मूली खाने के फायदे और गुण – Health Benefits of Radish Mooli in Hindi

मूली एक सब्जी है जिससे भारतीय कई तरह का व्यंजन बनाते हैं, इसके साथ-साथ यह सलाद के लिए भी काफी उपयोग किया जाता हैं। लंबी और पतली सी दिखने वाली मूली भले ही बहुत अधिक स्वादिष्ट न होती हो लेकिन मूली को खाने से फायदे बहुत ही अधिक होते हैं। मूली सेहत के लाभकारी गुणों से भरपूर होती है। यह खासतौर पर सर्दियों की सब्जी है।

मूली (Radishes) का वानस्पतिक नाम रॅफेनस् सेटाइवस (Raphanus sativus Linn., ब्रैसिकेसी (Brassicaceae) है। सामान्य-सी दिखने वाली यह जड़ विटामिन-सी और फोलेट का अहम स्रोत है। इसके अलावा, मूली में भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, पोटैशियम, आयरन, मैंगनीज, फॉलिक एसिड के साथ कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कैंसर, सर्दी-जुकाम, हदय रोग, वजन कम करने में मदद करता है। रंगों के अनुसार, मूली दो प्रकार की होती है। जिसमे एक सफ़ेद और एक लाल मूली होती हैं। आयुर्वेद में मूली के बारे में बहुत सारी बातें बताई गई हैं। आइए इनके बारे में जानते हैं।

Health Benefits of Radish Mooli in Hindi

मूली के फायदे – Radish Mooli Benefits in Hindi

1). वजन घटाए – Radish for weight loss in hindi

मोटापे के मरीजों के लिए मूली लाभकारी है। इसके लिए मूली के रस में नींबू और सेंधा नमक मिलाकर पिएं। इसके सेवन से धीरे-धीरे मोटापा कम होने लगता है। दमा के मरीजों के लिए भी मूली के रस का काढ़ा पीना बहुत फायदेमंद होता है।

2). किडनी स्टोन के लिए – Mooli ke Fayde for Kidney

किडनी में हुई पथरी की समस्या को कम करने के लिए भी मूली सहायक हो सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, मूली कैल्शियम ऑक्सालेट को शरीर से बाहर निकालने का काम कर सकती है। कैल्शियम ऑक्सालेट के कारण ही किडनी में पथरी की समस्या होती है। किडनी स्टोन से बचाव या उसे कम करने के लिए मूली का सेवन किया जा सकता है।

3). हिचकी ठीक करे – Mooli Benefits Hindi

मूली से बने जूस या सूखी मूली से काढ़ा बनाएं। इसे 50-100 मिली की मात्रा में 1-1 घंटे के अंतराल में सेवन करें। इससे हिचकी में लाभ
होता है।

4). पाचनतंत्र सुधारने के लिए – Radish good for digestion power

पाचनतंत्र को मजबूत बनाने के लिए मूली का प्रयोग खाने के बाद करें। भोजन से पहले यह पाचन में भारी होती है लेकिन भोजन के बाद भोजन को पचाने में मदद करती है।

5). ब्लड प्रेशर के लिए – Muli khane ke Fayde for Blood Pressure

मूली के फायदे में रक्तचाप नियंत्रण भी आता है। मूली कैल्शियम और पोटैशियम जैसे खनिजों से भरपूर होती है और ये पोषक तत्व रक्तचाप को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। ऐसे में मूली के सेवन से रक्तचाप की समस्या से बचाव हो सकता है। हालांकि, इस बारे में वैज्ञानिक प्रमाण का अभाव है, इसलिए पूरी तरह से इसे हाई ब्लड प्रेशर का इलाज न समझें। वहीं, अगर मूली के पत्तों की बात की जाए, तो चूहों पर किए गए अध्ययन में मूली के पत्तों में एंटीहाइपरटेंसिव प्रभाव सामने आए हैं।

6). डायबिटीज़ के लिए – Radish Benefits for Diabetes

डायबिटीज रोगियों के लिए मूली खाना फायदेमंद होती है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एनर्जी मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने की ताकत होती है। इसके उपयोग से ग्लूकोज का लेवल और इंटेंस्टाइन (आंत) में ग्लूकोज अवशोषण कम होता है।

7). स्किन के लिए – Muli ke fayde for skin

मूली में मौजूद विटामिन-सी, विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स, फॉस्फोरस और जिंक त्वचा में नमी की मात्रा बनाए रखने में मदद करते हैं। इसके नियमित सेवन से स्किन अच्छी होती है। इसमें विटामिन-सी काफी मात्रा में होता है जो स्किन के लिए एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। इससे स्किन में कोलेजन बढ़ता है। इससे एजिंग का प्रभाव कम होता है।

8). सफेद दाग के लिए – Mooli good for Skin

सफेद दाग यानी विटिलिगो (vitiligo) या ल्यूकोडर्मा (leucoderma) कहा जाता है। त्वचा के इस गंभीर रोग को दूर करने के लिए मूली के बीज का इस्तेमाल किया जाता है। मूली अपने एंटी-कॉर्सनोजिनिक गुणों के कारण ल्यूकोडर्मा के उपचार में उपयोगी होती है।

9). इम्यूनिटी बढ़ाए – Radish Increase Immune Power

मूली का सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार कर सकता है। मूली खाने के फायदे में इम्यून सेल्स में सुधार भी शामिल है । इसके अलावा, मूली विटामिन-सी से भरपूर होती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन-सी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने का काम कर सकता है और सर्दी-जुकाम जैसी समस्याओं से छुटकारा दे सकता है।

10). ऑस्टियोअर्थराइटिस के लिए – Muli Khane ke Fayde in Hindi

ऑस्टियोअर्थराइटिस गठिया का एक प्रकार है, जो कूल्हे, घुटने, गर्दन व पीठ के निचले हिस्से या हाथों के जोड़ों को अपना निशाना बनाता है। इससे निजात पाने के लिए मूली का सेवन कर सकते हैं। दरअसल, मूली में विटामिन-के होता है , जो कार्टिलेज (मुलायम टिशू जो टखनों, कोहनी व घुटनों समेत शरीर के कई हिस्सों में पाया जाता है) मेटाबॉलिज्म के लिए लाभदायक हो सकता है। यह कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देता है और इनके प्रसार में मदद कर सकता है।

Muli ka Patta ke Fayde

मूली के आलावा मूली के पत्तों में भी कई तरह के आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं। मूली के पत्तों का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें मूली से भी अधिक डायटरी फाइबर पाए जाते हैं। इन डायटरी फाइबर के कारण व्यक्ति का पाचन तंत्र बेहतर तरीके से काम करता है। यह मूली के पत्ते कब्ज व पेट फूलने जैसी समस्याओं से निजात दिलाते हैं। चूंकि मूली के पत्तों में आयरन और फास्फोरस की मात्रा काफी होती है, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। मूली बवासीर जैसी कष्टकारी शारीरिक समस्या को दूर करने में भी मूली के पत्ते लाभदायक है।

Also, Read More :- 

Leave a Comment

Your email address will not be published.