तमिलनाडु के पर्यटन व दर्शनीय स्थल | Tamilnadu Tourism in Hindi

Tamilnadu Tourism Place/ तमिलनाडु, बंगाल की खाड़ी के तट पर बसा खूबसूरत प्रदेश है। तमिलनाडु की सैर हर तरीके से अनोखी और खास है, यहां की संस्‍कृति, धर्म, सहजता और सुंदरता पर्यटकों का मन मोह लेती है। इसका इतिहास जहां समृद्धि से ओत-प्रोत है, वहीं वर्तमान में यह तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ता राज्य है।

तमिलनाडु के पर्यटन व दर्शनीय स्थल की जानकारी | Tamilnadu Tourism in Hindi

तमिलनाडु के पर्यटन व दर्शनीय – Tamil Nadu Information of Tourism in Hindi

तमिलनाडु प्रदेश का क्षेत्रफल 1,30,058 वर्ग किमी. है। यहां की राजधानी चेन्नई है, जिसे पहले मद्रास नाम से जाना जाता था। यहां की प्रमुख नदी है कावेरी। इसी राज्य में हिन्दुओं के प्रमुख चार मठों में से एक मठ है कांचीपुरम में कांची कामकोटि पीठ। यहां कुल 30 जिलो के बंटा हुआ है। तमिलनाडु का इतिहास 2000 साल से भी पुराना है। बहुत उतार-चढ़ाव से भरा हुआ इतिहास। इसने अपनी आंखों से अनेक राजवंशों को शिखर पर चढ़ते और नीचे आते देखा है, जैसेः चेर, चोल, पल्लव और पांड्या। हर शासकवंश के दौरान इस राज्य ने कुछ परंपराओं, रचनाओं को अपने में समेटा और समृद्ध होता रहा। राजवंश खत्म होते रहे और नए आते रहे। इस सब ने इस राज्य की सांस्कृतिक विरासत को और मजबूत ही किया।

यहां पर्यटकों के लिए काफी कुछ खास और बेहतरीन है, वह यहां आकर ऐसे दृश्‍यों को भी देख सकते है जिसकी मात्र वह कल्‍पना कर सकते है। आज भी तमिलनाडु की संस्‍कृति और सभ्‍यता लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है, इसलिए पर्यटक भारी संख्‍या में यहां आते है।

तमिलनाडु की एक लम्‍बी तटरेखा है जो लगभग 1000 किलोमीटर तक फैली है- जहां सैकड़ों तट है। इसके तट पर जहां एक ओर स्थित है भगवान राम द्वारा स्थापित रामेश्वरम, तो दूसरी ओर प्रमुख तीर्थ है कन्याकुमारी। पर्यटक, तमिलनाडु में स्थित हिल – स्‍टेशनों में आना बहुत पसंद करते है जैसे – ऊटी और कुडईकनाल, यहां के पसंदीदा हिल स्‍टेशनों में से एक है। यहां नीलगिरि में ऊटी, कुडईकनाल और कोटागिरि आदि हिल स्‍टेशन अपने प्राकृतिक सौंदर्य से पर्यटकों को लुभाते है। इसके अलावा, इन स्‍थानों की जलवायु भी स्‍वास्‍थ्‍यप्रद होती है।

कैसे पहुंचे –

तमिलनाडु में चेन्नई के पास अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा है। यह इस राज्य में आने के लिए सबसे सुविधाजनक माध्यम है। तमिलनाडु का मुख्य रेलवे स्टेशन चेन्नई है। देश के अन्य प्रमुख स्टेशनों से चेन्नई के लिए कई गाड़ियां चलती हैं। इसके अलावा तमिलनाडु में सड़कों का व्यापक जाल बिछा है। राज्य से अनेक नेशनल हाइवे गुजरते हैं। स्टेट हाइवे की सड़कें भी खूब हैं। दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और बेंगलुरू समेत देश के सभी प्रमुख शहर सड़क मार्ग के जरिये तमिलनाडु के चेन्नई और प्रमुख शहरों से जुड़े हुए हैं।

तमिलनाडु के पर्यटन व दर्शनीय स्थल की सूचि – Tamil Nadu Tourist Places List in Hindi

1). चेन्नई / मद्रास

तमिलनाडु का चेन्नई भारत का चैथा बड़ा शहर है। इस स्थान को मद्रास के नाम से भी जाना जाता हैं, जोकि एक पुर्तगाली व्यापारी दल के प्रमुख के नाम पर पड़ा था। यह भारत के दक्षिण पूर्वी तट पर स्थित है। चेन्नई को दक्षिण भारत का द्वार भी कहा जाता है। यहां के निवासी सीधे व सरल है और स्वाभाविक रूप में मेहमाननवाज भी है | दर्शनाथी अपनी खरीदारी का शौक पैरिस कोंर्नर, सुभाष रोड आदि स्थल पर पूरे कर सकते हैं। यहां के आभूषणों व वस्त्रों में यहां की संस्कृति की छाप स्पष्ट दिखाई पड़ती है।

चेन्नई के पर्यटक स्थल –

अन्नानगर टावर · अमीर महल · अरिनगर अन्ना चिड़ियाघर · कपालेश्वर मंदिर · गुइंडी राष्ट्रीय उद्यान · टोडायूर · चिंगलपट · एन्नोर बंदरगाह · पार्थसारथी मंदिर · तीर्थमलय · तिरुपरांकुर · तिरुपदी · मगरमच्छ बैंक · मरीना बीच · राष्ट्रीय कला दीर्घा · वल्लुवर कोट्टम · संथोम कैथोड्रल बेसीलिका · लक्ष्मणतीर्थ · सर्प बगीचा · सेन्ट जॉर्ज क़िला · इंदिरा गाँधी परमाणु अनुसंधान केंद्र · वेदगिरि · श्रीविल्लीपुत्तूर · अशोक स्तम्भ चेन्नई.

2). वेल्लोर

वेल्लोर यात्रियों के लिए परिवर्तन का केंद्र के रूप में जाना जाता है। तमिलनाडु के किले के शहर के रूप में लोकप्रिय तरह से जाना जाने वाला, वेल्लोर का समृद्ध संस्कृति और विरासत और शुरू की द्रविड़ सभ्यता की चिरस्थायी विरासत का एक सामंजस्यपूर्ण संलयन के साथ एक शानदार अतीत है।

वेल्लोर के पर्यटक स्थल –

मोरधन बाँध · वेल्लोर दुर्ग · स्वर्ण मंदिर, श्रीपुरम . नि:शब्द साक्षी महल

3). कांचीपुरम

चेन्नई से लगभग 70 किलोमीटर दूर भारत के पवित्र सात शहरों में एक है कांचीपुरम। यह उत्तरी तमिलनाडु में है। इसे हजारों मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। इस शहर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां भगवान शिव और भगवान विष्णु दोनों की पूजा होती है। यहां के लोग दोनों में समान श्रद्धा रखते हैं और उनकी पूजा करते हैं। वेगवती नदी के किनारे बसे इस शहर में एक-एक मंदिर की कारीगरी और नक्काशी देखने लायक है।

कांचीपुरम के पर्यटक स्थल –

एकम्बरनाथर मंदिर · कैलाशनाथार मंदिर · कामाक्षी अम्मान मंदिर · किरीकिरी पक्षी अभयारण्य · बेदानथंगल पक्षी अभयारण्य · बैकुंठ पेरुमल मंदिर · वरदराज पेरुमल मंदिर

तमिलनाडु के समुद्री तट  

⇒ मरिन : मरिन समुद्री तट (Marina Beach) चेन्नई के पूर्व में स्थित है जहां से सूर्यास्त का नजारा बहुत ही शानदार नजर आता हैं।

⇒ इल्लियोट : इल्लियोट समुद्री तट (Elliot Beach) बसंत नगर में स्थित है जहां पर नहाने का मजा ही कुछ और है इसीलिए इसे बा‍थिंग बीच भी कहा जाता है। यह युवाप्रेमियों का मिलन स्थल भी है।

⇒ कोवलम : कोवलम समुद्री तट (Kovalam Beach) चेन्नई से 40 किलोमिटर दूर महाबलीपुरम के रास्ते पर एक गाँव है जो कोवेलोंग नाम से जाना जाता है।

⇒ महाबलीपुरम : महाबलीपुरम (Mamallapuram) का समुद्री तट चेन्नई से 58 किलोमीटर दूर दक्षिण में स्थित है। यहां पर भव्य और सुंदर समुद्री तट के अलावा पल्लव राजवंशों के काल के स्मारक और प्राचीन गुफाएं पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है।

⇒ कन्याकुमारी : कन्याकुमारी (Kanyakumari Beach) समुद्र तट पर हिंद महागार, अरेबिन और बंगाल की खाड़ी का संगम होता है। यह हिंदुओं का प्राचीन तीर्थ स्थल केंद्र है। कन्याकुमारी अपने सूर्य उदय, सूर्यास्त और पूर्णिमा के चांद के दर्शन के लिए प्रसिद्ध है। बहुरंगी रेत के साथ यहां के समुद्री और आकाशीय नजारे देखते ही बनते हैं।

⇒ पूम्पुहर : पूम्पुहर समुद्री तट (Poompuhar Beach) तमिल महाकाव्य सिलापथिकरम (Silapathikaram) में उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर केवरिपूम्पात्तिनम की स्मृति में बनाया गया एक बंदरगाह है।

⇒ रामेश्‍वरम : रामेश्‍वरम का समुद्री तट चेन्नई से 572 किलोमीटर दूर है। यह हिंदुओं के लिए पवित्र तीर्थ स्थल है जहां पर भगवान शिव का भव्य एवं प्राचीन मंदिर है जो बारह ज्योतिर्लिंगों के अंतर्गत आता है। इस शिवलिंग की स्थापना भगवान राम ने की थी इसीलिए इस स्थान का नाम रामेश्वर है।

तमिलनाडु के प्रसिद्ध पर्यटक स्थल

1). वेलनकन्नी

वेलनकन्नी बंगाल की खाड़ी में छोटा-सा टापू है। यह तमिलनाडु में नागापट्टिनम से 14 किमी. की दूरी पर है। यहां स्वास्थ्य की देवी मरियम को समर्पित भव्य गिरजाघर है। यह ईसाईयों के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में से एक है। सिर्फ देश ही नहीं, दुनियाभर से और विभिन्न जाति-धर्म के लोग यहां आते हैं। इस अति सुंदर गिरजाघर का निर्माण पुर्तगाली और भारतीय स्थापत्य कला का नमूना है। इस गिरजाघर के चमत्कार और रहस्य से जुड़ी अनेक दंतकथाएं यहां प्रचलित हैं।

2). वेदरनयम

वेदरनयम को तिरुमरैक्काडु के नाम से भी जाना जाता है। वेदरनयम आजादी की लड़ाई के दौरान सी. राजगोपालाचारी की नमक यात्रा और गांधीजी की दांडी यात्रा का गवाह भी रहा है। यह नागापट्टिनम से 55 किमी. दूरी पर है और अपने वेदरनयमेश्वर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

3). रॉक फोर्ट

रॉक फोर्ट शहर के भीतर ही 83 मीटर ऊंचे चट्टान पर ऐतिहासिक निर्माण है। यह चट्टान लाखों साल पुरानी बताई जाती है। इससे इसकी प्राचीनता का अंदाजा लगाया जा सकता है। वैसे पर्यटकों का सबसे बड़़ा आकर्षण इस पर बना मंदिर है। भगवान गणेश का यह मंदिर उचि पिल्लयार मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां से शहर का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है। मंदिर तक जाने के लिए 344 सीढ़ियां चढ़नी होती हैं। इस मंदिर का निर्माण 300 ईसा पूर्व माना जाता है।

4). पुडुकोटई

पुडुकोटई तमिलनाडु के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में से एक है। इस शहर का इतिहास 17वीं शताब्दी के बाद का है। शहर में पुरातात्विक महत्व की अनेक स्मारक हैं, जो पुडुकोटई राज्य की याद दिलाते हैं। शहर में अनेक भव्य मंदिर, तालाब और नहरें हैं जो इस राज्य के वैभवशाली इतिहास की कहानी कहते हैं।

5). तंजावुर चर्च

शहर के पोकरा स्टीट पर सैकड़ों साल पुराना अवर लेड ऑफ सारो चर्च है। यहां हर साल सितंबर के तीसरे सप्ताह में बड़ी धूमधाम से उत्सव मनाया जाता है, जिसमें शामिल होने हजारों लोग दूर-दूर से आते हैं। पवित्र कैथेडल चर्च, सेंट पीटर्स चर्च, फोर्ट चर्च और लुथरन चर्च की धूमधाम यहां के धार्मिक सौहार्द की गवाही दते हैं।

6). श्रीरंगम

श्रीरंगम तिरुचिरापल्ली से सात किलोमीटर दूर 600 एकड़ में फैला सुंदर-सा द्वीप है। तिरुचिरापल्ली जिले के अंतर्गत आने वाला यह स्थान भारत के प्रमुख तीर्थस्थलों में गिना जाता है। यह एक तरफ से कावेरी और दूसरी तरफ से कोलिदम नदियों से घिरा है। श्रीरंगम का पूरा कस्बा श्रीरंगनाथमस्वामी मंदिर की सात विशालकाय दीवारों से घिरा है। यहां 21 गोपुरम (गुंबद) हैं। इनमें से राजागोपुरम सबसे बड़ा है। यहां से मीलों दूर का दृश्य देखा जा सकता है।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *