शहद के फायदे और गुण | Benefits of Honey in Hindi

Benefits of Honey / शहद प्राकृतिक गुणों से भरपूर एक प्राचीन दवा हैं। यह कई तरह के रेसिपी में इस्‍तेमाल होता है। शहद आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। शहद का उपयोग बहुत पहले से ही त्वचा और हर प्रकार की शारीरिक देखभाल के लिए किया जाता है। नियमित रूप से शहद का सेवन करने से शरीर को स्फूर्ति, शक्ति और ऊर्जा मिलती है। शहद से शरीर स्वस्थ, सुंदर और सुडौल बनता हैं। शहद मोटापा घटाता भी है और शहद मोटापा बढ़ाता भी है। मीठे शहद के गुणों से रोगी व्यक्ति स्वस्थ हो सकता है। आइये जाने शहद के फायदे और नुक्सान..

शहद के फायदे और गुण | Benefits of Honey in Hindi

शहद में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व – Honey Nutrition Facts in Hindi

  • शहद ग्लूकोज़ और फ्रुकटोज़ जैसे शक्कर और मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैल्शियम, सोडियम, कलोरीन, सल्फर, आयरन और फोस्फेट जैसे खनिजों से बना होता है।
  • शहद में विटामिन बी1, बी2, सी, बी6, बी5 और बी3 होते हैं जो सभी अमृत और पराग के गुणों के अनुसार बदलते हैं। शहद में तांबा, आयोडीन और जि़क भी कम मात्रा में मौजूद होते हैं।

शहद के फायदे और गुण – Health Benefits of Honey in Hindi

1). शक्ति बढ़ाये :- शहद में विटामिन ए, बी, सी, आयरन, कैल्शियम, सोडीयम फास्फोरस, आयोडीन पाए जाते हैं। रोजाना शहद का सेवन शरीर में शक्ति, स्फर्ति, और ताजगी पैदाकर रोगों से लड़ने की शक्ति भी बढ़ाता है।

2). घाव को जल्‍द भरे :- शहद के एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण कुछ बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकते हैं और इसलिए यह घावों, कटे और जले हुए स्थानों पर तथा खरोंच पर लगाया जाता है।

3). दर्द कम करे :- शहद घाव को साफ करने, गंध और मवाद को दूर करने, दर्द को कम करने और तेजी से उपचार के लिए उपयोग होता है।

4). कफ एवं अस्थमा का इलाज :- कफ एवं अस्थमा को शहद के इस्तेमाल से दूर किया जा सकता है। अदरक के रस में शहद मिलाकर देने से खांसी में आराम मिलता है।

5). एक्‍जीमा को दूर भगाए :- शहद क्षतिग्रस्त त्वचा का उपचार करने और नई त्वचा कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह एक्ज़ीमा, त्वचा की सूजन और अन्य त्वचा विकारों का भी प्रभावशाली तरीके से उपचार करता है।

6). त्‍वचा को निखारे :- शहद ह्यूमेक्टेंट यौगिक से भरपूर होता है। यह त्वचा में नमी को बनाए रखता है जिससे उसकी कोमलता बनी रहती है।

7). उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण :- उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में शहद कारगर है।

8). झुर्रियों भगाए :- यह मृत कोशिकाओं को दूर करता है और झुर्रियों को आने से रोकता है।

9). खुजली भगाए :- शहद में प्रबल एंटी-फंगल गुण के कारण इसका उपयोग एथलीट फुट और खुजली जैसे संक्रमणों के उपचार के लिए किया जाता है।

10). खून साफ रखे :- रक्त को साफ करने यानी रक्त शुद्धि के लिए भी शहद का सेवन करना चाहिए।

11). एंटीआक्सीडेंट से भरपूर :- शहद प्राकृतिक एंटीआक्सीडेंट से भरपूर है जो पराबैंगनी किरणों से होने वाले नुकसान से त्वचा को बचाता है।

12). सनस्‍क्रीन का काम करे :- सूरज के अधिक संपर्क में रहने से त्वचा को नुकसान होता है और आप समय से पहले बूढ़े लगने लगते हैं। शहद का उपयोग धूप से त्वचा को बचाने के लिए एक सनस्क्रीन के रूप में भी किया जा सकता है।

13). मुंहासो को रोके :- शहद त्वचा की ऊपरी परत में गहरे तक जाकर छिद्रों को बंद करता है और अशुद्धियों को आने से रोकता है। इसलिए, यह संक्रमण से लड़ने और मुहाँसों की समस्या को रोकने में मदद करता है।

14). मास्‍चाराइजर :- शहद त्वचा के लिए एक अच्छा मास्चराइज़र है और त्वचा को प्रभावी तरीके से टोन करता है और दृढ़ बनाता है।

15). होठों को चिकना बनाएं :- शहद लगाने से फटे और झुर्रीदार होंठों अद्भुत रूप से चिकने और नरम हो जाते हैं।

16). मार्निंग सिकनेस दूर करे :- शहद मार्निंग सिकनेस से राहत प्रदान करता है।

17). एनीमिया दूर करे :- नियमित रूप से शहद खाने से कैल्शियम अवशोषण और हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे एनीमिया से लड़ने में मदद मिलती है।

18). दिल को मजबूत करे :- दिल को मजबूत करने, हृदय को सुचारू रूप से कार्य करने और हृदय संबंधी रोगों से बचने के लिए प्रतिदिन शहद खाना अच्छा रहता है।

19). रोग से लड़ने कि क्षमता प्रदान करे :- चूंकि शहद प्रतिरक्षण प्रणाली को व्यवस्थित करने में सहायता करता है, इसलिए यह संक्रमण की पुनरावृत्ति से भी बचाता है।

20). मोटापा कम करे :- शहद मोटापे को कम करने में एक अहम भूमिका निभाता है। यह मेटाबोलिज़्म को बढ़ाता है जिससे शरीर की अतिरिक्त वसा नष्ट हो जाती है।

21). दिमागी कमजोरी दूर करे :- रोजाना शहद का सेवन करने से सेहत बनती है और शरीर मोटा होता है। दिमागी कमजोरियां दूर होती है।

22). कलेस्‍ट्रॉल कम करे :- एच.डी.एल.(अच्छा) कालेस्ट्राल बढ़ाते समय शहद कुल कालेस्ट्राल को कम करने में भी मदद करता है।

23). पीलिया रोग का उपचार :- पके आम के रस में शहद मिलाकर लेने से पीलिया में लाभ मिलता है।

24). सास की समस्‍या में लाभदायक :- कफ, आरामदायक और शांतिदायक गुणों के कारण शहद का उपयोग सांस की नली में संक्रमण का इलाज करने के लिए भी किया जा सकता है।

25). चेहरे पर चमक :- चेहरे की खुश्‍की दूर करने के लिए शहद, मलाई और बेसन का उबटन लगाना चाहिए। इससे चेहरे पर चमक भी आएगी।

26). थकान दूर करे :- ग्लूकोज़ और फ्रुकटोज के रूप में कार्बोहाइड्रेट से शरीर को उर्जा मिलती है जो सहनशक्ति को बढ़ाती है और थकान को कम करती है।

27). किडनी के लिए फायदेमंद :- रोजाना शहद के सेवन से किडनी और आंत ठीक रहते आती है।

28). कब्ज की शिकायत दूर करे :- टमाटर या संतरे के रस में एक चम्मच शहद डालकर प्रतिदिन लेने से कब्ज की शिकायत दूर होने लगती है।

29). कटे और जले स्थान का उपचार :- शहद के एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबियल गुण कुछ बैक्टीरिया की वृद्धि को रोकते हैं और इसलिए यह घावों, कटे और जले हुए स्थानों पर तथा खरोंच पर लगाया जाता है।

30). सहनशक्ति बढे :- शहद का नियमित उपयोग करने से हमारी सहनशक्ति बढ़ती है और थकान कम होता है।

31). प्रतिरोधकता क्षमता बढे :- शहद हमारी रोग प्रतिरोधकता क्षमता बढ़ाता है। यह संक्रमण की पुनरावृत्ति से भी बचाता है।

32). खाँसी में आराम :- अदरक के रस में शहद मिलाकर सेवन करने से खाँसी में आराम मिलता है।

33). गले की खराश दूर करे :- इस मिश्रण को लेने से गले का संक्रमण दूर होता है क्‍योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण हैं। यह गले की खराश और सूजन को कम करता है।

34). डयरिया से बचाए :- अगर किसी को डायरिया हो रहा हो तो, उसे इसका मिश्रण खिलाएं । इससे उसका पाचन तंत्र दुरुस्‍त हो जाएगा और पेट के संक्रमण मर जाएंगे।

35). फंगल इंफेक्‍शन से बचाए :- फंगल इंफेक्‍शन, शरीर के कई भागों पर हमला करते हैं, लेकिन एंटीबैक्‍टीरियल गुणों से भरा यह मिश्रण बैक्‍टीरिया को खतम कर के शरीर को बचाता है।

36). डीटॉक्‍स :- यह एक प्राकृतिक डीटॉक्‍स मिश्रण है, जिसे खाने से शरीर से गंदगी और दूषित पदार्थ बाहर निकलता है।

शहद के नुक्सान – Side Effects of Honey in Hindi,

  • शहद की अत्यधिक मात्रा गंभीर पेट की परेशानी का कारण बन सकता है। फ्रुक्टोज़ से युक्त होने के कारण, यह आपकी छोटी आंत के पोषक तत्वों की अवशोषण क्षमता को बाधित कर सकता है। यह आपकी जठरांत्र प्रणाली पर भी दीर्घकालिक प्रभाव छोड़ सकता है और कई गैस्ट्रिक मुद्दों का कारण बन सकता है जैसे सूजन, गैस, ऐंठन आदि। कभी-कभी यह दस्त या पेट की ख़राबी जैसी गंभीर स्थिति की ओर भी ले जाता है।
  • कच्चे शहद का सेवन हल्की एलर्जी भी दे सकता है। यह फूलों का असंसाधित अमृत है जिसमें पराग, कीटनाशक और अन्य रसायन हो सकते हैं। इसका प्रत्यक्ष उपभोग एलर्जी के लक्षणों जैसे सूजन, खुजली, चकत्ते, पित्ती, खाँसी, दमा, श्वास की मुसीबतें, निगलने में कठिनाई का कारण बन सकता है।
  • शोधकर्ताओं के अनुसार, शहद में 82% चीनी (ग्लूकोज और फ्रुक्टोज प्राकृतिक शर्करा) होती है। इसका मतलब है कि शहद का 1 बड़ा चम्मच हमें चीनी के लगभग 17 ग्राम दे सकता है। बड़ी मात्रा में हर दिन इसे लेने से हमारे मुंह के अंदर बैक्टीरियल गतिविधियों को बढ़ावा मिलता है। इसकी खपत से काफी हद तक दाँत क्षय हो सकता है। आप अपने दांतों के स्वास्थ्य को बनाए रखने और मौखिक गुहा को रोकने के लिए शहद का सेवन नियंत्रित रूप से करें।
  • शहद में थोड़ी सी मात्रा में विटामिन और खनिज होते हैं। हालांकि यह राशि इतनी कम है कि आपको इसका लाभ उठाने के लिए भारी मात्रा में शहद का सेवन करना पड़ता है। और ज्‍यादा मात्रा में शहद का सेवन सेहत के लिए अच्‍छा नहीं होता है। इससे पेट के रोग पैदा हो जाते है जो ज्यादा कष्टदायक होते हैं।

और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.