अनानास के 20 जबरदस्त फायदे और गुण | Benefit of Pineapple in Hindi

Benefit of Pineapple / अनानास में विटामिन A और विटामिन C भरपूर मात्रा में होते हैं। इसके अलावा फायबर, पोटेशियम, फ़ॉस्फोरस और कैल्शियम भी इसमें काफी अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। ये सभी तत्व शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत आवश्यक हैं। यह आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। इसका उपयोग खाने, सलाद और डेजर्ट में किया जाता है। आइये जाने अनानास के फायदे और गुण..

अनानास के 20 जबरदस्त फायदे और गुण | Benefit of Pineapple in Hindi

अनानास का सेवन जूस और फ्रूट चार्ट के माध्यम से, उपयोग किया जाता हैं। लेकिन ख़ासतौर पर बच्चो के लिये जो अनानास पसंद नही करते ऐसे में उन्हें – पाइनएप्पल केक, बिस्किटस, मफ्फिन्स , कूकीज़, जेम तथा सलाद, और भी अन्य रूप मे दे सकते है।

अनानास की मात्रा : 100 gm – Pineapple Nutrition Fact

नुट्रीशियन / Newtrition
मात्रा / Quantity
बेसिक कंपोनेंट्स
प्रोटीन.60 g
एनर्जी55 कैलोरी
कैलोरीज
टोटल कैलोरीज210
कार्बोहाइड्रेट
टोटल कार्बोहाइड्रेट15 g
शुगर10 g
फैट एंड फैटी एसिड्स
टोटल फैट.15 g
विटामिन्स
विटामिन्स A2%
विटामिन्स  C80%
विटामिन्स B67%
मिनरल्स
आयरन2%
मैग्नीशियम5%
पोटेशियम4%

अनानास के फायदे और गुण – Health Benefit of Pineapple Fruit in Hindi – Advantage of Pineapple Juice in Hindi

1). डायबिटीज मे सहायक :- अनानास मे एक नेचुरल मिठास होती है, जिसे सीमित मात्रा मे एक शुगर पेशेन्ट भी ले सकता है और, अपना शुगर लेवल नियंत्रित कर सकता है। ख़ासतौर पर, लो डायबिटीज पेशेन्ट अपने डॉक्टर की सलाह से ले सकते है।

2). गले की बीमारियों से निजात :- अनानास में पाया जाने वाला ब्रोमिलेन सर्दी और खांसी, सूजन, गले में खराश और गठिया में फायदेमंद होता है। यह पाचन में भी उपयोगी होता है। अनानास फल के रस में मुलेठी, बहेड़ा और मिश्री मिलाकर सेवन करने से दमे और खाँसी में लाभ होता है।

3). आंखों की रोशनी बढ़ाये :- अनानास अपने विशिष्ट गुणों के कारण आंखों की दृष्टि के लिए भी उपयोगी होता है। पूर्व में हुए शोधों के मुताबिक दिन में तीन बार इस फल को खाने से बढ़ती उम्र के साथ कम होती आंखों की रोशनी का खतरा कम हो जाता है।

4). कैंसर मे सहायक :- वैसे तो कैंसर बहुत बड़ी बीमारी है पर फिर भी, कई छोटी-छोटी चीजे कामगार सिद्ध हो जाती है, बड़ी-बड़ी बीमारियों मे। अनानास मे रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है जो, कैंसर के कीटाणुओं से लड़ने मे सहायक होती है।

5). मैक्यूलर डीजेनेरेशन को रोके :- इसमें मैक्यूलर डीजेनेरेशन को रोकने की क्षमता होती है। मैक्यूलर डीजेनेरेशन उम्र से जुड़ी ऐसी बीमारी है जिसमें धीरे-धीरे आंख का सेंट्रल विजन खत्म हो जाता है।

6). पथरी का उपचार :- ये एक नैचरोपैथी हर्ब है, जिन लोगों को शरीर में बहुत ज्यादा सूजन रहती हो उन्हें रोजाना अनानास के दो से तीन पीस खाने चाहिए। जिन लोगों को पथरी है या किडनी स्टोन का दर्द उठता है उन्हें रोजाना एक गिलास अनानास का जूस पीना चाहिए। इससे किडनी स्टोन का दर्द कम होगा।

7). रक्तचाप मे सहायक :- रक्तचाप जिसे ब्लडप्रेशर के नाम से जाना जाता है। एक सर्वे के माध्यम से पता चला है कि पोटेशियम की मात्रा से रक्तचाप को नियंत्रित किया जा सकता है। अनानास मे पोटेशियम होता है, इसलिये अनानास का सेवन ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिये बहुत ही अच्छा होता है।

8). पित्त-विकार दूर करे :- अननास को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े करके खाने से पित्त-विकार दूर होते हैं।

9). हजम करे :- अनानास पर काली मिर्च और काले नमक का चूर्ण डालकर सेवन करने से बदहजमी की समस्या दूर होती है।

10). बहुमूत्र की समस्या में लाभ :- अनानास,जायफल, पीपल, काला नमक व जीरा सभी चीजें बराबर मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। तीन ग्राम चूर्ण जल के साथ सुबह-शाम सेवन करने से बहुमूत्र की समस्या में बहुत लाभ होता है।

11). मोटापा के लिए फायदेमंद :- रोजाना दो सौ ग्राम अनानास का रस पीने से मोटापा कम होता है क्योंकि अनानास का रस चर्बी को पिघलाकर निष्कासित करता है। साथ ही इसका सेवन से पिसाब में रूकावट नहीं आती।

12). अजीर्ण के लिए :- अजीर्ण के रोगी को अनन्नास पर काली मिर्च का चूर्ण छिड़ककर, सेंधा नमक डालकर सेवन करना चाहिए।

13). गर्मियों में फायदा :- अनानास के शर्बत को पीने से गर्मियों की गरमाहट दूर होती है और लू लगने का खतरा काम रहता हैं। तेज प्यास भी शांत होता है।

14). चेहरे के लिए लाभदायक :- अनानास का रस सुबह नाश्ते मे बहुत लाभदायक है। इससे त्वचा पर निखार आता है। भरपूर विटामिन्स होने के कारण यदि फेस पर मुहासे, पिम्पल्स, या अन्य कोई त्वचा सम्बन्धी प्रोब्लम हो तो उसमे भी सुधार आता है।

15). अनानस के फायदे, अनानस में फोलिक आम्ल होता है जो स्वस्थ गर्भावस्था में मदद करता है। फोलिक आम्ल गर्भ के शिशु के दिमाग के स्वास्थय के लिए उपयुक्त होता है।

16). स्कर्वी रोग में :- विटामिन, सी, व अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थों के अभाव के कारण स्कर्वी रोग होने पर अनानास खाने व रस पीने से बहुत लाभ होता है।

17). फोड़े-फुन्सियों की औषधि :– अनानास का गूदा फोड़े-फुन्सियों पर लेप करने से बहुत फायदा होता है।

18). प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये :- अनानास से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और साधारण ठंड से भी राहत मिलती है।

19). मसूडों और दांतों :- मसूडों और दांतों को स्वस्थ रखने में पाइनेपल बहुत कारगर है। इसके ज्यूस (Pineapple Juice) से दांत मजबूत बनते हैं।

20). संक्रमण दूर करे :- तांबा, मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस जैसे खनिज महिलाओं के स्वास्थय के लिए आवश्यक होते हैं। नियमित रूप से अनानस का रस पिने से मूत्रमार्ग के संक्रमण दूर होते हैं।

अनानास के नुक्सान – 

1). ज्यादा मात्रा में अनानास का उपभोग करने से आपके होंठ, भीतरी गाल और जीभ में सूजन हो सकती है। हालांकि यह सूजन कुछ ही घंटों के भीतर स्वयं ही ठीक हो जाती है परंतु यदि आपको रैशेस भी हो रही हों तो तुरंत एक अच्छे डॉक्टर से संपर्क अवश्य करें।

2). अनानस के अत्यधिक सेवन से आपको संधिशोथ भी हो सकता है। इसके अलावा इसका अधिक सेवन गले व किडनी सम्बंधित विकारों का भी कारण बन सकता है।

3). गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए। इसके सेवन से गर्भाशय संकुचन हो सकता है जिसका एक परिणाम गर्भपात भी हो सकता है। स्तनपान करा रही महिलाओं को भी जितना हो सके इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

4). अनानास का सेवन कभी भी एंटी-बायोटिक दवाइयों के साथ नहीं करना चाहिए, इससे एंटी-बायोटिक दवाई खाने के दुष्प्रभाव बढ़ सकते हैं और आपको सीने में दर्द, खांसी–बुखार, सिर घूमना आदि लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *