ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की जानकारी | Great Himalayan National Park

Great Himalayan National Park / ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू ज़िले में स्थित एक प्रसिद्ध पार्क है। इस पार्क को अभी हाल ही में विश्व धरोहरों की सूची यूनेस्को में शामिल किया है। इसे जवाहर लाल नेहरू ग्रेट हिमालयन पार्क के रूप में भी जाना जाता है। यह राष्ट्रीय पार्क 30 से अधिक स्तनधारियों और पक्षियों की 300 से अधिक प्रजातियों सहित वनस्पतियों और पशुवर्ग की प्रजातियों की एक विस्तृत विविधता का घर है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की जानकारी | Great Himalayan National Park

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की पूरी जानकारी – Great Himalayan National Park Information & History in Hindi

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में कई तरह के औषधीय पौधे, स्तनधारियों, पक्षिया, और पशुवर्ग की प्रजातियां पाए जाते हैं। पार्क 90,540 हेक्टेयर में फैला है। पार्क का 754.4 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र कोर जोन, 265.6 वर्ग किलोमीटर ईको जोन में व 61 वर्ग किलोमीटर तीर्थन वाइल्ड लाइफ सेंक्चुअरी व 90 किलोमीटर वर्ग का क्षेत्र सैंज सेंक्चुअरी में आता है। पार्क 1,171 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।

बर्फ से ढके पहाडो के बीच बसा यह खुबसुरत पार्क जैव विविधताओं से भरा है। इसमें 25 से अधिक प्रकार के वन, 800 प्रकार के पौधे औऱ 300 से अधिक पक्षी प्रजातियों का वास है। सैकड़ों दुर्लभ पशुओं का बसेरा। भूरे भालू, औबेक्स, काले भालू, कस्तूरी मृग, हिम तेंदुए व हिमालयन थार की दुर्लभ प्रजातियां। साथ ही 12 से अधिक प्रकार के सांप पाएं जाते हैं।

यह विशेष रूप से पश्चिमी ट्रैगोपैन, पक्षियों की अत्यधिक लुप्तप्राय प्रजाति, के पार्क के जंगलों में रहने के लिए जाना जाता है। इस पार्क की वनस्पति में चंदवा वन, ओक जंगल, अल्पाइन झाड़ियाँ, उप अल्पाइन समुदायों, और अल्पाइन घास शामिल हैं। बैरबैरिस, इंडिगोफेरा, सारकोकोआ और वाईबर्नम क्षेत्र में देखी जाने वाली वनस्पति की अन्य प्रजातियां हैं। पार्क कई फूलों की प्रजातियों के लिए भी घर है जिनका सुगंधित और औषधीय गुणों के लिए उपयोग किया जा सकता है।

अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ(IUCN) की रेड लिस्ट में शामिल लगभग 25 संकटापन्न पादपों की प्रजातियाँ इस पार्क में पायी जाती हैं। ग्रेट हिमालयन राष्ट्रीय पार्क संरक्षण क्षेत्र में जैवानल, सैंज तथा तीर्थन नदी तथा उत्तर-पश्चिम की ओर बहने वाली पार्वती नदी का जल उद्गम शामिल है।

यह पार्क सितम्बर से नवम्बर के बीच ज्यादा खूबसूरत होता हैं। इस समय क्षेत्र में पाए जाने वाले जानवर प्रवास करना शुरू करते है इस दौरान यहा नीली भेड़े, बर्फ में रहने वाली छिपकली, हिमालय क्षेत्र में पाया जाने वाला भूरा भालू और कस्तुरी मृग को आसानी से देखा जा सकता है।

1984 में बनाए गए इस पार्क को 1999 में राष्ट्रीय पार्क घोषित किया गया था। वर्ष 2010 में सैंज (Sainj) और तीर्थन (Tirthan) वन्यजीव अभयारण्य को भी ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में शामिल कर लिया गया। वर्ष 2012 के मार्च में यूनेस्को ने ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क को इसके लिए नामांकित किया था। 2014 में इस नेशनल पार्क पर यूनेस्को की विश्व धरोहर टीम ने मुहर लगाई है।


और अधिक लेख – 

Please Note :- I hope these “Great Himalayan National Park Information & History in Hindi” will like you. If you like these “Great Himalayan National Park Himachal Pradesh in Hindi” then please like our facebook page & share on whatsapp.

1 thought on “ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की जानकारी | Great Himalayan National Park”

  1. ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क भ्रमण करने के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा होगा?

Leave a Comment

Your email address will not be published.