बकरीद ‘ईद-उल-ज़ुहा’ पर निबंध | Essay on Bakrid ‘Id-ul-Zuha’ in Hindi

बकरीद (ईद-उल-ज़ुहा) पर निबंध | Essay on Bakrid (Id-ul-Zuha) in Hindiबकरीद (ईद-उल-ज़ुहा) पर निबंध – Essay on Bakrid (Id-ul-Zuha) in Hindi

‘बकरीद’ इस्लाम धर्म के लोगो का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। इसे ‘ईद-उल-ज़ुहा’ अथवा ‘ईद-उल-अज़हा’ के नाम से भी जानते हैं। रमजान के पवित्र महीने की समाप्ति के लगभग 70 दिनों बाद इसे मनाया जाता है। यह एक क़ुरबानी का त्यौहार है।

मान्यता है कि पैगंबर हज़रत इब्राहीम को ईश्वर की ओर सपने में हुक्म आया कि वह अपनी सबसे अधिक प्यारी वस्तु की कुर्बानी दे। हज़रत के लिए उनका बेटा सबसे अधिक प्यारा था। ईश्वर का हुक्म उनके लिए पत्थर की लकीर था। वह उसे मानने के लिए तैयार थे। इब्राहीम ने अपने बेटे इस्माईल को इस बारे में बताया तो उन्होंने भी ख़ुदा की बन्दग़ी के सामने सर झुकाते हुए पिता इब्राहीम को इस पर सहमति दे दी। इब्राहीम ने इस्माईल के होशियार होने के बाद उन्हें राहे ख़ुदा में क़ुर्बान करने के लिए उनके गले पर छुरी फेर दी। लेकिन अल्लाह को इब्राहीम के बन्दग़ी की यह अदा इतनी पंसद आई कि इस्माईल को उस जगह से हटाकर स्वर्ग से एक दुम्बा (भेड़) को उसके स्थान पर भेज दिया गया और इस्माईल को बचा लिया गया। पिता और बेटे की भक्ति देखकर ईश्वर प्रसन्न हुए और उन्होंने हज़रत के बेटे को जीवनदान दिया। तबसे लेकर आज तक इसे मनाया जाता है।

क़ुर्बानी का महत्त्व यह है कि इन्सान ईश्वर या अल्लाह से असीम लगाव व प्रेम का इज़हार करे और उसके प्रेम को दुनिया की वस्तु या इन्सान से ऊपर रखे।

बकरीद की तैयारी त्यौहार के कई दिनों पहले से आरम्भ हो जाती है। ईद-उल-फ़ितर की तरह ही इस दिन भी मुसलमान ईदग़ाह जाकर ईद की नमाज़ अदा करते हैं और सब लोगों से गले मिलते हैं। इस त्यौहार में बकरे की बलि देने का विधान है। अतः बकरे खरीदे जाते हैं। बकरे की कुर्बानी के बाद उसके गोश्त को तीन भागों में विभक्त किया जाता है। इसका एक भाग परिवार के लिए, दूसरा भाग संबंधियों के लिए तथा तीसरा भाग गरीबों में बाँटा जाता है। इससे समाज में एकता व भाईचारे का प्रचार-प्रसार होता है और वह समाज प्रगति करता है। यह त्यौहार दुनिया भर में मुसलमानों के बीच काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है।


और अधिक लेख –

1 thought on “बकरीद ‘ईद-उल-ज़ुहा’ पर निबंध | Essay on Bakrid ‘Id-ul-Zuha’ in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *