राहुल द्रविड की जीवनी | About Rahul Dravid Biography in Hindi

Rahul Dravid / राहुल द्रविड भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान एवं विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं। अक्टूबर 2005 में वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में नियुक्त किये गए और सितम्बर 2007 में उन्होंने अपने इस पद से इस्तीफा दे दिया था। वे दुनिया के अनुभवी क्रिकेटरों में से एक हैं। विश्व टेस्ट क्रिकेट में “दीवार” की उपाधि से मशहूर राहुल द्रविड़ को 2000 में पांच विसडेन क्रिकेटरों में से एक के रूप में सम्मानित किया गया था।

राहुल द्रविड की जीवनी | About Rahul Dravid Biography in Hindiराहुल द्रविड का परिचय – Rahul Dravid Biography in Hindi

लम्बे समय तक बल्लेबाजी करने की उनकी क्षमता के कारण उन्हें दीवार के रूप में जाना जाता है, द्रविड़ ने क्रिकेट की दुनिया में बहुत से रिकॉर्ड बनाये हैं। द्रविड़ बहुत शांत व्यक्ति है। “दीवार” के रूप में लोकप्रिय द्रविड़ पिच पर लम्बे समय तक टिके रहने के लिए जाने जाते हैं। द्रविड़ को 2004 के उद्घाटन पुरस्कार समारोह में इस वर्ष के आईसीसी प्लेयर और वर्ष के टेस्ट प्लेयर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर के बाद वे तीसरे ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 10,000 से अधिक रन बनाये हैं।

प्रारंभिक जीवनी –

राहुल द्रविड जिनका पूरा नाम राहुल शरद द्रविड़ (Rahul Sharad Dravid) है का जन्म इंदौर, मध्य प्रदेश के मराठा परिवार में 11 जनवरी 1973 को हुआ। उनके पैतृक पूर्वज थंजावुर, तमिलनाडु के अय्यर थे। वे बेंगलोर कर्नाटक में बड़े हुए। वे मराठी और कन्नड़ बोलते है। विजय उनके छोटे भाई हैं। दोनों भाई एक साधारण मध्यम वर्ग के माहौल में बड़े हुए। द्रविड के पिता जी. ई. इलैक्ट्रिक के लिए काम करते थे, यह एक कम्पनी है जो अचार बनाने के लिए जानी जाती है, इसीलिए सेंट जोसेफ हाई स्कूल बेंगलोर में उनकी टीम के सदस्यों ने उन्हें जेमी उपनाम दे दिया था। उनकी माँ पुष्पा, बंगलौर विश्वविद्यालय में वास्तुकला की प्रोफेसर थीं। राहुल द्रविड ने कर्नाटक के सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ़ कोमर्स बेंगलोर से डिग्री प्राप्त की। राहुल ने नागपुर की एक सर्जन डॉक्टर विजेता पेंधारकर से शादी की और इनके अब दो पुत्र हैं समित और अन्वय।

क्रिकेट करियर –

राहुल द्रविड अपने क्रिकेट करियर की शुरुवात 12 वर्ष की उम्र में ही कर दी थी। अंडर-15, अंडर-17 और अंडर-19 के स्तर पर उन्होंने स्टेट का प्रतिनिधित्व किया। राहुल की प्रतिभा को एक पूर्व क्रिकेटर केकी तारापोरे ने देखा जो चिन्ना स्वामी स्टेडियम में एक प्रशिक्षण शिविर में कोचिंग कर रहे थे। उन्होंने अपनी स्कूल टीम के लिए शतक बनाया। यही उनकी जिंदगी की अहम् मोड साबित हुई। राहुल द्रविड़ बल्लेबाजी के साथ साथ, विकेट कीपिंग भी कर रहे थे। हालांकि, बाद में उन्होंने पूर्व टेस्ट खिलाडियों गुंडप्पा विश्वनाथ, रोजर बिन्नी, बृजेश पटेल और तारापोर की सलाह पर विकेट कीपिंग बंद कर दी।

1991 में उन्हें पुणे में महाराष्ट्र के ख़िलाफ़ रणजी ट्रॉफी की शुरुआत करने के लिए चुना गया साथ ही भावी भारतीय टीम के साथी अनिल कुंबले और जवागल श्रीनाथ ने 7 वीं स्थिति में खेलते हुए बल्लेबाजी के बाद एक ड्रा मैच में 82 का स्कोर बनाया। उनका पहला पूर्ण सत्र 1991-92 में था, जब उन्होंने 63.3 के औसत पर 380 रन बना कर 2 शतक बनाये और दलीप ट्रॉफी में उन्हें दक्षिणी जोन के लिए चयनित किया गया।

द्रविड के अंतर्राष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत एक निराशाजनक तरीके से हुई जब मार्च 1996 में विश्व कप के ठीक बाद सिंगापुर में सिंगर कप के लिए श्रीलंका की क्रिकेट टीम के ख़िलाफ़ एक दिवसीय मेच खेलने के लिए उन्हें विनोद काम्बली की जगह लिया गया। विश्वस्तरीय मैच में राहुल महज तीन रन में मुथैया मुरली धारण की गेंद पर आउट हो कर पवेलियन लौट आये। हालाँकि अपनी फ़ील्डिंग का अच्छा प्रदर्शन करते हुए इन्होने इसी मैच में दो कैच पकड़े थे। इसी तरह अपने दुसरे एक दिवसीय मैच में भी इन्हें निराशा का सामना करना पड़ा, जिसमे ये पकिस्तान के ख़िलाफ़ सिर्फ़ 4 रन बनाकर रनआउट हो गये। इसके बाद उन्हें टीम से हटा दिया गया, और फिर से इंग्लैंड के दौरे के लिए चुना गया।

राहुल द्रविड़ ने सौरव गांगुली के साथ इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दूसरे टेस्ट मैच में शुरुआत की, जब इसी दौरे में पहले टेस्ट मैच के बाद संजय मांजरेकर घायल हो गए। इस समय राहुल द्रविड़ को मौका मिला इसमें इन्होने 95 का स्कोर बनाया और मांजरेकर की वापसी पर 84 का स्कोर बनाते हुए तीसरे टेस्ट के लिए अपनी इस स्थिति को बनाये रखा। ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ़ अच्छे प्रदर्शन के बाद द्रविड ने 1996-97 में दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर भी इस स्थिति को बनाये रखा। उन्होंने जोहान्सबर्ग में तीसरे टेस्ट में तीसरे नंबर पर खेलते हुए 148 और 81 के साथ अपना पहला शतक बनाया। प्रत्येक पारी में उनका स्कोर अधिकतम था जिसने उन्हें ‘मैन ऑफ़ द मैच’ का अवार्ड दिलाया। इसी के साथ क्रिकेट विशेषज्ञों और आम क्रिकेट प्रेमियों का ध्यान इनकी तरफ आकर्षित हुआ।

उन्होंने 1996 में सहारा कप में पाकिस्तान के खिलाफ पहला अर्द्ध शतक बनाया, इस मेच में उन्होंने अपने दसवें मेच में, 90 का स्कोर बनाया। 1998 के मध्य में इन 18 महीनों की समाप्ति तक उन्होंने एक श्रृंखला वेस्ट इंडीज के खिलाफ खेली, एक श्रृंखला श्री लंका के खिलाफ खेली और एक घरेलू श्रृंखला ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली, उन्होंने लगातार 56.7 के औसत पर 964 रन बनाये। उन्होंने 11 अर्द्ध शतक लगाये लेकिन इसे ट्रिपल आंकडों में बदलने में समर्थ नहीं बन पाए। इसके बाद इनकी भारतीय टीम में जगह फिक्स हो गयी। और कई रिकॉर्ड बनाये।

वे एकमात्र भारतीय हैं जिन्होंने विश्व कप में दो बेक टू बेक शतक बनाये. उन्होंने केन्या के खिलाफ 110 रन बनाये और इसके बाद टाउनटन में एक मेच में 145 रन बनाये। जहाँ बाद में उन्होंने विकेट कीपिंग की। 2003 के विश्व कप के दौरान वे उपकप्तान रहे जिसमें भारत फाइनल तक पहुँचा, उन्होंने अपनी टीम के लिए दोहरी भूमिका निभाई एक बल्लेबाज की और एक विकेट कीपर की, एक अतिरिक्त बल्लेबाज का कम भी किया, भारत के लिए यह बहुत फायदे की बात थी। द्रविड़ वेस्ट इंडीज में 2007 के विश्व कप में कप्तान रहे जहाँ भारतीय क्रिकेट टीम का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। इस विश्वकप भारत में भारतीय टीम सेमिफाइनल तक नहीं पहुँच पायी।

2012 में इन्होने टेस्ट क्रिकेट और घरेलु क्रिकेट से संन्यास ले लिया। इस दौरान वे आईपीएल में राजस्थान टीम से कप्तान बने रहे। 2013 आईपीएल के बाद उन्होंने टी-20 क्रिकेट से भी संन्यास ले लिया।

उपलब्धिया –

  • द्रविड तीसरे भारतीय (दुनिया में छठे) हैं जिन्होंने 10,000 से अधिक टेस्ट रन बनाये हैं।
  • वे एकमात्र खिलाड़ी हैं जिसने देश से बाहर टेस्ट खेलने वाले प्रत्येक राष्ट्र के ख़िलाफ़ शतक बनाया है।
  • वे देश से बाहर भारत के लिए किसी भी विकेट के लिए सर्वोच्च साझेदारी में शामिल रहे हैं, ये साझेदारी 2006 में लाहौर में पकिस्तान के ख़िलाफ़ वीरेंद्र सहवाग के साथ बनाये गए, इस साझेदारी में 410 रन बनाये गए।
  • द्रविड उन तीन बल्लेबाजों में से एक हैं जिन्होंने चार लगातार परियों में टेस्ट शतक लगाये।
  • राहुल द्रविड़ की पहचान टेस्ट क्रिकेट से है. इसमें उन्होंने 164 टेस्ट खेलकर कुल 286 पारी में 13228 रन बनाए. इसमें इनका औसत 52.70 का रहा।
  • लगातार 7 टेस्ट मैचों में द्रविड ने 50 या अधिक रन बनाये, इस दृष्टि से भारतीय बल्लेबाजों में वे केवल सचिन तेंडुलकर (8) से पीछे हैं।
  • उन्होंने 94 टेस्टों की 150 परियाँ 3 नंबर पर खेली हैं। उन्होंने इस स्थिति में 8000 से अधिक रन बनाए हैं। ये दोनों तथ्य विश्व रिकॉर्ड के रूप में दर्ज हैं।
  • वे सुनील गावस्कर के बाद दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं जिन्होंने एक टेस्ट में दो बार जुड़वां शतक बनाया है। गावस्कर और रिकी पोंटिंग मात्र बल्लेबाज हैं जिन्होंने एक टेस्ट में तीन बार जुड़वां शतक बनाये हैं।
  • राहुल ने 89 आईपीएल मैच खेले, जिसमे 11 अर्धशतक के साथ 2174 रन बनाए।

और अधिक लेख –

Please Note : – Rahul Dravid Biography & Life History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे। Rahul Dravid Life Story In Hindi व नयी पोस्ट डाइरेक्ट ईमेल मे पाने के लिए Free Email Subscribe करे, धन्यवाद।

1 thought on “राहुल द्रविड की जीवनी | About Rahul Dravid Biography in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *