इंडोनेशिया देश का इतिहास और जानकारी | Indonesia History In Hindi

Indonesia / इंडोनेशिया (इंडोनेशिया गणराज्य) दक्षिण पूर्व एशिया और ओशिनिया में स्थित एक देश है। यह देश मलेशिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच हज़ारों द्वीपों पर फैला हुआ है। यहां की जनसंख्या लगभग 23 करोड़ है, यह दुनिया का चौथा सबसे अधिक जनसंख्या और दुनिया में सबसे बड़ा मुस्लिम जनसंख्या वाला देश है। इस देश की राजधानी जकार्ता है। इंडोनेशिया पूर्वी एशिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

इंडोनेशिया देश का इतिहास और जानकारी | Indonesia History In Hindiइंडोनेशिया के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी – Indonesia Information In Hindi

इंडोनेशिया की जमीनी सीमा पापुआ न्यू गिनी, पूर्वी तिमोर और मलेशिया के साथ मिलती है, जबकि अन्य पड़ोसी देशों सिंगापुर, फिलीपींस, ऑस्ट्रेलिया और भारत का अंडमान और निकोबार द्वीप समूह क्षेत्र शामिल है। इंडोनेशिया विविधताओं से भरा देश है जिसमें 300 से ज़्यादा स्थानीय भाषाओं का इस्तेमाल होता है। इंडोनेशिया में किसी और देश की तुलना में सबसे ज़्यादा द्वीप हैं, चौदह हज़ार से भी ज़्यादा। जिनमें हजारों द्वीपों पर कोई नहीं रहता। इंडोनेशिया दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के समूह जी-20 का सदस्य भी है।

भौगोलिक तौर पर इंडोनेशिया भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट के प्रति संवेदनशील है। 2004 में समुद्र में आए भारी भूकंप ने पूरे द्क्षिण और पूर्व एशिया के तटीय इलाक़ों को तबाह कर दिया था। हिंद महासागर में आए इस सुनामी में क़रीब 220,000 इंडोनेशियाई लोग मारे गए या लापता हो गए। इंडोनेशिया को पारंपरिक रूप से बेहद समृद्ध माना जाता है और इस देश में त्योहारों की धूम रहती है।

पिछले कुछ सालों में चरमपंथी इस्लामिक संगठनों ने यहां भी अपनी मौजूदगी दर्ज की है। कुछ पर अल-क़ायदा से जुड़े होने का आरोप है। इसमें वो संगठन भी शामिल है जिन पर वर्ष 2002 में बाली में विस्फोट करने का आरोप है. इन विस्फोटों में 202 लोग मारे गए थे।

इंडोनेशिया का इतिहास –  Indonesia History In Hindi

सातवीं शताब्दी से ही इंडोनेशिया द्वीपसमूह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक क्षेत्र रहा है, जब श्रीविजय राजशाही के दौरान चीन और भारत के साथ व्यापारिक संबंध थे। स्थानीय शासकों ने धीरे-धीरे भारतीय सांस्कृतिक, धार्मिक और राजनीतिक प्रारुप को अपनाया और कालांतर में हिंदू और बौद्ध राज्यों का उत्कर्ष हुआ। इंडोनेशिया का इतिहास विदेशियों से प्रभावित रहा है, जो क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों की वजह से खींचे चले आए। मुस्लिम व्यापारी अपने साथ इस्लाम लाए और यूरोपिय शक्तियां यहां के मसाला व्यापार में एकाधिकार को लेकर एक दूसरे से लड़ी। साढ़े तीन सौ साल के डच उपनिवेशवाद के बाद द्वितीय विश्व युद्ध के बाद स्वतंत्रता हासिल हुई।

17, अगस्त 1945 को इंडोनेशिया को नीदरलैंड से आजादी मिली। राष्ट्रीय स्मारक या ‘मोनास’ यहाँ के लोगों के स्वतंत्रता प्राप्त करने के दृढ़ संकल्प का प्रतीक है। 137 मीटर लंबे संगमरमर से बने स्मारक स्तंभ के शीर्ष पर एक ज्योति है जिस पर 35 किलो स्वर्ण की कोटिंग है।

इंडोनेशिया का प्राचीन भारत से भी संबंध रहा है। आज भी यहां के त्योहारों में भारतीयता की झलक दिखाई पड़ती है। यहां प्राचीन हिंदू मंदिर भी हैं जो इस बात की गवाही देते हैं। इस देश में बड़ी संख्या में भारतीय बसते हैं। यहाँ की मुख्य भाषा-भाषा इंडोनेशिया है। अन्य भाषाओं में भाषा जावा, भाषा बाली, भाषा सुंडा, भाषा मदुरा आदि भी हैं। प्राचीन भाषा का नाम कावी था जिसमें देश के प्रमुख साहित्यिक ग्रन्थ हैं।

अर्थव्यवस्था –

इंडोनेशिया एक मिश्रित अर्थव्यवस्था है, जिसमें निजी क्षेत्र और सरकारी क्षेत्र दोनों का भूमिका है इंडोनेशिया दक्षिण-पूर्व एशिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और जी -20 में से एक में अर्थव्यवस्थाएं हैं 2010 में, इंडोनेशिया का अनुमानित सकल घरेलू उत्पाद (नाममात्र) लगभग 706.73 अरब डॉलर था। सकल घरेलू उत्पाद में सबसे अधिक 46.4% योगदान उद्योग क्षेत्र है, इसके बाद सेवा क्षेत्र 37.1% और कृषि 16.5% योगदान करता है। 2010 से, सेवा क्षेत्र में अन्य क्षेत्रों से अधिक रोजगार दिए गए हैं। हालाँकि, कृषि क्षेत्र सदियों तक प्रमुख नियोक्ता था विश्व व्यापार संगठन के अनुसार 2010 में, इंडोनेशिया 27 वें सबसे बड़ी निर्यातक था। तेल और गैस, विद्युत उपकरण, प्लेय-वुड, रबर और वस्त्र मुख्य निर्यात हैं मशीनरी और उपकरण, रसायन, ईंधन और खाद्य पदार्थ इंडोनेशिया का मुख्य आयत हैं।


और अधिक लेख –

Please Note : – Indonesia History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे।

1 thought on “इंडोनेशिया देश का इतिहास और जानकारी | Indonesia History In Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *