शिक्षक दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Teachers Day in Hindi

Teacher’s Day Essay – शिक्षक दिवस अलग-अलग देशों में अलग-अलग दिन मनाया जाता है। हमारे देश भारत में शिक्षक दिवस प्रतिवर्ष 5 सितम्बर को मनाया जाता है। जीवन में शिक्षक के महत्त्व को समझने के लिए विभिन्न शब्दों एवं आसान और सरल शब्दों में हम यहाँ शिक्षक दिवस पर निबंध – Teachers Day Essay उपलब्ध कराने जा रहे है, जो आपके बच्चो और विद्यार्थियों के लिए विविध प्रतियोगिताओ में उपयोगी साबित हो सकते है।

शिक्षक दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Teachers Day in Hindi

शिक्षक दिवस पर निबंध – 5 September Essay in Hindi

युगों से हमारे समाज में शिक्षक वर्ग का स्थान अति सम्मान पूर्ण रहा है। हमारी सफलता के पीछे हमारे शिक्षक का बहुत बड़ा हाथ होता है। हमारे माता-पिता की तरह ही हमारे शिक्षक के पास भी ढ़ेर सारी व्यक्तिगत समस्याएँ होती हैं लेकिन फिर भी वह इन सभी को भूलकर रोज स्कूल और कॉलेज आते हैं तथा अपनी जिम्मेदारी को अच्छी तरह से निभाते हैं। कोई भी उनके बेशकीमती कार्य के लिये उन्हें धन्यवाद नहीं देता इसलिये एक विद्यार्थी के रुप में शिक्षकों के प्रति हमारी भी जिम्मेदारी बनती है कि कम से कम साल में एक बार उन्हें जरुर धन्यवाद दें।

अपने शिक्षकों को सम्मान देने के लिये विद्यार्थियों द्वारा ये हर वर्ष 5 सितंबर को मनाया जाता है। डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक महान शिक्षक, दार्शनिक, महानवक्ता एवं पूर्व राष्ट्रपति थे। जिन्होंने अपने जीवन के 40 वर्ष अध्यापन पेशे को दिया है। उन्ही के जन्मदिन को हम शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं।

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन विद्यार्थियों के जीवन में शिक्षकों के योगदान और भूमिका के लिये प्रसिद्ध थे। इसलिये वो पहले व्यक्ति थे जिन्होंने शिक्षकों के बारे में सोचा और हर वर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रुप में मनाने का अनुरोध किया। 1962 से शिक्षक दिवस के रुप में 5 सितंबर को मनाने की शुरुआत हुई। अपने महान कार्यों से देश की लंबे समय तक सेवा करने के बाद 17 अप्रैल 1975 को इनका निधन हो गया। डॉ. राधाकृष्णन की मान्यता थी कि यदि सही तरीके से शिक्षा दी जाय़े तो समाज की अनेक बुराईयों को मिटाया जा सकता है।

शिक्षक और विद्यार्थी के बीच के रिश्तों की खुशी को मनाने के लिये शिक्षक दिवस एक बड़ा अवसर है। इस दिन स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और शैक्षणिक संस्थानों में शिक्षक और विद्यार्थियों के द्वारा बहुत ही खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। अपने विद्यार्थियों से शिक्षकों को ढ़ेर सारी बधाईयाँ मिलती है। आधुनिक समय में शिक्षक दिवस को अलग तरीके से मनाया जाता है। इस दिन विद्यार्थी बहुत खुश होते हैं और अपने तरीके से अपने पसंदीदा शिक्षक को बधाई देते है। कुछ विद्यार्थी पेन, डॉयरी, ग्रीटिंग कार्ड आदि देकर बधाई देते हैं।

10 Lines on teachers day in hindi

अपने शिक्षकों को सम्मान देने के लिये विद्यार्थियों द्वारा हर वर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इस दिन हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधकृष्णन का जन्मदिन है जिन्होंने पूरे भारत में शिक्षकों को सम्मान देने के लिये शिक्षक दिवस के रुप में उनके जन्मदिन को मनाने का आग्रह किया था। वे एक महान दार्शनिक थे। उन्हें अध्यापन से गहरा प्रेम था।

इसकी शुरुवात 1962 में हुई, जब डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन भारत के राष्ट्रपति बने तो कुछ विद्यार्थियों ने 5 सितंबर को उनका जन्मदिन मनाने का निवेदन किया। उन्होंने कहा कि 5 सितंबर को मेरा जन्म दिन मनाने के बजाय क्यों नहीं इस दिन को अध्यापन के प्रति मेरे समर्पण के लिये शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाये। उनके इस कथन के बाद पूरे भारत भर में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रुप में मनाया जाने लगा।

शिक्षक दिवस स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और शैक्षणिक संस्थानों में शिक्षक और विद्यार्थियों के द्वारा बहुत ही खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। छात्र विभिन्न तरह से अपने गुरुओं का सम्मान करते हैं, तो वहीं शिक्षक गुरु-शिष्य परंपरा को कायम रखने का संकल्प लेते हैं। इस दौरान कई कार्यक्रम भी होते हैं। कुछ विद्यार्थी पेन, डॉयरी, कार्ड आदि देकर अपने गुरुओ को बधाई देते हैं। लेकिन सबसे जरुरी हैं की हमें पूरे दिल से ये प्रतिज्ञा करनी चाहिये कि हम अपने शिक्षक का सम्मान करेंगे क्योंकि बिना शिक्षक के इस दुनिया में हम सभी अधूरे हैं।


और अधिक लेख –

1 thought on “शिक्षक दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Teachers Day in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.