सरिस्का राष्ट्रीय पार्क की जानकारी, इतिहास – Sariska Tiger Reserve in Hindi

Sariska Tiger Reserve in Hindi / सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान राजस्थान (भारत) के अलवर ज़िले में स्थित एक राष्ट्रिय पार्क है। यह भारत के प्रोजेक्ट टाइगर अभ्यारण्यों में से एक है। यह अभ्यारण्य 1958 ई. में बना था। इसके विकास के लिए ‘विश्व वन्यजीव कोष’ से भी सहायता प्राप्त हो रही है। यह राष्ट्रीय उद्यान सुंदर अरावली की पहाड़ियों में स्थित है तथा 800 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।

सरिस्का राष्ट्रीय पार्क की जानकारी, इतिहास Sariska Tiger Reserve in Hindiसरिस्का राष्ट्रीय पार्क – Sariska Tiger Reserve Park History in Hindi

‘सरिस्का’ बाघ अभयारण्य भारत में सब से प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। यह राजस्थान के राज्य के अलवर जिले में स्थित है। यह स्थान जो कभी अलवर राज्य में एक शिकारगाह थी, 1955 में वन्यजीव अभयारण्य घोषित हुआ तथा 1979 में इसे एक राष्ट्रीय पार्क का दर्जा मिला। यह दिल्ली से लगभग 200 किमी और जयपुर से 107 किमी की दूरी पर स्थित है।

ईसापूर्व 5वीं शताब्दी के धर्मग्रन्थों में इस स्थान का उल्लेख मिलता है। कहा जाता है कि पांडवों ने अपने वनवास के दौरान सरिस्का में आश्रय लिया था। 8वीं से 12वीं शताब्दी के दौरान यहाँ के अमीरों ने अनेक मंदिरों का निर्माण करवाया। सरिस्का में बने मंदिरों के अवशेषों में गौरवशाली अतीत की झलक दिखती है। सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में एक पहाड़ी की चोटी पर एक 17 वीं सदी का महल भी मौजूद है, तथा यह गिद्धों और चील की उड़ान का एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है।

मध्यकाल में औरंगज़ेब ने अपने भाई को कैद करने के लिए कंकावड़ी क़िले का प्रयोग किया था। 20वीं शताब्दी में महाराजा जयसिंह ने सरिस्का को संरक्षित क्षेत्र बनाने के लिए अभियान चलाया। आज़ादी के बाद 1958 में भारत सरकार ने इसे वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया और 1979 में इसे प्रोजेक्ट टाईगर के अधीन लाया गया।

राष्ट्रीय उद्यान की बाघ की आबादी लगभग 2005 में गायब हो गई थी। हालांकि, राजस्थान राज्य सरकार और भारत के वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट द्वारा कुछ निरंतर प्रयासों के बाद, 2008 में 2 बाघ और 3 बाघिन लाया गया। अक्टूबर 2018 में की गई गणना के अनुसार सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में बाघों की संख्या 18 (5 शावक शामिल) है।

सरिस्का राष्ट्रीय पार्क की जानकारी – Sariska Tiger Reserve Information in Hindi 

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में घास, शुष्क पर्णपाती वन,चट्टानें और चट्टानी परिदृश्य दिखाई पड़ते हैं। इस क्षेत्र के बड़े हिस्से में धाक के वृक्ष पाये जाते है और यहां विभिन्न वन्यजीव प्रजातियं रहती हैं। सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान विविध प्रजातियों के जंगली जानवरों- तेंदुए, चीतल, सांभर, नीलगाय, चार सींग वाला हिरण, जंगली सुअर, रीसस मकाक, लंगूर, लकड़बग्घा, पक्षियों, और जंगली बिल्लियों का शरणस्थल है। इस राष्ट्रीय उद्यान में बड़ी संख्या में मोर, सैंडग्राउस, स्वर्ण कठफोड़वा और कलगी नागिन ईगल भी हैं।

टाइगर रिजर्व तेंदुआ, जंगली कुत्ता, जंगली बिल्ली, लकड़बग्घा, सियार, सांप और चीता सहित अन्य मांसाहारी जानवरों का भी शरणस्थल है। सरिसका राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले पेड़ों की विभिन्न प्रजातियां हैं जैसे बरगद या बरगद, अर्जुन, गगल या बांस। सरिस्का पुराने मंदिरों, महलों और झीलों जैसे पांडु पोल, भांगगढ़ किला, अजैबगढ़, प्रतापगढ़, सिलिसर झील और जय समंद झील के लिए भी प्रसिद्ध है।

सरिस्का राष्ट्रीय पार्क कैसे पहुंचें – How To Reach Jaisalmer Fort in Hindi

सरिस्का राष्ट्रीय पार्क आप आसानी से पहुँच सकते हैं। यहां सबसे नजदीकी अलवर रेलवे स्टेशन पार्क से लगभग 40 किमी दूर स्थित है। दिल्ली से जयपुर तक की सभी ट्रेन यहां से होकर गुजरती हैं। वायु मार्ग की बात करे तो, जयपुर हवाई अड्डे अलवर से करीब 110 किमी के सबसे निकट हवाई अड्डा है। यह अच्छी तरह से देश के बाकी हिस्सों से जुड़ा हुआ है। और सड़क मार्ग सरिसका दिल्ली जयपुर मार्ग में है और सड़क के माध्यम से आसानी से पहुंचा जा सकता है।

घूमने का सही समय – 

सरिस्का वन्यजीव अभयारण में पूरे साल सैलानियों की भीड़ लगी रहती है। यहाँ पर जाने का सबसे अधिक अच्छा समय जून से अक्तूबर तक का है। इस दौरान यहाँ पर जंगल के राजा को उसके परिवार के साथ घूमते हुए बड़ी आसानी से देखा जा सकता है। एक प्रसिद्ध उद्यान होने की वजह से इस राष्ट्रीय उद्यान के आसपास बहुत सारे निजी होटल और रिसोर्ट बने हुए, लगभग सभी होटल और रिसोर्ट की ऑनलाइन बुकिंग इंटरनेट पर उपलब्ध है।

फ़ीस और टाइमिंग – Sariska Tiger Reserve Fees and Timing in Hindi

सरिस्का नेशनल पार्क पूरे सप्ताह सुबह 6:00 बजे से लेकर रात को 8:00 बजे तक खुला रहता है। इस दौरान आप प्रवेश कर सकते हैं। यहां भारतीयों के लिए – 20रु. और विदेशियों के लिए – 100रु हैं।

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में सफारी – Sariska National Park Safari In Hindi

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान में घूमने के लिए वन विभाग जीप सफारी और कैंटर सफारी की सुविधा उपलब्ध करवाता है, मंगलवार और शनिवार को पर्यटको को निजी वाहन के साथ भी प्रवेश की अनुमति दी जाती है। पार्क में घूमने का सबसे सुविधाजनक वाहन जीप सफारी है, जीप में एक साथ 6 लोग बैठने की क्षमता होती है। यहां कैंटर सफारी भी मौजूद हैं। कैंटर में एक समय में एक साथ 20 लोग सफारी का आनंद ले सकते है।


और अधिक लेख –

Please Note : – Sariska Tiger Reserve Park Information in Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *