काजू खाने के फायदे और नुकसान – Cashew Benefits and Side Effects in Hindi

Cashew Nuts Benefits in Hindi – ड्राई फ्रूट्स का राजा कहे जाने वाला काजू आपकी सेहत को कई तरह से फायदेमंद होता है। काजू का इस्तेमाल मिठाई और सब्जी की ग्रेवी को स्वादिष्ट बनाने के लिए खूब किया जाता है। काजू से बनी बर्फी को ज्यादातर लोग बहुत पसंद करते हैं। किसी भी खाद्य पदार्थ में इसको शामिल करने से उसका स्वाद और भी बढ़ जाता है। इतना ही नहीं इसके कई स्वास्थ्य फायदे भी हैं।

काजू प्रोटीन का पावरहाउस कहे जाते हैं और अन्य पोषक तत्वों का भी एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्रोत होते हैं। इसमें कॉपर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक, आयरन, फ़ास्फ़रोस और पोटैशियम जैसे लाभकारी मिनरल्स पाए जाते हैं। इसमें सोडियम भी पाया जाता है लेकिन बहुत ही कम मात्रा में। काजू में कई प्रकार के विटामिन्स भी पाए जाते हैं जैसे कि विटामिन सी, विटामिन बी1(थायमिन), विटामिन बी2(राइबोफ्लेविन), विटामिन बी3(नियासिन), विटामिन बी6 (फोलेट), विटामिन ई और विटामिन के। इसमें कुछ आवश्यक फैट भी मौजूद होते हैं जो शरीर के विकास में सहायक होते हैं।

इसके अतिरिक्त, काजू में पाया जाने वाला सेलेनियम, तांबा, मैग्नीशियम आदि कई एंजाइम वर्धक के रूप में कार्य करते हैं और शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकलते हैं।

Cashew Benefits

काजू के बारे में जानकारी – Cashew Nuts in Hindi

काजू का वानास्पतिक नाम Anacardium occidentale L. (एनाकार्डियम ऑक्सीडेन्टेल) होता है। काजू Anacardiaceae (ऐनाकार्डिएसी) कुल का होता है और अंग्रेजी में इसको Cashew nut (कैश्यू नट) कहते हैं।

काजू छोटा, लगभग 12 मी ऊँचा, मध्यम आकार का आम के वृक्ष के जैसा सदा हरा-भरा रहने वाला वृक्ष होता है। इसकी शाखाएं मुलायम होती है। काजू के वृक्ष की छाल से पीले रंग का निचोड़ या रस निकलता है। काजू का पत्ता कटहल के पत्ता जैसा होता है,किन्तु सुगन्धित होता है। इसके फूल छोटे, गुलाबी धारियों से युक्त, पीले रंग के होते हैं, जिनमें सफेद गिरी होती है, इसे ही काजू कहते हैं। इसके ताजे फलों के रस से एक प्रकार का मद्य तथा फलों के छिलकों से काला व कड़वा रस युक्त तेल निकाला जाता है।

काजुन मूलतः ब्राज़ील में पाया आने वाला फल है जिसको पुर्तगाली लोग भारत में लेकर आएं थे।

काजू खाने के फायदे – Kaju Khane ke Fayde

1). कैंसर को रोकता है

प्रोएथोकेनिडिन फ्लैवोनोल का एक वर्ग है जो ट्यूमर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है तथा उनसे लड़ता है। काजू में ये प्रोएथोकाइनाइडिन और कॉपर की ऊँची मात्रा कैंसर कोशिकाओं से लड़ने में मदद करती है और आपको पेट के कैंसर से दूर रखती है, यह काजू के प्रमुख लाभों में से एक है।

शोध में ये भी पाया गया है कि काजू में पायी जाने वाली एंटीओक्सीडैन्ट्स की मात्रा शरीर को ट्युमर और कैंसर से बचाने में लाभकारी होती है। काजू प्रोटीन का एक साधारण सा रूप होते हैं जो पीड़ितों को आसानी से दिया जा सकता है।

2). अच्छे पाचन तंत्र के लिए

काजू खाने से पाचन-तंत्र मजबूत होता है, क्योंकि इसमें फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है .फाइबर पाचन को ठीक रखकर कब्ज और अल्सर जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है । साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि काजू का अधिक मात्रा में सेवन कब्ज और गैस की समस्या पैदा कर सकता है। विशेषकर, जिनकी फिजिकल एक्टिविटी ना के बराबर होती है, उन्हें काजू का सेवन कम ही करना चाहिए।

3). गर्भावस्था में

काजू में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं जो गर्भआवस्था में मिहलाओं के लिए बेहद जरूरी होते हैं। इससे ना केवल शिशु सेहतमंद रहता है बल्कि शिशु की हड्डियां के विकास में भी एक अहम रोल निभाता है। इसमें मौजूद कैल्शिय और मैग्नीशियम हड्डियों के विकास में तो काम आता ही है, साथ ही शिशु के जन्म के समय वजन को भी कम नहीं होने देता। इसके अलावा गर्भवती के रक्तचाप को रोकने का काम भी करता है।

4). दिमाग के लिए

डिप्रेशन या स्ट्रेस या दिमागी कोई बीमारी, इन सभी समस्याओं से अकेला निपटने में सक्षम होता है काजू। आज के समय में स्ट्रैस होना बेहद आम है लेकिन इससे तभी बाहर आया जा सकता है, जब एक बेहतर डाइट ली जाए। काजू में मौजूद मैग्नीशियम दिमाग के रक्त प्रवाह का ख्याल रखता है। वहीं इसमें एंटीडिप्रेसेंट गुण होते हैं। तो दोस्तो अपने दिमाग के लिए ही सही लेकिन काजू का सेवन करना शुरू करें।

5). चेहरे के लिए – Cashew Nut Benefits for Skin in Hindi

काजू में प्रोटीन अधिक मात्रा में होता है। काजू तैलीय और शुष्क त्वचा के लिए लाभदायक होता है। यदि आपकी तैलीय त्वचा है तो आप काजू को रातभर दूध में भिगोकर सुबह उसे पीसकर उसमें मुल्तानी मिट्टी, नींबू या दही की थोड़ी मात्रा मिलाकर उसे चेहरे पर लगाने से चेहरा चमकने लगता है। काजू का तेल सफेद दागों पर लगाने से धीरे-धीरे सफेद दाग मिट जाते हैं।

6). हृदय स्वास्थ्य के लिए

काजू को नट्स की श्रेणी में रखा जाता है और नट्स शरीर को कई रूपों में फायदा पहुंचाने का काम करते हैं। हृदय के स्वास्थ्य को बरकरार रखने के लिए भी नट्स महत्वपूर्ण माने जाते हैं। इनमें बायोएक्टिव मैक्रोन्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं, जो हृदय को स्वस्थ रखने का काम कर सकते हैं।

7). वजन के संतुलन में

काजू में मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जो कि फैट और कार्बोहाइड्रेट के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाती है। इसके अलावा, काजू में पाया जाने वाला फाइबर शरीर के वजन को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है । दरअसल, फाइबर कैलौरी के सेवन को कम करता है। इसके अलावा, काजू में कैलोरी की मात्रा के साथ ही फैट और प्रोटीन की मात्रा भी ज्यादा होती है। इसलिए, पेट को देर तक भरा रखने का काम कर सकता है। इस कारण अतिरिक्त भोजन लेने की आदत में सुधार हो सकता है, जिससे वजन को नियंत्रित रखने में मदद मिल सकती है।

8). स्वस्थ मसूड़े और दांत के लिए

दांतों के लिए कैल्शियम सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व माना जाता है। कैल्शियम दांतों के विकास और उनकी मजबूती बनाए रखने का काम करता है। शरीर में इस खास तत्व की कमी दांत टूटने से लेकर कई अन्य समस्याओं का कारण बन सकती है। क्योंकि काजू में कैल्शियम की मात्रा पाई जाती है।

9). गर्ववती महिलाओ के लिए

काजू में विटामिन और मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा आहार होता है। इस का नियमित उपयोग गर्भवती महिलाओं और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।

10). खून की कमी

शरीर में अगर खून की कमी हो जाती है तो इसे एनीमिया के नाम से भी जाना जाता है। यह समस्या आमतौर पर गर्भावस्था में देखने को जरूर मिलती है। इस समस्या से बचे रहने के लिए काजू का सेवन करना लाभदायक होगा क्योंकि इसमें आयरन की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। यह शरीर में खून के निर्माण में काफी मदद करेगा जिसके कारण आप एनीमिया जैसी बीमारी की चपेट में आने से बचे रहेंगे।

काजू खाने के नुकसान – Kaju Khane ke Nuksaan

  1. ज्यादा काजू का खाने से आपके शरीर में दवाईया बेअसर होने लगती हैं। 3 से 4 काजू में 82.5mg मैग्नीशियम होता है। काजू से मैग्नीशियम डायबिटीज, थायरॉइड, मूत्र संबधी और अर्थराइटिस की दवाइयों पर असर डालते हैं।
  2. अगर आपको आमतौर पर सिर दर्द या माइग्रेन की दिक्कत है तो काजू से दूर ही रहें। काजू में अमीनो एसिड टाइरामिन और फेनेंलेथाइलमाइन होता है जिससे आपको सिर दर्द हो सकता है।
  3. अगर किसी व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत रहती है तो उसे भूलकर भी काजू का सेवन नहीं करना चाहिए। आपको शायद पता न हो लेकिन काजू में सोडियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर को और ज्यादा बढ़ा देता है।
  4. काजू में कैलोरी अधिक मात्रा में होती है अतः इसका अधिक सेवन आप के वजन को बढ़ा सकता है।
  5. इस के अधिक सेवन से पेट ख़राब जैसी समस्या भी हो सकती है।

काजू खाने का सही तरीका – Kaju Khane ka Sahi Tarika

दूध के साथ खाएं काजू

कई लोग काजू को भूनकर खाते हैं, तो कई लोग पानी में भिगोकर खाते है l तो कई लोग डायरेक्ट काजू का सेवन करते हैं lदूध में काजू को ड़ाल दें और उसे उसी स्थिति में कुछ पल के लिए छोड़ दें। इसके बाद आप इसका सेवन करें। अगर काजू दूध पीने के दौरान आ जाए तो उसे चबाएं और एकदम पतला कर दें। इसके बाद ही उसे मुँह से नीचे जाने दें। हम सबके शरीर में आधी से ज्यादा बीमारियाँ सिर्फ इसलिए हैं क्योंकि हम खाने को सही तरह से चबाते नहीं हैं।

FAQ

Q : काजू खाने से मोटापा बढ़ता है?

Ans : काजू अगर सही मात्रा में खाए जाए तो इससे आपका वजन नहीं बढ़ता है। लेकिन वहीं अगर आप इन्हें जरूरत से ज्यादा अपनी डाइट में शामिल कर रहे हैं तो इससे आप वजन बढ़ा सकते हैं। क्यूंकि काजू में काफी भारी मात्रा में कैलोरीज होती हैं।

Q : 1 दिन में कितना काजू खाना चाहिए?

Ans : हर रोज 3-4 काजू का सेवन करना लाभदायक हैं। यह ऊर्जा का काफी अच्छा स्रोत होता है।

Q : दूध में काजू बादाम खाने के फायदे

Ans : काजू और दूध का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल रहता है। अगर किसी के शरीर में खून की कमी होती है तो उसे काजू और दूध खाने की सलाह दी जाती है।

Q : भीगे काजू खाने के फायदे

Ans : काजू में एंटीऑक्सिडेंट, फास्फोरस, फाइबर, प्रोटीन और स्वस्थ वसा जैसे कई पोषक तत्व भरे होते हैं। जो शरीर को मजबूत रखने में मदद करते हैं। काजू में हाई कैलोरी भी खूब पाई जाती है, ऐसे में जो लोग कमजोर होते हैं, उन्हें काजू खाने की सलाह दी जाती है।

Also, Read More:- 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *