अभिनेता गोविंदा की जीवनी | Govinda Biography in Hindi

Govinda / गोविंदा बॉलीवुड के फेमस अभिनेता, फिल्म निर्माता और निदेशक हैं। वे पूर्व राजनीतिज्ञ में भी रहे हैं। उन्‍होंने लगभग हर शैली की फिल्‍मों में काम किया है चाहे वह कॉमेडी हो, रोमांस हो, ड्रामा हो, एक्‍शन हो, कोई भावनात्‍मक किरदार हो, सभी में गोविंदा ने अपने अभिनय का लोहा मनवाया हैं। उन्होंने बेहतरीन अभिनय के लिए कई अवार्ड्स भी जीते हैं। 1999 में बीबीसी न्‍यूज ऑनलाइन यूजर्स ने उन्‍हें पिछले 1000 सालों का स्‍टेज और स्‍क्रीन दोनों पर दसवां सबसे बड़ा स्‍टार घोषित किया।

अभिनेता गोविंदा की जीवनी | Govinda Biography in Hindi

गोविंदा का संक्षिप्त परिचय – Govinda Biography in Hindi

पूरा नाम गोविंद अरुण आहूजा (Govinda Arun Ahuja)
जन्म दिनांक 21 दिसंबर, 1963. मुंबई
पिता का नाम अरुण अहुजा
माता का नाम निर्मला देवी
पत्नी सुनीता आहूजा
बच्चे बेटी – टीना आहूजा. बेटा – यशवर्धन आहूजा
शिक्षा कॉमर्स से स्‍नातक
राष्ट्रीयता भारतीय
हाइट 1.71 m
पहली फिल्म Love 86
प्रसिद्धि के कारण अभिनेता, निर्माता, निदेशक, राजनेता

गोविंदा अपनी अनोखी नृत्य कला के लिए भी प्रसिद्ध है। वे एक बेहतरीन कॉमेडियन भी हैं। अपने जीवनकाल में गोविंदा को अबतक 12 फिल्मफेयर अवार्ड नामनिर्देशन, एक विशेष फिल्मफेयर अवार्ड और बेस्ट कॉमेडियन का फिल्मफेयर अवार्ड और चार जी सिने अवार्ड मिल चुके है। उनके नाम बॉलीवुड में एक वर्ष में सबसे अधिक फिल्‍म देने का रिकार्ड दर्ज है। उन्‍हें ‘नं 1’ का भी खिताब हासिल है क्‍योंकि उनकी 6 फिल्‍मों के नाम के अंत में ‘नं 1’ लगा हुआ है। उन्‍होंने लगभग अपने अपने समय के हर अभिनेताओं के साथ काम किया हैं।

गोविंदा जब हिन्दी सिनेमा में आए उस समय का दौर एक्शन और रोमांस का था। उस समय कॉमेडी के क्षेत्र में कोई ऐसा हीरो नहीं था जो फिल्म में लीड रोल निभा सके। गोविंदा के आगमन ने हिन्दी फिल्मों में हास्य-रस से भरपूर फिल्मों के दौर को फिर से अस्तित्व में ला दिया है ये कहना गलत नहीं होगा। गोविंदा ना सिर्फ कॉमेडी में बेहतरीन थे बल्कि डांस और ड्रामा में भी उनका कोई जवाब नहीं था। डांस के साथ चेहरे पर वैसा ही भाव रखने की कला में शायद ही कोई उनसे बेहतर हो।

प्रारंभिक जीवन –

Govinda – गोविंदा का पूरा नाम गोविंद अरुण आहूजा हैं। 21 दिसंबर 1963 को जन्मे गोविंदा के पिता नाम अरूण कुमार आहुजा और माता का नाम निर्मला आहुजा हैं, जोकि एक अभिनेत्री और गायिका भी थीं। उनका जन्म एक पंजाबी-सिंधी परिवार में हुआ था। गोविंदा के पिता विभाजन से पहले पंजाब के गुजरांवाला में रहते थे। अनुभवी फिल्म निर्माता महबूब खान के कहने पर अरुण अहुजा मुंबई आ गए थे। 1937 में मुंबई आने के बाद महबूब खान ने उन्हें (गोविंदा के पिता) अपनी फिल्म एक ही रास्ता में अभिनय करने का अवसर दिया। गोविंदा की माता नजीम मुसलमान थीं। धर्म परिवर्तन करने के बाद उन्होंने अपना नाम निर्मला देवी रख लिया था।

गोविंदा छह भाई बहनों में सबसे छोटे है और उन्हें प्यार से ‘चीची’ बुलाया जाता था। उनका भाई कीर्ति कुमार एक अभिनेता, प्रोड्यूसर और डायरेक्टर है। उनकी बहन, कामिनी खन्ना एक राइटर, म्यूजिक डायरेक्टर और गायिका है।  गोविंदा वसाई के कॉलेज से कॉमर्स स्नातक हैं। उनके पिता ने उन्हें फिल्मों में करियर बनाने की सलाह दी थी। फिल्मों में करियर बनाने की सोच रहे गोविंदा ने फिल्म डिस्को डांसर देखने के बाद घंटों डांस मूव्स की प्रेक्टिस कर अपना एक वीडियो कैसेट तैयार किया था।

यह बात बहुत ही कम लोगों को पता है कि गोविंदा अपनी मां के पैरों को रोज गंगाजल से धोते थे और उस पानी को पीते थे। यहां तक कि उनकी मौत के बाद भी गोविंदा ने इसे बंद नहीं किया. उन्होंने उस गंगाजल को स्टोर कर रखा था और काम पर निकलने से पहले हर सुबह वह उसे पीकर ही निकलते थे।

फ़िल्मी करियर की शुरुवात – Govinda Life History in Hindi

गोविंदा की बॉलीवुड में पहली फिल्म ‘लव 86’ थी, इसके बाद इन्होने फिल्‍म ‘इल्‍जाम’ की जो बॉक्‍स आफिस पर सुपरहिट हुई थी। कुछ ही समय में इन्होने 40 और फिल्में साइन कर लीं। 80 के दशक में उन्होंने बॉलीवुड में एक्शन हीरो के रूप में अपनी पहचान बनायी और फिर 90 के दशक में उन्होंने अपनी पहचान एक हास्य अभिनेता के रूप में बनायी थी।

गोविंदा अब तक बारह बार फिल्मफेयर के लिए नामांकित हो चुके हैं। वह एक स्पेशल फिल्मफेयर, बेस्ट कॉमेडियन केटेगरी में एक फिल्मफेयर और चार ज़ी सिने अवार्ड जीत चुके हैं। अपनी पहली फिल्म के बाद अब तक वह 165 से भी अधिक फिल्मों में नजर आ चुके हैं। 1990 से 1999 के बीच का समय उनके लिए काफी अच्‍छा रहा। उनकी फिल्‍मों को और उनके अभिनय को आलोचकों और दर्शकों ने तो सराहा ही, इसके साथ ही साथ उन्‍हें बॉक्‍स आफिस पर भी सफलता मिली।

हालाँकि ऐसा नहीं की गोविंदा का फ़िल्मी करियर में सफलता ही रहा हैं, एक समय में जब उनकी फिल्मो को लगातार असफलता मिल रही थी तब उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ फिर वापसी की और एक सुपरहिट फिल्म दी। गोविंदा ने कई कॉमेडी फिल्मे की, जिनमे मुख्य रूप से फिल्म आँखे (1993), राजा बाबु (1994), कुली नं. 1 (1995), हीरो नं. 1 (1997) और हसीना मान जाएँगी (1999) शामिल है।

अपने करियर में गोविंदा ने डबल रोल के अलावा, फिल्म हद कर दी आपने में छह रोल निभाए। डबल रोल वाली फिल्मे  मुख्य रूप से जान से प्यारा (1992), आँखे (1993), बड़े मियाँ छोटे मियाँ (1998) और अनाड़ी नं. 1 (1999) शामिल है। निर्देशक डेविड धवन के साथ गोविंदा ने कई सफल फिल्में दी हैं। डेविड-गोविंदा की जोड़ी एक तरह से फिल्म की सफलता की गारंटी थी।

उन्होंने अक्षय कुमार के साथ भागम भाग (2006), सलमान खान और कैटरीना कैफ के साथ पार्टनर (2007), लाइफ पार्टनर (2009) और अमिताभ बच्चन के साथ बड़े मिया छोटे मियां (1998), जैसी बहुत सी सफल फिल्मे की। गोविंदा अक्सर सेट पर लेट आते थे और इसके कारण कई निर्माता-निर्देशक उनसे परेशान रहे हैं।

गोविंदा कई रियलिटी शो में भी जज की भूमिका में नजर आ चुके हैं। 015 में उन्होंने जी-टीवी के डांस रियलिटी शो, डांस इंडिया डांस सुपर मॉम सीजन 2, मिथुन चक्रवर्ती की जगह पर जज की भूमिका भी निभाई थी।

गोविंदा ने कई कलाकारों के साथ बार बार काम किया है। शक्ति कपूर के साथ उन्होंने 42 फिल्में की हैं। कादर खान के साथ गोविंदा 41 फिल्मों में नजर आ चुके हैं। शक्ति कपूर, गोविंदा और कादर खान एक साथ 22 फिल्में कर चुके हैं। नीलम, करिश्मा कपूर और रवीना टंडन के साथ गोविंदा ने दस दस फिल्में की हैं।

1994 में आयी फिल्म खुद्दार की शूटिंग के लिए जाते समय गोविंदा मरते मरते बचे। उनकी कार एक दूसरी कार से टकरा गई। उनके सिर पर गहरी चोट लगने और खून बहने के बावजूद उन्होंने शूटिंग रद्द नहीं की। गोविंदा ने एक दर्शक संतोष राय को फिल्म मनी है तो हनी है के सेट पर चांटा मार दिया था। संतोष पर आरोप था कि वह फिल्म की क्रू में शामिल लड़कियों से बदतमीजी कर रहा था और गोविंदा द्वारा प्रार्थना करने के बाद भी वहां से नहीं गया। संतोष राय ने चांटे को लेकर एक केस मुंबई हाई कोर्ट ने लगाया जिसे रिजेक्ट कर दिया गया। बाद में यह केस सुप्रीम कोर्ट में भी दायर किया गया। दिसंबर 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने गोविंदा को माफी मांगने को कहा।

राजनीती करियर –

गोविंदा (भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के सदस्य) की नियुक्ती 2004 में 14वे लोकसभा चुनाव में भारत के महाराष्ट्र के उत्तर मुंबई क्षेत्र से संसद भवन के सदस्य के रूप में नियुक्ती की गयी थी। अपने राजनीति में करियर के दौरान गोविंदा ने कहा कि उनका चुनाव प्रवास, स्वास्थ्य और शिक्षा को लेकर है।

अपने सांसद के तौर पर दस महिनों के दौरान गोविंदा ने सांसद राशि का विकास कार्यो के लिए बिल्कुल भी उपयोग नहीं किया। मीडिया में इस बात के उछल जाने के बाद उन्होंने इस राशि का इस्तेमाल प्रारंभ किया। सांसद के तौर पर गोविंदा को काफी आलोचना झेलनी पड़ी। उन पर इल्जाम लगे कि वह अपने क्षेत्र लोगों से मिलते नहीं और उनकी समस्याओं को नजरअंदाज करते हैं। खासतौर पर जुलाई 2005 की बारिश के दौरान जिसमें 450 लोगों की जान चली गई थी। हालाँकि अधिकारिक सूत्रों के अनुसार उन्होंने स्वास्थ और शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत से कार्य किये थे।

निजी जीवन – Govinda Love Affair & Married

गोविंदा के नाम कई अभिनेत्री से जुड़ा जिनमे रानी मुखर्जी और नीलम कोठरी हैं। इसके आलावा दिव्या भारती के साथ भी चर्चा चला था। अंतत उन्होंने सुनीता आहूजा के साथ शादी कर ली। इससे उनके एक बेटा यशवर्धन आहूजा और बेटी टीना आहूजा हैं। कहा जाता हैं एक समय गोविंदा रानी मुखर्जी से शादी की तयारी भी कर चुके थे पर पत्नी की नाराजगी के वजह से अलग हो गए।

गोविंदा के कुछ सुपरहिट फिल्मे – Govinda Filmography

कुली न. 1 (1995), दीवाना मस्ताना (1997), राजा बाबू (1994), आँखें (1993), पार्टनर (2007), खुदगर्ज़ (1987), दूल्हे राजा (1998), मुक़ाबला (1993), आग (1994), बड़े मियां छोटे मियां (1998).


और अधिक लेख –

Please Note : – Actor Govinda Biography & Life History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.