सर्दी-जुकाम का घरेलु उपचार, बचाव | Sardi Jukam ka Ilaj in Hindi

Sardi-Jukam / सर्दी-जुकाम खुद कोई गंभीर बीमारी नहीं हैं किन्तु ध्यान नहीं देने पर आगे चलकर यही जुकाम बिगड़कर निमोनिया, साइनोसाइटिस जैसी अनेक बीमारियों का सबब बन जाता है। जुकाम विश्व में सबसे ज्यादा होने वाले संक्रामक रोगों में से एक है। सर्दी अक्सर बहुत आम कारणों से हो जाती हैं। जरा से बदलते मौसम के साथ मनुष्य के शरीर में धरना दे देती है। सर्दी जुखाम से नाक बंद हो जाती है, साँस लेने में तकलीफ होती है। गले में खराश व् बलगम हो जाता है। जुकाम होने पर और भी कई प्रकार की परेशानिया आ जाती हैं जैसे – सर दर्द और बदन होना, खाने-पिने में मन नहीं लगाना। यह देखा जाता है कि इस बीमारी में दवाईयों का असर भी कम होता है। इसके लिए सबसे अच्छा होता है घरेलू यानी देसी नुस्खे का इस्तेमाल करना। तो आइये जाने सर्दी-जुकाम का घरेलु आयुर्वेदिक उपचार..

सर्दी-जुकाम का घरेलु उपचार, बचाव | Sardi Jukam ka Ilaj in Hindiसर्दी-जुकाम होने का कारण – Causes of Common Cold and Cough

  • धूल, धूँआ, मिट्टी, प्रदुषण, बदलता मौसम आदि से एलर्जी के कारण
  • एकदम ठंडी चीजें खा लेना
  • इम्युनिटी पावर कम होना
  • वायरस तथा कभी बेक्टीरिया के इन्फेक्शन होना, इत्यादि जुकाम के कारण हो सकते हैं।
  • इम्युनिटी पावर कम होने एवं एलर्जन* के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होने से जुकाम बार-बार एवं लगातार रहने लगता है।
  • उच्च रक्तचाप, मधुमेह, ह्रदय रोगी, बच्चे तथा वृद्ध लोग जुकाम के प्रति ज्यादा संवेदनशील होते हैं।
  • अधिक सिगरेट पिने से
  • कुछ और शारीरिक परेशानी की वजह से भी सर्दी हो जाती है।

सर्दी-जुकाम का घरेलु उपचार – Cold and Cough Treatment in Hindi

1). अदरक: अदरक सर्दी-जुकाम के लिए बेहद हितकारी दवा हैं। ये बहुत जल्दी अपना असर दिखाता है।
  • सर्दी जुकाम में अदरक का रस और शहद छ:-छ: ग्राम रोज चाटना चाहिए।
  • सर्दी-जुकाम, खांसी और गले की खरास में तुलसी के पत्तों का रस, अदरक व शहद तीनो को समान मात्रा में आपस में मिलाकर रख लें। हर रोज एक-एक चम्मच चार बार ले। तुरंत आराम मिलेगा।
  • तुलसी और अदरख को सर्दी-जुकाम के लिए रामबाण माना जाता है। इसके सेवन से इसमें तुरंत राहत मिलती है। एक कप गर्म पानी में तुलसी की पांच-सात पत्तियां ले। उसमें अदरख के एक टुकड़े को भी डाल दे। उसे कुछ देर तक उबलने दे और उसका काढ़ा बना ले। जब पानी बिल्कुल आधा रह जाए तो इसे आप धीरे-धीरे पी ले। यह नुस्खा बच्चों के साथ बड़ों को भी सर्दी-जुकाम में राहत दिलाने के लिए असरदार होता है।
  • अदरक की चाय सर्दी-जुकाम में भारी राहत प्रदान करती है। सर्दी-जुकाम या फिर फ्लू के सिम्टम में ताजा अदरक को बिल्कुल बारीक कर ले और उसमें एक कप गरम पानी या दूध मिलाए। उसे कुछ देर तक उबलने के बाद पीए। यह नुस्खा आपको सर्दी जुकाम से राहत पाने में तेजी से मदद करता है।
  • इसके अलावा आप अदरक के कुछ टुकड़े दिन में कभी भी चबाएं, गले में खराश इससे दूर होगी।
2). हल्दी: हल्दी एक अच्छी आयुर्वेदिक औषधि है, गर्म प्रवत्ति के होने की वजह से ये सर्दी जुखाम में बहुत जल्दी असर दिखाती है।
  • हल्दी 6 ग्राम, काली मिर्च डेढ़ ग्राम तथा थोड़ा सा कला नमक चार सौ ग्राम पानी में औटाए। जब पानी आधा रह जाए, तो छानकर पी लें और मुंह ढक कर सो जाएं। सर्दी-जुकाम में तत्काल आराम मिलेगा।
  • सर्दी-जुकाम में एक प्याला दूध में एक चम्मच हल्दी डालकर गर्म करें और शक्कर मिलाकर पिला दे जल्दी आराम मिलेगा।
  • सर्दी-जुकाम में हल्दी के टुकड़े मुंह में रखकर चूसते रहने से लाभ होता है।
  • 200 ग्राम हल्दी की गांठे और आधा किलो खाने का चूना लेकर 1 लीटर पानी में मिलाकर मटके में डाल दे। उसे 1 माह तक रखा रहने दे। एक माह के बाद पानी खत्म हो जाएगा जो हल्दी चूना बचे, उसे निकालकर पीस ले और छानकर का चूर्ण बना लें। सर्दी-जुकाम होने पर एक चम्मच चूर्ण, एक चम्मच शहद में मिलाकर रात को सोते समय चाटले सर्दी जुकाम समाप्त हो जाएगा।
  • गर्म पानी या फिर गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर पीने से सर्दी जुकाम में तेजी से फायदा होता है। यह नुस्खा ना सिर्फ बच्चों बल्कि बड़ों के लिए भी कारगर साबित होता है। हल्दी एंटी वायरल और एंटी बैक्टेरियल होता है जो सर्दी जुकाम से लड़ने में काफी मददगार होता है।
  • हल्दी को नमक के साथ गरम करके उसे गरम पानी अथवा दूध के साथ लेने से भी गले के दर्द, खराश में राहत मिलती हैं।
3). नींबू : नीम्बू खाने से विटामिन C मिलता है साथ ही सर्दी-जुकाम के लिए बहुत फायदेमंद औषधि हैं।
  • नींबू और शहद के इस्तेमाल से सर्दी और जुकाम में फायदा होता है। दो चम्मच शहद में एक चम्मच नींबू का रस एक ग्लास गुनगुने पानी या फिर गर्म दूध में मिलाकर पीने से इसमें काफी लाभ होता है।
  • निम्बू से घर में प्राकतिक रूप से सिरप बनायें। इसके लिए 2 tbsp नीम्बू के रस में 1 tbsp शहद मिलाएं व् इसे दिन में कई बार पियें।
  • इसके अलावा नीम्बू के रस में ससद व् कलि मिर्च मिलाकर भी पिया जा सकता है।
4). लहसुन : लहसुन सर्दी-जुकाम से लड़ने में काफी मददगार होता है। लहसुन में एलिसिन नामक एक रसायण होता है जो एंडी बैक्टेरियल, एंटी वायरल और एंटी फंगल होता है।
  • लहसुन की पांच कलियों को घी में भुनकर खाए। ऐसा एक दो बार करने से जुकाम में आराम मिल जाता है। सर्दी जुकाम के संक्रमण को लहसुन तेजी से दूर करता है।
  • लहसुन को क्रश कर ले, अब इसमें कुछ बूंदे लोंग के तेल व् शहद मिलाकर पियें। लहसुन को अपने खाने में भी शामिल करें। जल्द ही सर्दी-जुकाम ठीक हो जाएगी।
  • एक कप पानी में लहसुन की कालियां डालकर उबालें, फिर इसमें 1 tsp ओरीगेनो डाल कर उबालकर, थोडा ठंडा होने दें। अब इसमें शहद डालकर पी लें।
6). शहद : शहद गले की खराश को ख़त्म करता हैं साथ इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व और एन्ज़इम्स हानिकारक वायरस को मारती हैं।
  • 2 माशे से छोटी पीपली का चूर्ण शहद के साथ चाटने पर जुकाम भाग जाएगा।
  • तेजपात के पत्ते छोटी पीपली के साथ पीसकर 1 ग्राम शहद के साथ लेने पर जुकाम दूर हो जाता है।
  • सर्दी-जुकाम में मेहंदी के पत्तों का रस, शहद मिलाकर चाटने से आराम मिलता है।
  • राई को पीसकर शहद में मिलाकर सूंघे। इससे जुकाम दूर हो जाता है।
  • मुलहठी चूर्ण एक चौथाई चम्मच मात्रा में शहद के साथ 2-3 बार चाटना खाँसी (Cough) में तुरन्त आराम देता है।

7). सोंठ : सर्दी-जुकाम में सोंठ के साथ दालचीनी का काढ़ा पकाकर रोगी को देने बहुत हितकर होता है।

8). जीरे : भुने हुए जीरे को सूंघने रहने से सर्दी जुकाम के कारण आने वाली छींके बंद हो जाती है। रुका हुआ जुकाम खुल जाता है।

9). सरसों : सर्दी-जुकाम में सरसों का तेल, दो दो बूंद नथुनों में टपकाएं। नाक साफ रहेगी और जुकाम नहीं होगा।

10). काली मिर्च : रात को सोने से पहले 21 काली मिर्च, ढाई सौ ग्राम पानी में डालकर आग पर चढ़ा दे। फिर इसमें 21 बतासे डाल दें। जब पानी आधा रह जाए, तो उसे छानकर ठंडा कर ले। पीने लायक होने पर रोगी को पिलाए। सुबह तक जुकाम ठीक हो जाएगा।

11). दही : दही में सफेद बुरा मिलाकर सुबह खाने से सर्दी-जुकाम खत्म हो जाता है।

12). भाप लेना : अगर नाक बंद हैं, या बहुत अधिक बलगम आपको तकलीफ दे रहा हैं, तो उबलते पानी को बाल्टी अथवा किसी बड़े बर्तन में डालकर उसकी भाप लेने से तुरंत राहत मिलती हैं। इस पानी में आप नीलगिरी तेल भी मिला सकते है, इससे बहुत जल्दी आराम मिलेगा।

13). तेल की मालिश : सीत की वजह से भी कई बार सर्दी जुखाम हो जाता है। इससे बचने के लिए जरुरी है कि आप शरीर में गर्माहट रखें। इसके लिए आप सरसों के तेल में लहसुन की कलियाँ डाल कर उबालें, अब इसे गुनगुना करके सोने से पहले तलवों व् सीने में लगायें।

14). हर्बल चाय : हर्बल चाय भी सर्दी, खाँसी, जुकाम में बहुत फायदेमंद है।

सर्दी-जुकाम से बचाव – Prevention of Colds and Cough 

  • मौसम के बदलाव खुद को ख्याल रखना चाहिए
  • बार-बार हाथ धोना सर्दी जुकाम से बचने का अच्छा उपाय माना जाता है।
  • जुकाम पीड़ित व्यक्तियों के सम्पर्क में ना आना।
  • अन्य लोगों में संक्रमण ना फैले इस हेतु छींकते एवं नाक साफ करते समय रूमाल या टीश्यू पेपर का उपयोग करना।
  • संक्रमित व्यक्तियों के बर्तन, बिस्तर आदि शेयर ना करना।
  • सुबह बिस्तर से उठकर नंगे पैर ना चलें।
  • बाइक आदि चलाते समय नाक एवं मुँह पर रूमाल बांधना, या मास्क पहनना।
  • ठंड एवं ठंडी हवा से बचना।
  • बरसात के दिनों में भींगने से बचे।

और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.