बच्चो को मिटटी खाना कैसे छुड़ाए: घरेलु उपाय Bacho ko Mitti Khane ki Aadat

Habit of Eating Clay – बच्चे अक्सर बचपन में मिटटी खाते हैं। जिस कारण उन्हें कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं जैसे – पेट में दर्द या पेट में कीड़े होना, स्टोन की शिकायत। पर बच्चे को उसकी इस आदत के लिए डांटना या मारना सही नहीं है। आमतौर पर ऐसे मामलों में मां-बाप सख्ती से पेश आते हैं लेकिन बच्चे को प्यार से समझाना ही सबसे अच्छा तरीका है। बच्चो को मिटी खाने के पीछे उसकी खून की कमी भी हो सकती हैं। इसका कारण बच्चों की खुराक में केवल दूध का सेवन होना है। हर चीज में दूध का मिश्रण होने से बच्चे में खून की कमी हो जाती है। बच्चों की खुराक में अन्न, दाल, सब्जियों की कमी होने से यह समस्या आती है। स्टूल में खून आना भी खून की कमी की निशानी है। बच्चे की ये आदत छुड़ाने का सबसे अच्छा तरीका ये है कि आप उसे दूसरे कामों में उलझा कर रखें ताकि मिट्टी खाने की ओर उसका ध्यान ही नहीं जाए। बच्चो को मिटटी खाना छुड़ाने के लिए निचे कुछ घरेलु उपचार दिए जा रहे हैं…

बच्चो को मिटटी खाना कैसे छुड़ाए: घरेलु उपाय

बच्चों के मिट्टी खाने के कारण – Mitti Khane ke Karan 

वैसे तो बच्चो को मिटटी खाने के कोई खास कारण नहीं हैं, पर बच्चों के मिट्टी खाने के कारणों में विकास संबंधी समस्याएं हो सकती है। जैसे ऑटिज्म की समस्या या बौद्धिक क्षमता की कमी। इसके अलावे कभी-कभी मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के कारण भी बच्चे मिट्टी खा सकते हैं।

एक रिपोर्ट्स के अनुसार बच्चों को कोई भी नॉन फूड आइटम अपने मुंह में डालने की आदत होती है और वो उसके बारे में जानने के लिए ऐसा करते हैं। ऐसा वो एक डिसऑर्डर की वजह से करते हैं, जिसे PICA डिसऑर्डर कहा जाता है। इस डिसऑर्डर से शिकार बच्चे कुछ भी सामान अपने मुंह में डालने की कोशिश करते हैं और 1 से 7 साल के बच्चों में ऐसा दिखने को मिलता है. इस वजह से बच्चे मिट्टी खाते हैं।

इसके अलावा कई रिपोर्ट्स में कहा गया है कि बच्चे किसी भी चीज के स्वाद और सुगंध को जानने के लिए तैयार रहते हैं और उन्हें ऐसा करना अच्छा लगता है। इसके लिए वो टेस्ट या सुंगध के लिए मिट्टी खाते हैं. हालांकि, जैसे जैसे बच्चे बड़े होते हैं, उनकी आदत छूट जाती है।

बच्चो को मिट्टी खाने की आदत को कैसे छुड़ाएं – Mitti Khane ki Aadaat Kaise Chudaye 

Child eating Mud treatment in Hindi

लौंग की कुछ कलियों को पीसकर पानी में उबाल लीजिए। बच्चे को एक-एक चम्मच करके तीन समय ये पानी दें. इससे उसकी मिट्टी खाने की आदत जल्दी ही छूट जाएगी।

पका हुआ केला और शहद बच्चों को साथ-साथ खिलाने से मिट्टी खाने का विकार दूर हो जाता है।

कैल्शियम की गोली खिलाने से बच्चा मिट्टी खाना बंद कर देता है।

घी में गेरू तलकर शहद मिलकर बच्चे को देने से वह मिट्टी खाना बंद कर देता है।

रोज रात गुनगुने पानी के साथ बच्चे को एक चम्मच अजवायन का चूर्ण दें। इससे बच्चें की मिट्टी खाने की आदत छूट जाएगी।

आम की गुठली के पाउडर को थोड़ी मात्रा में पानी में मिला लें और इसे बच्चे को पिलाएं। यह मिट्टी खाने की आदत छुड़वाने के साथ पेट के कीड़े को खत्म करने में मदद करेगा।

इसके आलावा बच्चे की पूरी जांच कराएं। हो सकता है कि बच्चे में कुछ पोषक तत्वों की कमी हो। कई बार पोषक तत्वों की कमी के चलते भी बच्चे मिट्टी खाने लगते हैं। बच्चे को संपूर्ण आहार दें ताकि उसके शरीर में किसी तत्व की कमी न होने पाए।

ये घरेलु उपाय भी आजमाएं – How to Stop Kids from Eating Soil

कई बार बच्चों को मिट्टी खाने की आदत के वजह से माता-पिता डांटते हैं, लेकिन उसकी इस आदत के लिए डांटना या मारना सही नहीं है। बच्चे को प्यार से समझाना ही सबसे अच्छा तरीका है।

जब आपको बच्चे में मिट्टी खाने की आदत नजर आए तो शुरूआती चरण में ही आप कुछ तरीकों को अपनाकर उनके इस व्यवहार को ठीक कर सकते हैं। जैसे आप उन्हें पौष्टिक युक्त आहार दें ताकि उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को आसानी से दूर किया जा सके। साथ ही बच्चे की नियमित जांच करवाएं और किसी चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट से भी बच्चे को मिलवाएं। डॉक्टर सबसे पहले इस बात का पता लगाएगा कि बच्चे के शरीर में कौने से पोषक तत्व की कमी है, जिस वजह से वह मिट्टी का सेवन कर रहा है।

मिट्टी खाने की आदत से बचाव के लिए बच्चों की आदतों पर नजर बनाए रखें। यह पता लागाएं कि किस समय में उसे मिट्टी खाने का मन करता है। एक बार समय का पता चल जाएगा तो उस हिसाब से बच्चे को मिट्टी से दूर रखने में मदद मिल सकती है।

बच्चों में मिट्टी खाने के नुकसान व होने वाली बीमारियां – Bachho ke Mitti Khane ke Nuksaan

बच्चों का मिट्टी खाना उनके सेहत लिए नुकसानदायक हो सकता है। जैसे –

बच्चो को मिटटी खाने से कुपोषण, शरीर में पोषक तत्वों की कमी, कमजोरी, भूख न लगना, पेट में दर्द या कीड़े, आंतों की समस्या या किडनी में भी पथरी हो सकती है। इसके अलावे बच्चों में मिट्टी खाने के कारण होने वाली बिमारियों में आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया की समस्या भी शामिल है।

मिट्टी का सेवन करने के कारण मुंह के साथ-साथ बच्चों के दांतों को भी नुकसान पहुंच सकता है। इसके साथ यह आंतो में भी संक्रमण का खतरा हो सकता है। दरअसल, मिट्टी में कई तरह के परजीवी या कीड़े मौजूद हो सकते है। यह कीड़े मुंह के जरीए बच्चों के पेट में जा सकते हैं। ऐसे में कीड़ों के कारण आंतों में संक्रमण होने का जोखिम भी बढ़ जाता है।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.