जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य और उद्देश्य | Purpose of Life in Hindi

जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य और उद्देश्य | Purpose of Life in Hindi

What is Life in Hindi – Jeevan ka Lakshya

दुनिया का सबसे बड़ा सच अगर कोई हैं तो वो हे मौत हैं, हर किसी को इस दुनिया से एक दिन अलविदा होना हैं। इसी से पता चलता हैं की जीवन कितना अनमोल हैं। इसलिए जीवन में एक लक्ष्य, उद्देश्य होना जरूर हैं। ताकि समय बीतने के बाद पछतावा न रहे। क्यूंकि समय की एक बात सबसे अच्छी हैं की ‘जैसा भी समय रहे वो रुकता नहीं कट ही जाता हैं।’ इसलिए जीवन हमेशा ऐसे जिए की मरने के बाद भी इसका परिणाम अच्छा मिले। तो चलिए जानते हैं जीवन में किन बातो का ख्याल रखना जरुरी हैं… 

कभी आपने सोचा हैं की ऐसा लगता है कि इस संसार में हम अनजाने ही प्रकट हो गए और विभिन्न कारणों से इसमें रंग गए। हमें यह संसार इतना पसंद आने लगता है कि हम हर संभव तरीके से जीवन को बनाए रखना चाहते हैं, जब से हम इंद्रियों का उपयोग करना सीखते हैं तब से इस शरीर को ही मैं मानने लगते हैं और पांचों इंद्रियों – आँख, नाक, कान, जिह्वा एवं त्वचा द्वारा आनंद ढूँढने लगते हैं। लेकिन इसके आगे भी जीवन में कुछ हैं।

परमात्मा जब हमें दुनिया में भेजता हैं तो हमारी इम्तिहान के लिए भेजता हैं। ये एक सपनो को दुनिया हैं जहां हम चंद पल गुजारने आये हैं। जिस दिन आंख बंद हुई, अपनी हकीकत दुनिया में पहुँच जायेंगे। और वहां शुरू होगी हमारी इस दुनिया में किये गए कारनामो का लेखा-जोखा। जो भी इस दुनिया में धन-दौलत कमाए वो तो वहा ले नहीं जा सकते। जो भी ले जायेंगे वो हैं हमारे करम, हमने दुनिया में आके परमात्मा को कितना याद किया, कितने अच्छे काम किये, किस जरुरत मंद का मदद किया. झूठ, लालच, बेमानी से कितने बचे। और इन्ही सब का लेखा-जोखा होने के बाद हमें दोनों में से एक रास्ता पर भेज दिया जायेगा। और वो दो रस्ते होंगे सवर्ग और नर्क का.

इसलिए जीवन जीने में कुछ ऐसे बातो का ख्याल रखे जो की सबसे बड़ा लक्ष्य और उद्देश्य हैं (Purpose of Life in Hindi)

परमात्मा का मत भूलिए 

लोग जब दुनिया में आते हैं और कुछ दिन बाद दुनिया की काम में इतना मशगूल हो जाते हैं की परमात्मा का नाम लेने का भी फुर्सत नहीं रहता हैं। बस कुछ रहता हैं तो वो हैं, धन-दौलत,स्त्री, इज्जत-सोहरत, यही सब पाने में जिंदगी बिता देते हैं। और जब जीवन का अंत समय आता हैं तब परमात्मा को याद करते हैं। लेकिन भगवान् भी उन्ही लोगो को पसंद करता हैं जो अपने जवानी के समय उन्हें याद किया हो, सुख के समय याद किया हो। अक्सर लोगो की आदत रहती हैं जब तकलीफ हो, दुःख की घडी हो तभी भगवान् को याद करते हैं। लेकिन ये अच्छी बात नहीं हैं। हमें दुनिया में कोई कर्ज देता हैं या कोई एहसान करता हैं उसे दिन-रात याद करते हैं। पर जिन्होंने हमें इतनी अनमोल जिंदगी दी हैं उसे कैसे भूल जाते हैं। ये तो सबसे बड़ा एहसान हैं। इसलिए भगवान् को न भूले। पूजा-पाठ, नमाज-रोजा, करते रहे। नहीं तो दुनिया में पछतावा होगा ही साथ ही मरने के बाद भी पछतावा होगा।

बुरी आदत से खुद को बचाये 

हमारी एक सबसे बुरी आदत होती हैं की अपना काम पूरा करने के लिए, झूठ, छल-कपट, बेमानी, एक दूसरे का लड़ाना, जैसा काम करने लगते हैं। लेकिन हम ये भूल जाते हैं की जो काम हम कर रहे हैं उसका सजा हमें जरूर मिलेगा। हम सोचते हैं की हमारे बुरे आदत को अभी कोई नहीं देख रहा हैं, लेकिन ये भूल जाते हैं की भगवान् ये सब चीजों को देख रहे हैं। और ये बाते हमारे जिंदगी की डायरी में नॉट हो रही हैं। जब जिंदगी ख़तम होगी और ये डायरी खुलेगी तब ये बाते सब सामने आएंगे, और उस समय हमारे पास कुछ जवाब नहीं रहेगा। हमें हमेशा ये बात याद रखनी चाहिए की जिंदगी बहुत छोटी हैं,  झूठ, छल-कपट से तो अभी सानो-सौकत वाली जिंदगी जी लेंगे, पर हमारे कारण जिन लोगो को परेशानी हुई हैं उसका सजा भी तो हमें ही मिलेगा जिस समय जीवन ख़त्म होगा। इसलिए इन आदतों के छोड़े और एक पॉजिटिव लाइफ जिए., और दुसरो को भी सिखाये

लोगो के बहकावे से बचे 

दुनिया में अच्छे और बुरे लोग दोनों हैं। इनमे से अच्छे लोगो को चुनना आप पर निर्भर करता हैं। दुनिया में ऐसे लोग हैं जो आपको गहरे गड्डे में धकेल देंगे। आपको हर बुरा काम करवाएँगे, सिर्फ अपना फायदा के लिए। और आपको भी लालच देंगे की आपका फायदा होगा। कभी धर्म के नाम पे, तो कभी ओहदा के नाम पे, पर ये सब बस एक चाल होती हैं. इन सब चीजों से बचे। दुनिया में पुण्य कमाने के बहुत तरीके हैं।

मदद के लिए हमेशा तैयार रहे 

आपने कभी ऐसा गौर किया होगा की आप बहुत परेशानी में हैं और उस समय कोई अनजान आदमी आपका मदद कर आपको परेशानी से निकाल गया। उस समय आपको बहुत ख़ुशी मिलती हैं आप सोचते हैं की उस आदमी ने मदद कर दी। लेकिन उस आदमी को भगवान आपका मदद करने भेजे हैं। ये तब होता हैं जब आप बिना संकोच किसी का मदद पहले कभी करते हैं बिना उस आदमी से कोई उम्मीद किये हुए। मतलब की आप हमेशा किसी जरुरत मंद का मदद करने तैयार रहे, चाहे वो किसी भी जाती, धर्म का हो। अगर आप ऐसा करते हैं तो जब आप कही परेशानी में रहेंगे, जहां पर आपका कोई मदद के लिए न हो तो भगवन किसी न किसी रूप से आपका मदद के लिए आएंगे। मदद से इतना पुण्य मिलेगा जिसका कोई हिसाब नहीं।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.