दिल का दौरा क्या हैं? लक्षण व उपचार Heart Attack Ka Desi Ilaj

Heart Attack – हार्ट अटैक घातक और जानलेवा बीमारी हैं। और भारतीयो मे हार्ट अटैक समय से 15 साल पहले होने लगी हैं। इसका मुख्य कारण लोगो का लाइफ स्टाइल हैं। डेब्ल्यूएजओ के अनुसार भारत मे कम-से-कम 30 मिलियन ह्रदय रोगी हैं। अगर समय रहते इस बीमारी का इलाज किया जाए तो इससे बचा जा सकता हैं।

Heart attack kya hota hai & heart attack ke kya lakshan hai,

दिल का दौरा किसे कहते हैं? (About Heart Attacks In Hindi)

दिल का दौरा पड़ने से ह्रदय मांसपेशियों मे खून का थक्का जम जाता हैं। धमनियों मे रुकावट हो जाती हैं। जानकारो के अनुसार ह्रदय की धमनी मे 60 से 70 फीसदी रुकावट से सिने मे तेज दर्द व एंजैइना होता हैं। इसी को हार्ट अटैक कहते हैं।

आप कैसे पहचाने की आपको दिल का दौरा पड़ा हैं? (You may be having a heart attack if you feel in Hindi)

दिल का दौरा पड़ने से सिने के मध्य भाग मे तेज दर्द होता हैं। कई बार सिने मे अत्यधिक दबाव महसूस होता हैं। सिने का दाई बाई ओर से बाएँ हाथ के निचले भाग तक जाता हैं। जबड़े मे दर्द, पीठ-पेट के उपरी हिस्से व गर्दन मे दर्द महसूस होता हैं। सांस लेने मे समस्या, मतली, उल्टी, ज़्यादा पसीना होना आदि मुख्य लक्षण हैं। डायबिटीज़ रोगियों और महिला रोगियो मे दिल के दौरा का पता नही चलता हैं। इसे साइलेंट हार्ट अटेक कहते हैं। हार्ट अटैक के सभी मामलों में से 25 प्रतिशत साइलेंट हार्ट अटैक के होते हैं। कई बार मतली, अत्यधिक थकान, बेहोशी, चक्कर आना और सिने मे दबाव, पीठ के उपरी हिस्से दर्द, अपच, गैस या एसिडिटी के वजह से भी हो सकता हैं। भर्म दूर करने के लिए इसिजि व खून की जाँच करना चाहिए।

  • चलने से छाती मे दर्द होना।
  • छाती मे जलन होना।
  • छाती मे भारीपन होना।
  • छाती मे दर्द, जलन व भारीपन बैठे-बैठे हो और पसीना आएँ तो इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

दिल की बीमारी मे आहार का क्या रोल हैं?

दिल की बीमारी से बचने के लिए व्यक्ति को सामान्य व संतुलित आहार लेना चाहिए। कम नमक वाले खाघ पदार्थ का सेवन करना चाहिए। आहार जानकारो से परामर्श लेकर खाना नर्धारण करना चाहिए। इससे शरीर का वजन नियंत्रित रहता हैं। रोज ताज़ा फल, ताजी सब्जियाँ, साबुत अनाज फलियान, नट व कम प्रोटीन वाले खाघ पदार्थ लेना चाहिए। तंबाकू, शराब का सेवन नही करना चाहिए, इससे कोलेस्ट्रॉल, शुगर लेबल व ब्लड प्रेशर अनियंत्रित हो जाता हैं।

व्यायाम से हमारा शरीर स्वस्थ रहता हैं?

व्यायाम शरीर को स्वस्थ रखता हैं। नियमित व्यायाम व योग से शरीर की चर्बी दूर होती हैं। चिकित्सको की माने तो प्रतिदिन सुबह कम से कम आधा घंटा पैदल चलना चाहिए।

हार्ट अटैक से बचाव के कुछ घरेलू उपाय – Heart Attack Treatment at Home in Hindi

⇒  नियमित रूप से आधा घंटा व्यायाम करना। 
⇒  ब्लड प्रेशर व कोलेस्ट्रॉल के साथ बसा युक्त भोजन का सेवन कम करना। 
⇒  साइकिलिंग, वॉकिंग और हो सके तो स्वीमिंग नियमित रूप से करें।
⇒  अगर चाय पीने का मन हो तो हर्बल या ग्रीन टी ही पियें।
⇒  
पानी में नींबू का रस मिलाकर रोज पीएं।
⇒  फलों में अमरूद, अन्नास, मौसमी, लीची और सेब का इस्तेमाल करें।
⇒  सब्जियों में अरबी और चौलाई जरूर खाएं।
⇒  खाने में दही जरूर खायें।
⇒  दिल को मजबूत करने के लिए देसी घी में गुड़ मिलाकर खाएं।
⇒  अपने कोलेस्ट्रोल स्तर को 130 एमजी/ डीएल तक रखिए।
⇒  अपना सारा भोजन बगैर तेल के बनाएं लेकिन मसाले का प्रयोग बंद नहीं करें।
⇒  हमेशा ही रक्त दबाव को 120/80 एमएमएचजी के आसपास रखे।
⇒  नियमित रूप से आधे घंटे तक टहलना जरूरी।

 

⇒  भोजन में रेशे और एंटी ऑक्सीडेंट्स – भोजन में अधिक सलाद, सब्जियों तथा फलों का प्रयोग करें। ये आपके भोजन में रेशे और एंटी ऑक्सीडेंट्स के स्रोत हैं और एचडीएल या गुड कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

⇒  अगर आप मधुमेह से पीड़ित हैं तो शकर को नियंत्रित रखें- आपका फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए। व्यायाम, वजन में कमी, भोजन में अधिक रेशा लेकर तथा मीठे भोज्य पदार्थों से बचते हुए मधुमेह को खतरनाक न बनने दें। अगर आवश्यक हो तो हल्की दवाओं के सेवन से फायदा पहुँच सकता है।

⇒  अपने वजन को सामान्य रखें – आपका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 25 से नीचे रहना चाहिए। इसकी गणना आप अपने किलोग्राम वजन को मीटर में अपने कद के स्क्वेयर के साथ घटाकर कर सकते हैं। तेल नहीं खाकर एवं निम्न रेशे वाले अनाजों तथा उच्च किस्म के सलादों के सेवन द्वारा आप अपने वजन को नियंत्रित कर सकते हैं।

⇒  लौकी का जूस – लौकी की सब्जी या जूस का रोजाना सेवन आपको हार्ट अटैक के खतरे से बचाता है। इसके अलावा इसे कच्चा खाना भी दिल की बीमारियों के लिए फायदेमंद होता है।

⇒  पीपल के पत्तें – पीपल के 10-12 पत्तों को साफ करके पानी में उबाल लें। कम से कम 15 दिनों तक इसे पीने से हार्ट ब्लॉकेज की समस्या खत्म हो जाती है और हार्ट अटैक का खरता कम होता है।

You May Also Like This :-

Please Note : – Heart attack kya hota hai & heart attack ke kya lakshan hai मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे। Heart attack ka desi ilaj व नयी पोस्ट डाइरेक्ट ईमेल मे पाने के लिए Free Email Subscribe करे, धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published.