Diet Chart For Diabetic Patient in Hindi – मधुमेह रोगियो का आहार

Diabetic / Sugar / मधुमेह  से पीड़ित रोगी को अपने ख़ान-पान मे ध्यान देना अतिआवश्यक हैं। क्यूंकी मधुमेह के रोगी का भोजन केवल पेट भरने के लिए ही नहीं होता, उसके शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा को संतुलित रखने में भी सहायक होता है। चूंकि यह रोग इंसान के साथ जीवन भर रहता है।

आप संतुलित आहार लेके अपने रक्त मे बड़ी हुई अतिरिक्त ग्लूकोज़े को काफ़ी हद तक कंट्रोल मे रख सकते हैं. और ज़्यादा दवाई खाने से भी बच सकते हैं। आमतौर मरीज ब्लडशुगर की नार्मल रिपोर्ट आते ही लापरवाह हो जाता है। मधुमेह के मरीज (Diabetic Patient) के मुंह में गया हर निवाला उसके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। इसलिए जो भी खाएं सोच समझ कर खाएं।

Diet Chart For Diabetic Patient In Hindi - मधुमेह रोगियो का आहार कैसा हो पूरी जानकारीमधुमेह की जानकारी – Diabetes in Hindi

धुमेह ऐसी बीमारी है जो एक बार किसी के शरीर को पकड़ ले तो उसे फिर जीवन भर छोड़ती नहीं। इस बीमारी का जो सबसे बुरा पक्ष है की यह और भी बीमारियों को निमंत्रण देती है और दूसरे बीमारियों को ठीक नहीं होने देती। मधुमेह को धीमी मौत भी कहा जाता है। मधुमेह रोगियों को आंखों में दिक्कत, किडनी और लीवर की बीमारी और पैरों में दिक्कत होना आम है। मधुमेह होने का एक कारन असंतुलित आहार भी हैं। इसका अहम् कारण जब हमारे शरीर के पैंक्रियाज में इंसुलिन का पहुंचना कम हो जाता है तो खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है। इस स्थिति को डायबिटीज कहा जाता है।

डायबिटीज के मरीजों में सबसे ज्यादा मौत हार्ट अटैक या स्ट्रोक से होती है। जो व्यक्ति डायबिटीज से ग्रस्त होते हैं उनमें हार्ट अटैक का खतरा आम व्यक्ति से पचास गुना ज्यादा बढ़ जाता है। यदि आपको या आपके घर में किसी को प्री-डायबिटिक की बीमारी है तो सावधान हो जाएँ। भले ही डायबिटीज (Sugar) को कंट्रोल करने के लिए आप संतुलित भोजन करे। लेकिन भारतीयों के लिए डायबिटीज में कार्बोहाईड्रेट, फैट्स और प्रोटीन का रेश्यो 60:20:20 के अनुपात में रखना ज़रूरी हैं।

चलिए आज कुछ ऐसे ही फुड के बारे मे जानते हैं जो डायबिटीज़ मरीज़ो के लिए बहुत ही फयदेमंद हैं (Diet Chart For Diabetic Patient In Hindi)

(1) नाश्ता : –
  • सुबह की चाय / दूध (सुबह 7-8 बजे) – 1 कप बिना मलाई और शक्कर
  • नाश्ता (सुबह 8 – 9 बजे) – 1 बिना शक्कर और मलाई / 2 – 3 खाकरा / अंकुरित अनाज / सूखा मेवा / फ़ल
  • सुबह 10 बजे – 1 छाछ वेजेटेबल सूप (बिना शक्कर)
(2) लंच / दोपहर का खाना :-
  • 2-3 रोटी + दाल 100 ग्राम + 1 दाल का पानी + दही एक कप बिना शक्कर + हरी सब्जियाँ (ज़रूरत अनुसार) + सलाद का इस्तेमाल ज़्यादा करे (गाजर, ककॅरी, मूली, टमाटर)
(3) शाम 4-5 बजे :-
  • 1 कप चाय / दूध / कोफ़ी (बिना शक्कर) या 1-2 खाकरा.
(4) रात का भजन (रात मे 7 – 8 बजे) :-
  • 2 – 4 रोटी + दाल 100 ग्राम + 1 दाल का पानी + दही 1 कप (बिना शक्कर)  + हरी सब्जियाँ (ज़रूरत अनुसार) + सलाद का इस्तेमाल ज़्यादा करे (गाजर, ककॅरी, मूली, टमाटर)
(5) सोने से पहले (रात मे 9- 10 बजे) :-

मौसम को देखते हुए कोई एक फल (पपीता, तरबूज, अनार, संतरा) + एक कप दूध (बिना शक्कर और मलाई)

मधुमेह रोगी का घरेलू उपचार / नुस्खे – Diabetes Treatment at Home in Hindi

मेथी : एक चम्मच मेथी को पूरी रात 100 मिलीलीटर पानी में भिगो दे और फिर सुबह खाली पेट इस पानी को पिए इससे डायबिटीज कंट्रोल रहती है।

टमाटर का रस : हर सुबह खाली पेट टमाटर के रस में नमक और काली मिर्च मिलाकर पिए।

भिगोया बादाम : रोज़ 6 बादाम (रात भर पानी में भिगो कर) का सेवन भी मधुमेह पर नियंत्रण रखने में सहायक है।

दूध : दूध में कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन अच्छी मात्रा में पाए जाते है, और यह ब्लड शुगर को भी कंट्रोल करता है। इस लिए रोज़ दो गिलास दूध जरुर पिए।

दाल : दाल आपके आहार के लिए बहुत जरुरी है क्यों की यह ब्लड ग्लूकोज लेवल पर काम असर डालता है, अन्य कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थों की तुलना में। इसी प्रकार ब्लड शुगर लेवल को कम रखने में फाइबर बहुत मदद करता है इस लिए फाइबर युक्त सब्जियों को आपने भोजन में शामिल करे और स्वस्थ रहे है।

भोजन : साबुत अनाज, जई, चना आटा, बाजरा और अन्य उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ भोजन में शामिल किये जाने चाहिए। अगर आपको पास्ता या नूडल्स खाने का मान है तो इसे हमेश हरी सब्जी या अंकुरित सब्जी के साथ ही खाए।

सब्जियाँ : उच्च फाइबर सब्जियाँ जैसे मटर, सेम, ब्रोकोली, पालक और पत्तेदार सब्जियां आपने आहार में शामिल करे। इसी तरह दाल और स्प्राउट्स भी एक स्वस्थ विकल्प है।

फल : पपीता, सेब, संतरा, नाशपाती और अमरूद जैसे फलों का सेवन करना चाहिए क्यों की इनमें अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। और आम, केले, और अंगूर जैसे फलों का कम सेवन करना चाहिए क्यों की इनमें चीनी की मात्रा ज्यादा पाई जाती है।

पानी : पानी का इस्तेमाल ज़्यादा-से-ज़्यादा करे।

क्या नॉन-वेज खाना चाहिए? : मांसाहारी आहार में सी-फ़ूड और चिकन खाना चाहिए और लाल मांस(रेड मीट) से बचना चाहिए क्यों की इसमें उच्च मात्रा में सैचरैटड फैट पाया जाता है। इसके अलावा, हाई कोलेस्ट्रॉल के रोगियों को एग योक और लाल मांस से बचना चाहिए।

इन चीज़ो का परहेज करे 

धूम्रपान,चीनी, मिठाई,ग्लूकोज, मुरब्बा, गुड़, आइसक्रीम, केक, पेस्ट्री, मीठा बिस्कुट,चॉकलेट, शीतल पेय, गाढ़ा दूध, क्रीम,तला हुआ भोजन,मक्खन, घी, और हाइड्रोजनीकृत वनस्पति तेल, सफेद आटा,जंक फूड,कुकीज़, डिब्बा बंद और संरक्षित खाद्य पदार्थ, इत्यादि.

इन चीज़ो का सेवन कम करे :-

नमक, मीट, मछली, अंडा, अल्कोहल, चाय, कॉफी, शहद , नारियल, अन्य नट, unsweetened जूस, sea food , इत्यादि. Next …


और अधिक लेख :-

Leave a Comment

Your email address will not be published.