पेशाब में जलन और दर्द का कारण और घरेलु उपाय | Dysuria In Hindi

Dysuria / पेशाब में दर्द और जलन होना एक आम बीमारी है। गर्मी के दिनों में कई बार अत्‍यधिक गर्म चीजों का सेवन करने से शरीर का ताप बढ़ने से पेशाब में जलन होने लगती है। यह परेशानी काफी लोगों को होती है, जो कि महीनों तक भी चल सकती है और जल्‍दी भी ठीक हो सकती है। यह समस्‍या महिलाओं और पुरुषों दोनों को ही होती है, लेकिन ज्‍यादातर यह परेशानी महिलाओं में देखी जाती है। इस बीमारी को अनदेखा करना बिल्कुल ठीक नहीं है। इस बीमारी को आयुर्वेद में मूत्र क्रच कहते हैं। जैसे ब्लैडर में दर्द और जलन महसूस हो, तुरंत इस बीमारी का इलाज शुरु कर दें। नहीं तो यह बीमारी कई और बीमारियों की जड़ बन सकती है। निचे कुछ घरेलु उपचार बताये गए, जिसे उपयोग करके इस बीमारी से निजात पाने में आपको मदद करेगी..

Dysuria / पेशाब में दर्द और जलन होना एक आम बीमारी है। गर्मी के दिनों में कई बार अत्‍यधिक गर्म चीजों का सेवन करने से शरीर का ताप बढ़ने से पेशाब में जलन होने लगती है। यह परेशानी काफी लोगों को होती है, जो कि महीनों तक भी चल सकती है और जल्‍दी भी ठीक हो सकती है। यह समस्‍या महिलाओं और पुरुषों दोनों को ही होती है, लेकिन ज्‍यादातर यह परेशानी महिलाओं में देखी जाती है। इस बीमारी को अनदेखा करना बिल्कुल ठीक नहीं है। इस बीमारी को आयुर्वेद में मूत्र क्रच कहते हैं। जैसे ब्लैडर में दर्द और जलन महसूस हो, तुरंत इस बीमारी का इलाज शुरु कर दें। नहीं तो यह बीमारी कई और बीमारियों की जड़ बन सकती है। निचे कुछ घरेलु उपचार बताये गए, जिसे उपयोग करके इस बीमारी से निजात पाने में आपको मदद करेगी.. Home Remedies For Dysuria In Hindi पेशाब में जलन होने के कारण - यह समस्‍या 18 से 50 तक के लोगों में बहुत ही आम होती है। इस समस्‍या को डिस्युरीआ भी कहते हैं, जिसमें पेशाब करते वक्‍त जल्‍न और दर्द महसूस होता है। कभी कभार शरीर ओवरहीट भी हो जाती है। यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन यह एक बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है। जैसे - मूत्र पथ संक्रमित :- यदि किसी व्यक्ति के मूत्र रास्ता संक्रमित हो गया हो, जिसके कारण उसके मूत्र मार्ग में सूजन आ गई हो. तो उसे मूत्र पथ संक्रमित की बीमारी हो सकती हैं। किडनी में पथरी :- यदि किसी व्यक्ति की किडनी में पथरी हो गयी हो, जिसके कारण उसके गुर्दे में दर्द रहता हो. तो वह व्यक्ति भी इस बीमारी से पीड़ित हो सकता हैं। डीहाइड्रेशन :- अगर किसी व्यक्ति को डीहाइड्रेशन की समस्या हैं. जैसे उसे अत्यधिक प्यास लगती हैं उसका गला बार – बार सूख जाता हो। तो डीहाइड्रेशन के कारण भी मूत्र में जलन होने की परेशानी हो सकती हैं। पानी की कमी :- शरीर में पानी की कमी से होती हैं या कभी-कभी लिवर प्रॉब्लम से भी होती हैं। पेशाब में जलन होने के लक्षण - पेशाब में बदबू आना। ब्लैडर में दर्द होना। पेशाब बार-बार आना या कम आना। पेशाब का रंग पीला होना। बूंद बूंद पेशाब होना। पेट में दर्द होना और मूत्र मार्ग में जलन होना। पेशाब में जलन और दर्द से छुटकारा पाने के घरेलु आयुर्वेदिक इलाज ⇒ तुलसी के बीज का हिमजीरा और दानेदार शक्कर को दूध के साथ सुबह शाम एक-दो दिन तक लेने से पेशाब की जलन पीड़ा शांत हो जाती है। ⇒ रात को सोने से पहले एक गिलास पानी में 1 चम्मच धनिया पाउडर मिलाकर रख दें और सुबह इसे छान कर गुड़ या चीनी मिलाकर पिएं। ⇒ अनार का छिलका सुखा कर बारीक पीस ले। प्रतिदिन 4 ग्राम चूर्ण ताजे पानी में दो-तीन बार लेने से पेशाब की जलन शांत हो जाती है और बार-बार पेशाब नहीं आता। इसे 10 दिन खाए और चावल का परहेज करें। ⇒ शीतल चीनी के काढ़े में, पांच बूंदे चंदन का तेल डालकर पीने से पेशाब की जलन तथा पीड़ा मिट जाती है। ⇒ बादाम की 5 गिरी और 7 छोटी इलायची मिसरी के साथ पीस लें। इसे एक गिलास पानी में घोलकर पीने से दर्द और जलन कम होने लगती है। ⇒ मूली के पत्तों के आधा किलो रस में, तीन माशे कलमी शोरा मिलाकर पिलाने से पेशाब खुलकर आएगा और जलन नष्ट हो जाएगी। ⇒ पानी की मात्रा बढ़ा दें, पानी, शरीर से संक्रमण फैलाने वाले बैक्‍टीरिया तथा शरीर की गंदगी को बाहर निकाल देगा। साथ ही यह डीहाड्रेशन से भी मुक्‍ती दिलाएगा। आप चाहें तो पानी युक्‍त फलों का सेवन भी कर सकते हैं। ⇒ नारियल पानी पीने से भी पेशाब की जलन ख़त्म हो जाती है। शरीर में होने वाली पानी की कमी पूरी होने के साथ साथ अनेकों मिनिरल्स भी मिल जाते हैं। ⇒ पेशाब करते समय दर्द हो या फिर बार बार उठकर पेशाब जाना पड़े। किसी भी स्थिति में 1 गिलास पानी में 1 चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर पीने से यूरिन में मौजूस एसिडिटी कम हो जाती है। जिससे समस्या में आराम मिलता है। ⇒ अगर आपको किडनी में पथरी की वजह से पेशाब में जलन हो रही है और दर्द होता है तो बीयर पीने से लाभ मिल सकता है। इससे स्टोन गलकर शरीर से बाहर निकल जाएगा। इस उपाय से पहले डॉक्टरी पराशर्म अवश्य करें। ⇒ कुछ दिनों तक गुनगुना पानी पिएं। इससे पेशाब करते समय होने वाले दर्द में आराम मिलेगा। कच्चे दूध में थोड़ा पानी मिलाकर पीने से भी फ़ायदा होता है। इसके अलावा पानी में थोड़ी से फिटकरी डाल दिन में 3 बार पीने दर्द ठीक हो जाता है। और अधिक लेख - बहरापन का कारण, लक्षण, घरेलु उपचार यौन शक्ति बढ़ाने का तरीका नपुंसकता घरेलु इलाज 100% WorkHome Remedies For Dysuria In Hindi

पेशाब में जलन होने के कारण – 

यह समस्‍या 18 से 50 तक के लोगों में बहुत ही आम होती है। इस समस्‍या को डिस्युरीआ भी कहते हैं, जिसमें पेशाब करते वक्‍त जल्‍न और दर्द महसूस होता है। कभी कभार शरीर ओवरहीट भी हो जाती है। यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन यह एक बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है। जैसे –

मूत्र पथ संक्रमित :- यदि किसी व्यक्ति के मूत्र रास्ता संक्रमित हो गया हो, जिसके कारण उसके मूत्र मार्ग में सूजन आ गई हो. तो उसे मूत्र पथ संक्रमित की बीमारी हो सकती हैं।

किडनी में पथरी :- यदि किसी व्यक्ति की किडनी में पथरी हो गयी हो, जिसके कारण उसके गुर्दे में दर्द रहता हो. तो वह व्यक्ति भी इस बीमारी से पीड़ित हो सकता हैं।

डीहाइड्रेशन :- अगर किसी व्यक्ति को डीहाइड्रेशन की समस्या हैं. जैसे उसे अत्यधिक प्यास लगती हैं उसका गला बार – बार सूख जाता हो। तो डीहाइड्रेशन के कारण भी मूत्र में जलन होने की परेशानी हो सकती हैं।

पानी की कमी  :- शरीर में पानी की कमी से होती हैं या कभी-कभी लिवर प्रॉब्लम से भी होती हैं।

पेशाब में जलन होने के लक्षण –

  • पेशाब में बदबू आना।
  • ब्लैडर में दर्द होना।
  • पेशाब बार-बार आना या कम आना।
  • पेशाब का रंग पीला होना।
  • बूंद बूंद पेशाब होना।
  • पेट में दर्द होना और मूत्र मार्ग में जलन होना।

पेशाब में जलन और दर्द से छुटकारा पाने के घरेलु आयुर्वेदिक इलाज 

तुलसी के बीज का हिमजीरा और दानेदार शक्कर को दूध के साथ सुबह शाम एक-दो दिन तक लेने से पेशाब की जलन पीड़ा शांत हो जाती है।

रात को सोने से पहले एक गिलास पानी में 1 चम्मच धनिया पाउडर मिलाकर रख दें और सुबह इसे छान कर गुड़ या चीनी मिलाकर पिएं।

अनार का छिलका सुखा कर बारीक पीस ले। प्रतिदिन 4 ग्राम चूर्ण ताजे पानी में दो-तीन बार लेने से पेशाब की जलन शांत हो जाती है और बार-बार पेशाब नहीं आता। इसे 10 दिन खाए और चावल का परहेज करें।

शीतल चीनी के काढ़े में, पांच बूंदे चंदन का तेल डालकर पीने से पेशाब की जलन तथा पीड़ा मिट जाती है।

बादाम की 5 गिरी और 7 छोटी इलायची मिसरी के साथ पीस लें। इसे एक गिलास पानी में घोलकर पीने से दर्द और जलन कम होने लगती है।

मूली के पत्तों के आधा किलो रस में, तीन माशे कलमी शोरा मिलाकर पिलाने से पेशाब खुलकर आएगा और जलन नष्ट हो जाएगी।

पानी की मात्रा बढ़ा दें, पानी, शरीर से संक्रमण फैलाने वाले बैक्‍टीरिया तथा शरीर की गंदगी को बाहर निकाल देगा। साथ ही यह डीहाड्रेशन से भी मुक्‍ती दिलाएगा। आप चाहें तो पानी युक्‍त फलों का सेवन भी कर सकते हैं।

नारियल पानी पीने से भी पेशाब की जलन ख़त्म हो जाती है। शरीर में होने वाली पानी की कमी पूरी होने के साथ साथ अनेकों मिनिरल्स भी मिल जाते हैं।

पेशाब करते समय दर्द हो या फिर बार बार उठकर पेशाब जाना पड़े। किसी भी स्थिति में 1 गिलास पानी में 1 चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर पीने से यूरिन में मौजूस एसिडिटी कम हो जाती है। जिससे समस्या में आराम मिलता है।

अगर आपको किडनी में पथरी की वजह से पेशाब में जलन हो रही है और दर्द होता है तो बीयर पीने से लाभ मिल सकता है। इससे स्टोन गलकर शरीर से बाहर निकल जाएगा। इस उपाय से पहले डॉक्टरी पराशर्म अवश्य करें।

⇒ कुछ दिनों तक गुनगुना पानी पिएं। इससे पेशाब करते समय होने वाले दर्द में आराम मिलेगा। कच्चे दूध में थोड़ा पानी मिलाकर पीने से भी फ़ायदा होता है। इसके अलावा पानी में थोड़ी से फिटकरी डाल दिन में 3 बार पीने दर्द ठीक हो जाता है।


और अधिक लेख – 

I hope these “Dysuria Treatment in Hindi” will like you. If you like these “Women Quotes in Hindi” then please like our facebook page & share on Whatsapp.

Leave a Comment

Your email address will not be published.