खजराना मंदिर का इतिहास और जानकारी | Khajrana Ganesh Mandir

0

Khajrana Ganesh in Hindi / खजराना गणेश मंदिर, मध्य प्रदेश के इन्दौर में स्थित भगवन गणेश को समर्पित मंदिर है। खजराना के इस मंदिर का निर्माण होल्कर राज्य की महारानी अहिल्याबाई ने करवाया था। इस मंदिर को देश के सबसे धनी मंदिरों में से एक माना जाता है।

खजराना मंदिर का इतिहास और जानकारी | Khajrana Ganesh Mandir

खजराना मंदिर की जानकारी  – Khajrana Ganesh Mandir Indore in Hindi

खजराना मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां श्रद्धालु जो भी कामना लेकर आते हैं, वह जरुर पूरी होती है। मन्नत पूरी होने पर भक्त भगवान गणेश की प्रतिमा की पीठ पर उल्टा स्वस्तिक बनाते हैं। और भगवान गणेश को लड्डुओं का भोग लगाते हैं।

मंदिर के पास नाहर सैयद की दरगाह पर भी मुसलमान सहित अन्य धर्म के श्रद्धालु आते हैं। गणेश जी के मंदिर में विभिन्न संस्कृति तथा सभ्यता के लोग यहाँ पर आकर भगवान की आराधना करते हैं तथा मुराद पूरी हो जाने पर भगवान गणेश को लड्डूओं का भोग लगाते हैं।

खजराना मंदिर में हर दिन पूजा-आरती आदि होती है पर बुधवार के दिन विशेष पूजा-आरती होती हैं जिसमें सैकड़ों भक्त शामिल होकर गजानन का आशीर्वाद लेते हैं। मान्यताओं के अनुसार श्रद्धालु इस मंदिर की तीन परिक्रमा लगाते हैं और मंदिर की दीवाल में धागा बांधते हैं।

परंपरा के अनुसार, विवाह, जन्मदिन जैसा कोई भी शुभ कार्य हो तो भक्त सबसे पहले इस मंदिर में आकर सिंदूर का तिलक लगाते हैं। स्थानीय लोग ऐसा मानते हैं कि इंदौर शहर और आस-पड़ोस के क्षेत्रों में होने वाले सभी धार्मिक और सांस्कृतिक आयोजनों का पहला निमंत्रण खजराना गणेश को भेजा जाना चाहिए। अन्यथा कार्यक्रम को अधूरा माना जाता है। इससे इतर नई गाड़ी, मकान, दुकान, जमीन-जायदाद की खरीदी-बिक्री हने के बाद भी श्रद्धालु दूर-दूर से आते मत्था टेकने आते हैं।

खजराना मंदिर का इतिहास – Khajrana Ganesh Mandir History in Hindi

मंदिर का निर्माण 1735 में होल्कर वंश की महारानी अहिल्याबाई ने करवाया था। इस मंदिर में स्तिथ प्राचीन प्रतिमा के बारे में कहते हैं यह प्रतिमा एक स्थानीय पंडित मंगल भट्ट को सपने में दिखी थी। इसी सपने के बाद रानी अहिल्या बाई होल्कर ने खुदाई कर जमीन के नीचे से मूर्ति निकलवाई और स्थापित करवाया। जहां से प्रतिमा निकाली गई थी वहां एक जलकुंड है, जो मंदिर के ठीक सामने है।

यहां भगवान मां दुर्गा और शिव मंदिर सहित कुल 33 छोटे-बड़े मंदिर हैं, जो अनेक देवी-देवताओ को समर्पित है। मंदिर कैंपस में एक पीपल का पेड़ है । जिसके बारे में ये कहा जाता है कि यह भी मनोकामना पूर्ण करने वाला है।

इस मंदिर को देश के सबसे धनी मंदिरों में से एक माना जाता है। श्रद्धालुओं की ओर से चढ़ाए जाने वाले नकद-चढ़ावे को देखते हुए खजराना गणेश मंदिर मध्य प्रदेश ही नहीं देश के कई मंदिरों से काफी आगे है। जबसे यहां ऑनलाइन दान देने की व्यवस्था शुरू हुई है इसमें और भी इजाफा हुआ है। यहां शिर्डी स्थित साईं बाबा, तिरुपति स्थित भगवान वेंकटेश्वर मंदिर की तर्ज पर लोग ऑनलाइन चढ़ावा भेजते हैं। इस मंदिर की कुल चल और अचल संपत्ति बेहिसाब है।

खजराना मंदिर ट्रेन या हवाईजहाज़ द्वारा पहुँचा जा सकता हैं। सड़क मार्ग से भी यहां जाना आसान हैं।


और अधिक लेख –

Please Note :- I hope these “Khajrana Ganesh Mandir History in Hindi” will like you. If you like these “Khajrana Ganesh Temple Indore in Hindi” then please like our facebook page & share on whatsapp.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here