट पानी में पीसकर कुत्ते के काटे स्थान पर लेप करने से लाभ होता है।
  • पोटास परमैग्नेट के गहरे घोल की फुरैरी घाव पर लगाएं और चिरचिटे की 15 पतिया, सात काली मिर्च में पीसकर सुबह शाम पानी के साथ दे। कुत्ते का विष शीघ्र ही नष्ट हो जाएगा।
  • गेहूं के आटे की कच्ची रोटी को कटे स्थान पर बांधकर कुछ देर बाद उसे उसी कुत्ते को खाने को दें जिसने काटा है। यदि वह कुत्ता रोटी खा ले तो समझें कि कुत्ता पागल नहीं है। और न खाए तो समझें वह पागल था।
  • कड़वी तोरई गुप्ता निकालकर, दे सौ ग्राम पानी में भीगा दे। 4 घंटे बाद मोटे कपड़े में छानकर रोगी को पिलाए। यह प्रयोग 5 दिन तक सुबह-शाम करें कुत्ते का विष नष्ट हो जाएगा।
  • एलोवेरा को एक ओर से छिलकर उसके गूदे पर सेंधा नमक डालकर कुत्ते के काटे वाली जगह पर लगाकर किसी सूती कपड़े से उसे बांध लें और एैसा 2 से 3 दिनों तक लगातार करें। यह कुत्ते के विष का खत्म कर देता है।
  • कुत्ते के काटने पर काली मिर्च सरसों के तेल में पीसकर काटे हुए स्थान पर लेप करने से विष का शमन हो जाता है।
  • चैलाई की जड़ 50 से 100 ग्राम पानी में पीसकर घोलकर बार-बार रोगी को पिलाने से कुत्ते का विष खत्म हो जाता है।
  • शहद के साथ पीसी हुई प्याज को मिलाकर कुत्ते के द्वारा काटी हुई जगह पर लगाने से विष का प्रभाव खत्म हो जाता है।
  • लौंग पीसकर काटे हुए स्थान पर लगाए कुत्ते कभी समाप्त हो जाएगा।
  • प्याज का रस, अखरोट की गिरी को बराबर मात्रा में पिस कर उसमें नमक मिला लें और फिर इसे शहद में मिलाकर कुत्ते के काटे स्थान पर लेप करके पट्टी कर लें। एैसा करने से शरीर पर कुत्ते के विष का प्रभाव नहीं पड़ता।

पागल कुत्ते ने काटा हो तो ये उपचार करे  –

  • शुद्ध ऊनि शाल का ज़रा-सा टुकड़ा लेकर बारीक कतर ले और उसे गुड में रखकर खिला दे। घाव को पोटास परमैग्नेट के पानी या गर्म जल से धो दे। शत-प्रतिशत आराम होगा।
  • एक सौ पच्चीस मि.ग्रा शुद्ध कुचले का चूर्ण शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें तथा कटे हुए स्थान पर अशुद्ध कुचले को घिसकर लगाए। पागल कुत्ते के विष को नष्ट करने की उत्तम औषधि है।
  • हिंग का भी उपयोग आप कुत्ते के काटने के बाद कर सकते हैं। यदि आपको पागल कुत्ते ने काट लिया हैं तो कुत्ते के जहर के प्रभाव से बचने के लिए हिंग की ही सहायता से सर्वोत्तम उपचार किया जा सकता हैं. इसके लिए थोड़ी – सी हिंग लें और उसे पानी के साथ पीस लें। अब इसे घाव पर लगा लें। हिंग के प्रयोग करने से घाव का सारा जहर खत्म हो जायेगा।

कृपया ध्यान रखे कुत्ता के काटने पर बेहतर इलाज के लिए डॉक्टर से मिलना जरुरी हैं। इसलिए एक बार डॉक्टर से जरूर मिले।


और अधिक लेख –

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here