चित्रदुर्ग क़िला, कर्नाटक का इतिहास, जानकारी | Chitradurga Fort History

Chitradurga Fort / चित्रदुर्ग क़िला, कर्नाटक के चित्रदुर्ग ज़िले में पहाड़ी की चोटी पर एक विशालकाय पत्थरों से बना किला है। इस किले को चित्त्तलदूर्ग भी कहा जाता हैं। चित्रदुर्ग क़िला की संरचना बचाव की मुद्रा में है। क़िले का निर्माण 10वीं से 18वीं शताब्दी के मध्य में हुआ था, इस क़िले में निर्माण में मुख्य योगदान चालुक्य, होयसला और विजयनगर साम्राज्य का था। क़िले में कुल 18 मंदिर है।

चित्रदुर्ग क़िला, कर्नाटक - Chitradurga Fort History & Information in Hindi

चित्रदुर्ग क़िला, कर्नाटक – Chitradurga Fort History & Information in Hindi

यह किला कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले में पहाड़ी और सपाट घाटी पर स्थित हैं। कन्नड़ भाषा में चित्रदुर्ग किले का अर्थ ‘चित्रकारी किला’ है, चित्रदुर्ग शहर उसके प्रशासनिक जिले के नाम से जाना जाता है। चित्रदुर्ग किला चित्रदुर्ग, होयसाल, चालुक्य, विजयनगर साम्राज्य के कुछ सामंती स्वामी और राष्ट्रकूट के नायकों जैसे राजवंश शासकों द्वारा बनाया गया था।

किले के ऊपरी हिस्से में 18 मंदिर हैं, और निचले किले मे एक विशाल मंदिर भी हैं जो देवी को समर्पित है। इनमें से, हिडिम्बेश्वरा मंदिर सबसे पुराना और सबसे दिलचस्प है चित्रदुर्ग किला महाभारत महाकाव्य के हिडिम्बा रक्षा की जगह भी माना जाता है। यहां के प्रमुख मंदिर हैं जिनमें से गोपाला कृष्णा, नंदी, सुबराया, एकाननाथम्मा, भगवान हनुमान, फल्नेश्वर, और सिद्देश्वर हैं।

किले में कई आक्रमण भी हुवे, मदकर नायक के समय, हैदर अली ने किले में अपनी सेना को घेर लिया और नायक कबीले के अंतिम प्रतिनिधि पर जीत हासिल करने के बाद विजय प्राप्त की। हैदर अली ने वास्तव में इस किले पर तीन बार हमला किया और तीसरी बार 1779 में उसने सफलतापूर्वक विजय प्राप्त की। ऐसा कहा जाता है कि नायक ने लगभग 200 वर्षों तक इस किले पर शासन किया था।

चित्रदुर्ग किला (Chitradurga Kila) जिसे ‘काल्लीना कोट’ (स्टोन किला) भी कहा जाता है, यह कर्नाटक के लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। इस किले की शानदार आर्किटेक्चर पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। किले का दौरा करने का सबसे अच्छा मौसम फरवरी, अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर के महीनों में है।

कैसे पहुंचे –

सड़क की यात्रा – चित्रदुर्ग किले पर विभिन्न वाहन के जरिए पहुंचा जा सकता है। चित्रदुर्ग शहर पुणे-बैंगलोर राजमार्ग 200 KM पर स्थित है। चित्रदुर्ग शहर तक पहुंचने के बाद किले के लिए टैक्सी या बस ले लो।

ट्रेन और हवाई जहाज की यात्रा – चित्रदुर्ग शहर में अपना छोटा रेलवे स्टेशन है जो की बेंगलुरु शहर से जुड़ा हुवा हैं। इसके आलावा देश के अन्य हिस्सों से बेंगलुरु के लिए हवाई जहा ले सकते हैं ।


और अधिक लेख –

Please Note : – Chitradurga Fort, Karnataka History & Story In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.