डिप्रेशन के कारण, लक्षण और घरेलु उपाय | Depression Treatment in Hindi

Depression in Hindi

अवसाद मतलब डिप्रेशन को मूड डिसऑर्डर के रूप में वर्गीकृत किया गया है।  इसे उदासी, हानि, या क्रोध की भावनाओं के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो किसी व्यक्ति की रोजमर्रा की गतिविधियों में बाधा डालती है।

लोग विभिन्न तरीकों से अवसाद का अनुभव करते हैं।  यह आपके दैनिक कार्य में बाधा उत्पन्न कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप समय कम और उत्पादकता कम हो सकती है।  यह रिश्तों और कुछ पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों को भी प्रभावित कर सकता है।

Depression

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर में अवसाद विकलांगता का मुख्य कारण है।  यह वयस्कों, किशोरों और बच्चों को प्रभावित कर सकता है।

यह उदासी या दिलचस्पी खोने की सतत भावना जैसी गंभीर अवसाद की विशेषताएं कई व्यावहारिक और शारीरिक लक्षणों की ओर ले जा सकती हैं। इनमें नींद, भूख, ऊर्जा स्तर, एकाग्रता, दैनिक व्यवहार, या आत्मसम्मान में परिवर्तन शामिल हो सकते हैं. अवसाद आत्महत्या के विचार के साथ भी जुड़ा हो सकता है।

डिप्रेशन एक चल रही समस्या है, पासिंग नहीं।  इसमें एपिसोड होते हैं जिसके दौरान लक्षण कम से कम 2 सप्ताह तक रहते हैं।  अवसाद कई हफ्तों, महीनों या वर्षों तक रह सकता है।

डिप्रेशन का कारण – Causes of depression in hindi

अवसाद के कई संभावित कारण हैं।  वे जैविक से परिस्थितिजन्य तक हो सकते हैं।

  • परिवार के इतिहास यदि आपके पास अवसाद या किसी अन्य मनोदशा विकार का पारिवारिक इतिहास है, तो आप अवसाद के विकास के लिए अधिक जोखिम में हैं।
  • बचपन का आघात आपके बचपन की कुछ घटनाएं आपके शरीर को डर और तनावपूर्ण स्थितियों के प्रति प्रतिक्रिया करने के तरीके को प्रभावित करती हैं।
  • मस्तिष्क की संरचना यदि आपके मस्तिष्क की frontal lobeकम सक्रिय है, तो अवसाद के लिए अधिक जोखिम है।  हालांकि, वैज्ञानिकों को यह पता नहीं है कि अवसादग्रस्त लक्षणों की शुरुआत से पहले या बाद में ऐसा होता है या नहीं।
  • चिकित्सा की स्थिति कुछ स्थितियां आपको अवसाद के उच्च जोखिम में डाल सकती हैं, जैसे कि पुरानी बीमारी, अनिद्रा, पुराने दर्द, या ध्यान-घाटे की सक्रियता विकार (एडीएचडी)।
  • नशीली दवाओं के प्रयोग दवा या शराब के दुरुपयोग का इतिहास आपके अवसाद के जोखिम को प्रभावित कर सकता है।

डिप्रेशन के लक्षण – Signs and symptoms in hindi

  • एक उदास मनोदशा।
  • एक बार आनंद लेने वाली गतिविधियों में रुचि या आनंद को कम कर दिया।
  • यौ-न इच्छा की हानि।
  • भूख में बदलाव।
  • अनजाने में वजन कम होना या बढ़ना।
  • बहुत ज्यादा या बहुत कम सोना।
  • Movement, बेचैनी, और ऊपर और नीचे पेसिंग।
  • धीमा movement और भाषण।
  • थकान या ऊर्जा की हानि।
  • मूल्यहीनता या अपराधबोध की भावना।
  • सोचने, ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई।
  • मृत्यु या आत्महत्या के पुनरावर्ती विचार या आत्महत्या का प्रयास।
  • अवसाद का रोगी खुद को परिवार एवं भीड़ वाली जगहों से अलग रखने की कोशिश करता है।
  • अवसाद का रोगी अस्वस्थ भोजन की ओर ज्यादा आसक्त रहता है।

 अवसाद के प्रकार – Types of Depression in hindi

लक्षणों की गंभीरता के आधार पर अवसाद को श्रेणियों में तोड़ा जा सकता है।  कुछ लोग हल्के और अस्थायी एपिसोड का अनुभव करते हैं, जबकि अन्य गंभीर और चल रहे अवसादग्रस्तता एपिसोड का अनुभव करते हैं।

1). Major depressive disorder

यह अवसाद का अधिक गंभीर रूप है।  इसमें उदासी, निराशाजनक और बेकार की लगातार भावना एं आती हैं, जो दूर नहीं जाती।

2). Persistent depressive disorder

इसे  डिस्टीमिया कहा जाता था।  यह एक मामूली, लेकिन पुरानी, ​​अवसाद का रूप है।

डिप्रेशन के उपाय – Depression Treatment in Hindi

अवसाद के साथ रहना मुश्किल हो सकता है, लेकिन उपचार से आपके जीवन की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। संभावित विकल्पों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। आप उपचार से ठीक हो सकते हैं।

1). Medications – आप डॉक्टर की सहायता से डिप्रेशन से जीत हासिल कर सकते हैं।

doctor आपको antidepressent, antianxiety, antipsychotic medications prescribe कर सकते है।

2). Psychotherapy- एक चिकित्सक के साथ बात करने से आपको नकारात्मक भावनाओं से निपटने के लिए कौशल सीखने में मदद मिल सकती है। आप परिवार  से भी बात  कर सकते हैं।

4). Light therapy- सफेद रोशनी की खुराक के संपर्क में आने से आपके मूड को नियंत्रित करने और अवसाद के लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है।  लाइट थेरेपी आमतौर पर मौसमी भावात्मक विकार में प्रयोग की जाती है, जिसे अब मौसमी पैटर्न के साथ प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार कहा जाता है।

 अवसाद के लिए टिप्स – Depression se chutkara in Hindi Tips

  • अपने रुचि के अनुसार काम करे।
  • खुद को महत्व दे।
  • ज़्यादा सोचने से बचें।
  • दोस्तों, परिवार के साथ समय बिता एं।
  • अकेलेपन से बचें।
  • Excercise करें।
  • घर से बाहर निकलें।
  • प्रकृति में समय बिताए।
  • टॉक्सिक लोगो से दूर रहें।
  • सकारात्मक सोच रख।
  • सुबह उठकर सैर पर जाएँ,  उसके बाद योगासन और प्राणायाम करना चाहिए।

इन घरेलु उपाय को अपनाये – Depression Treatment at Home in Hindi

  • सुबह उठकर खाली पेट 1 सेब खाएँ। यह आपके शारीरिक स्वास्थ्य को तो बेहतर रखता ही है। साथ ही मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है।
  • हर रोज 4 से 6 काजू को पीसकर एक कप दूध में मिलाकर पीने से डिप्रेशन का असर कुछ हद तक कम होता है।
  • धूम्रपान, मद्यसेवन या किसी भी प्रकार का नशे का सेवन बिलकुल छोड़ दे।
  • अपने भोजन में एवं सलाद के रूप में टमाटर का सेवन करें।
  • अश्वगंधा अवसाद के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपाय है। प्रतिदिन शहद के साथ एक चम्मच अश्वगंधा का सेवन करें। यह अवसाद जैसी समस्या को दूर करेगा।

Please Note: -किसी भी तरह के उपचार पहले डॉक्टर की सलाह ले।

Also, Read More:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *