कब्ज का घरेलू/रामबाण इलाज Kabj Kaise Dur Kare In Hindi

Kabj Kaise Dur Kare In Hindi

कब्ज कैसे दूर करे – Kabj Dur Karne Ke Upay In Hindi  :-


कब्ज /constipation ऐसी बीमारी हैं जो सारे बीमारियो का मूल कारण हैं। कब्ज से पीड़ित लोगो का ना दिन सही रहता हैं ना रात, ना ही भूख लगता हैं ना प्यास लगता हैं। और आज का दौर मे दुनिया के बड़ी संख्या मे लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, और लगभग हर व्यक्ति को अपने लाइफ मे कभी ना कभी इस बीमारी का सामना करना पड़ता हैं। खास कर महिलाओं मे कब्ज की बीमारी ज़्यादा मात्रा मे पाया जाता हैं। बहुत से लोग इस बीमारी से बहुत दीनो तक परेशान रहते हैं।

खैर जो भी है अब चिंता करने की कोई ज़रूरत नही हैं। चलिए मैं आपको कुछ ऐसे घरेलू उपाय बताता हूँ जिसे इस्तेमाल करके कब्ज को छू मंतर कर सकते हैं, ये कब्ज के लिए रामबाण के जैसा हैं।

कब्ज होने के लक्षण  :- 

 ऐसा महसूस हो कि आपकी अँतड़ियां पूरी तरह से खाली नहीं हुई हो।

 मल त्याग के लिए ज़ोर लगाना पड़े।

 मल (टट्टी) का बहुत हार्ड और कम मात्रा में होना।

 पेट में सूजन या दर्द होना।

 उल्टी होना।

कब्ज होने के वजह :-

⇒  खाने के बाद बैठे रहना या रात को भोजन पश्चात सो जाना हैं।

 भोजन ग्रहण करने में अनियमितता व बासी भोजन करना।

 बहुत ज़्यादा आराम करना व कम शारीरिक काम करना।

 ऐसे आहार जिनमें चर्बी और शक्कर ज्यादा हों और रेशे कम हों।

 काफी मात्रा में तरल पदार्थ न लेना।

 जब मल त्याग की इच्छा हो तब शौचालय न जाना।

 धूम्रपान / कैफीन द्रव्यों का सेवन।

 गरम मसाले वाले तथा अधिक तैलीय खाना खाना।

कब्ज ठीक करने के घरेलू उपाय/ नुस्खे :-

⇒  नियमित व्यायाम, योगासन व सुबह कुछ देर टहलने की आदत डालें। सूर्योदय से पूर्व बिस्तर अवश्य छोड़ दें।

⇒  गरिष्ठ, बासी व बाजार के खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। चाय, कॉफी, धूम्रपान व मादक वस्तुओं से भी परहेज करें।

⇒  20 ग्राम त्रिफला रात को 250 ग्राम पानी में भिगोकर रख दें। सुबह शौच से पूर्व त्रिफला का निथरा हुआ पानी पी लें, कुछ ही दिनों में कब्ज दूर हो जाएगा।

⇒  रोज रात्रि में हर्रे का बारीक चूर्ण एक चम्मच फाँक कर एक गिलास कुनकुना पानी पीने से कब्ज दूर होकर पेट साफ रहता है।

⇒  प्रतिदिन नींबू और अंगूर को आहार में शामिल करें।

⇒  प्रातःकाल बिना कुछ खाए चार दाने काजू, 5 दाने मनुक्का के साथ खाने से भी कब्ज में लाभ होता है।

⇒  गाजर-मूली, शलजम, टमाटर, पालक की पत्तियाँ, चौलाई और बीट की पत्तियों के सलाद में नारियल की गिरी भी मिला दें।

⇒  एक चुटकी काला नमक गुनगुने पानी में डालें और उसे सुबह खाली पेट पीकर 15 मिनट तक चहलकदमी करें, कब्ज़ में अवश्य ही राहत मिलेगी।

⇒  अमरूद (Gauva) भी कब्ज़ में बहुत राहत पहुँचाता है। इसके गूदे और बीज में फाइबर की उचित मात्रा होता है। इसके सेवन से खाना जल्दी पच जाता है और एसिडिटी (Acidity) से भी राहत मिलती है, साथ ही पेट भी साफ हो जाता है।

⇒  एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू (Lime) और नमक (Salt) मिलाकर सुबह खाली पेट पीने से भी कब्ज़ में काफी आराम मिलता है।

⇒  ब्रैन सिरियल, होल ग्रेन ब्रेड, कच्ची सब्जियां, ताजे या सुखाये हुए फल, सूखा मेवा और पॉपकॉर्न जैसी अधिक रेशे वाली चीजें खाइए। रेशे शरीर से मल को निकलने में मदद करते हैं।

⇒  दिन में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। गुनगुने या गरम पानी से आपकी आँतों को आसानी से काम करने में मदद मिल सकती है।

⇒  चीज़, चॉकलेट और अण्कडें आदि कम खाना चाहिए क्योंकि इनसे कब्ज (Kabj) बढ़ सकती है।

⇒  मल को नरम करने के लिए आलू बुखारे या सेब का रस पीजिए।

⇒  पीपल के पत्तों क काढ़ा पीने से भी कब्ज मिटता है। पीपल के लाल चटक फल खाने से भी कब्ज में राहत मिलती है।

⇒  तुलसी के पत्ते, अनार, लीची, काजू, मटर, खीरा, बादाम, खजूर, पका केला दही के साथ, हींग, गेहूं के पौधे क रस, संतरा, मेथी, गौमूत्र, केसर, अंजीर, दूध और अंजीर, मूली का रस, मूली के हरे पत्ते, मूली के बीजो का चूर्ण और कच्चा प्याज आदि चीजें पाचन शक्ति अनुसार ग्रहण करने से कब्ज की तकलीफ दूर होती है।

⇒  सब्जी पकाते समय उसमे लहसुन का प्रयोग करने से कब्ज की सम्भावना कम हो जाती है। लहसुन पाचन शक्ति वर्धक और गैस का शत्रु है। इसलिए लहसुन का सेवन नित्य करना चाहिए।

⇒  कब्ज में पैदल चलने से लाभ होता है।

You May Also Like This Article :-
loading...

LEAVE A REPLY