द्वितीय विश्वयुद्ध की पूरी जानकारी | About Second World War in Hindi

Second World War / द्वितीय विश्व युद्ध 1 सितंबर, 1939 से 2 सितंबर, 1945 तक चलने वाला एक विश्व-स्तरीय युद्ध था। इस युद्ध में लगभग 70 देशों की थल-जल-वायु सेनाएं सम्मलित थीं। इस युद्ध में विश्व दो भागों मे बँटा हुआ था – मित्र राष्ट्र और धुरी राष्ट्र। इस युद्ध में विभिन्न राष्ट्रों के लगभग 10 करोड़ सैनिकों ने हिस्सा लिया, तथा यह मानव इतिहास का सबसे ज़्यादा घातक युद्ध साबित हुआ। आइये जाने दूसरे विश्वयुद्ध से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारी ..

द्वितीय विश्वयुद्ध की पूरी जानकारी | About Second World War In Hindi

द्वितीय विश्वयुद्ध की जानकारी – Second World War in Hindi

दूसरा विश्व युद्ध कोई एक घटना का परिणाम नहीं थी, इसलिए इस विनाश के लिए किसी भी एक ऐतिहासिक घटना को जिम्मेदार नहीं माना जा सकता हैं। इसके पीछे कई कारण थे। इस महायुद्ध में 5 से 7 करोड़ व्यक्तियों की जानें गईं क्योंकि इसके महत्वपूर्ण घटनाक्रम में असैनिक नागरिकों का नरसंहार- जिसमें होलोकॉस्ट भी शामिल है- तथा परमाणु हथियारों का एकमात्र इस्तेमाल शामिल है (जिसकी वजह से युद्ध के अंत मे मित्र राष्ट्रों की जीत हुई)। इसी कारण यह मानव इतिहास का सबसे भयंकर युद्ध था।

द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत कैसे हुई – Second World War Reason in Hindi

पहले विश्वयुद्ध में हार के बाद जर्मनी को वर्साय की संधि पर जबरन हस्ताक्षर करना पड़ा। इस संधि के कारण उसे अपने कब्ज़े की बहुत सारी ज़मीन छोडनी पड़ी, किसी दूसरे देश पर आक्रमण नहीं करने की शर्त माननी पड़ी, अपनी सेना को सीमित करना पड़ा और उसको पहले विश्व युद्ध में हुए नुकसान की भरपाई के रूप में दूसरे देशों को भुगतान करना पड़ा।

1933 में जर्मनी का शासक एडोल्फ हिटलर बना और तुंरत ही उसने जर्मनी को वापस एक शक्तिशाली सैन्य ताकत के रूप में प्रर्दशित करना शुरू कर दिया। इस बात से फ्रांस और इंग्लैंड चिंतित हो गए जो की पिछली लड़ाई में काफ़ी नुक़सान उठा चुके थे। इन सब बातों को देखकर और अपने आप को बचाने के लिए फ्रांस ने इटली के साथ हाथ मिलाया और उसने अफ्रीका में इथियोपिया- जो उसके कब्ज़े में था- को इटली को देने का मन बना लिया। 1935 में बात और बिगड़ गई जब हिटलर ने वर्साय की संधि को तोड़ दिया और अपनी सेना को बड़ा करने का काम शुरू कर दिया।

जैसे जैसे समय बीतता गया तनाव बढता रहा। यूरोप में जर्मनी और इटली और ताकतवर होते जा रहे थे और 1938 में जर्मनी ने आस्ट्रिया पर हमला बोल दिया फिर भी दुसरे यूरोपीय देशों ने इसका ज़्यादा विरोध नही किया। इस बात से उत्साहित होकर हिटलर ने सदेतेनलैंड जो की चेकोस्लोवाकिया का पश्चिमी हिस्सा है और जहाँ जर्मन भाषा बोलने वालों की ज्यादा तादात थी वहां पर हमला बोल दिया। 1937 में चीन और जापान मार्को पोलों में आपस में लड़ रहे थे। जापान धुरी राष्ट्र के समर्थन मे था, क्यूंकी वो एशिया मे अपनी धाक जमाना चाहता था।

सितम्बर 1939 में सोविएत संघ ने जापान को अपनी सीमा से खदेड़ दिया और उसी समय जर्मनी ने पोलैंड पर हमला बोल दिया। फ्रांस, इंग्लैंड और राष्ट्रमण्डल देशों ने भी जर्मनी के खिलाफ हमला बोल दिया परन्तु यह हमला बहुत बड़े पैमाने पर नही था सिर्फ़ फ्रांस ने एक छोटा हमला सारलैण्ड पर किया जो की जर्मनी का एक राज्य था। धीरे-धीरे बात बढ़ती गयी और दूसरे विश्व युद्ध शुरू हो गया।

द्वितीय विश्व युद्ध का अंत कैसे हुआ – Second World War End Treaty 

सन् 1944 में जहाँ एक ओर पश्चिमी मित्र देशों ने जर्मनी द्वारा क़ब्ज़ा किए हुए फ़्रांस पर आक्रमण किया वहीं दूसरी ओर से सोवियत संघ ने अपनी खोई हुयी ज़मीन वापस छीनने के बाद जर्मनी तथा उसके सहयोगी राष्ट्रों पर हमला बोल दिया। जर्मन तानाशाह हिटलर के आत्महत्या करने के तकरीबन एक सप्ताह बाद वह आठ मई का ही दिन था जब जर्मनी के जनरल आल्फ्रेड योडल ने बिना शर्त आत्मसमर्पण के कागजों पर हस्ताक्षर कर दिये और इसके साथ ही यूरोप में द्वितीय विश्वयुद्ध समाप्‍त हो गया। विश्व युद्ध के समापन की औपचारिक घोषणा होने तक रुस में अगला दिन हो चुका था इसलिए वहां नौ मई को विश्व युद्ध के समापन का जश्न मनाया गया।

सन् 1944 और 1945 के दौरान अमेरिका ने कई जगहों पर जापानी नौसेना को शिकस्त दी और पश्चिमी प्रशान्त के कई द्वीपों में अपना क़ब्ज़ा बना लिया। जब जापानी द्वीपसमूह पर आक्रमण करने का समय क़रीब आया तो अमेरिका ने जापान में दो परमाणु बम गिरा दिये। इस तरह 1945 में एशिया में भी दूसरा विश्वयुद्ध समाप्त हो गया जब जापानी साम्राज्य ने आत्मसमर्पण करना स्वीकार कर लिया।

15 अगस्त 1945 को जापान ने मित्र राष्ट्रों के सामने आत्मसमर्पण किया था। इसी के साथ तब का एकजुट कोरियाई प्रायद्वीप जापानी साम्राज्य के 35 साल के क़ब्ज़े से आज़ाद हो गया था। कोरियाई लोग 15 अगस्त को लिब्रेशन डे (आज़ादी दिवस) के रूप में मनाते हैं।

द्वितीय विश्व युद्ध मे भारत की भूमिका – Second World War India in Hindi

दूसरे विश्वयुद्ध के समय भारत मे आज़ादी की लड़ाई चल रही थी लेकिन भारत पर अंग्रेज़ो का कब्जा था। इसलिए आधिकारिक रूप से भारत ने भी नाजी जर्मनी के विरुद्ध 1939 में युद्ध की घोषणा कर दी। ब्रिटिश राज (गुलाम भारत) ने 20 लाख से अधिक सैनिक युद्ध के लिए भेजा जिन्होने ब्रिटिश नियंत्रण के अधीन धुरी शक्तियों के विरुद्ध युद्ध लड़ा। इसके अलावा सभी देशी रियासतों ने युद्ध के लिए बड़ी मात्रा में अंग्रेजों को धनराशि प्रदान की।

भारतीय सेना ने इथियोपिया में इतालवी सेना के खिलाफ; मिस्र, लीबिया और ट्यूनीशिया में इतालवी और जर्मन सेना के खिलाफ; और इतालवी सेना के आत्मसमर्पण के बाद इटली में जर्मन सेना के खिलाफ युद्ध किया। हालांकि अधिकांश भारतीय सेना को जापानी सेना के खिलाफ लड़ाई में झोंक दिया गया था।

द्वितीय विश्वयुद्ध से जुड़े तथ्‍य और जानकारियां – Second World War Facts & Information In Hindi

  • इस युद्ध में 11 मिलियन लोग मारे गए थे तो वहीं कई देशों का वर्चस्‍व भी खत्‍म हो गया था।
  • रूस ने अपने सबसे ज्‍यादा नागरिकों को खोया। करीब 21 मिलियन रूसी नागरिक इस युद्ध में मारे गए थे।
  • इस युद्ध के दौरान करीब 1.5 मिलियन बच्‍चों की मौत हुई थी।
  • द्वितीय विश्व युद्ध 6 सालों तक लड़ा गया।
  • हिटलर को द्वितीय विश्वयुद्ध के लिये जिम्मेदार माना जाता है।
  • द्वितीय विश्वयुद्ध में 61 देशों ने हिस्सा लिया।
  • सोवियत संघ पर जर्मनी के आक्रमण करने की योजना को बारबोसा योजना कहा गया।
  • 1939 से 1945 के बीच करीब 3.4 मिलियन बम गिराए गए थे यानी प्रतिमाह औसतन 27,700 बम।
  • जर्मनी की ओर से द्वितीय विश्वयुद्ध में इटली ने 10 जून 1940 ई. को प्रवेश किया।
  • अमेरिका द्वितीय विश्वयुद्ध में 8 सितंबर 1941 ई. में शामिल हुआ।
  • द्वितीय विश्वयुद्ध के समय अमेरिका का राष्ट्रपति फैंकलिन डी रुजवेल्टई था।
  • करीब छह मिलियन ज्‍यूइस नागरिकों की हत्‍या होलोकॉस्‍ट के दौरान हुई।
  • इस युद्ध के दौरान ही भारतीय धार्मिक प्रतीक चिन्‍ह स्‍वास्तिक का प्रयोग नाजी सेना ने किया।
  • युद्ध के समय इंगलैंड का प्रधानमंत्री विंस्टरन चर्चिल थे।
  • अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों पर एटम बम का इस्तेेमाल 6 अगस्तर 1945 ई. में किया।
  • द्वितीय विश्वयुद्ध में जर्मनी की पराजय का श्रेय रूस को जाता है।
  • द्वितीय विश्व युद्ध में मित्रराष्ट्रों के द्वारा पराजित होने वाला अंतिम देश जापान था।
  • 1942 से 1943 के बीच स्‍टालिनग्रैड के युद्ध में 800,000 से 1,600,000 से ज्‍यादा लोगों की मौत।

और अधिक लेख –

Please Note : Second World War History, Essay, Story, Reason & Facts In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे Comments Box मे करे।

14 thoughts on “द्वितीय विश्वयुद्ध की पूरी जानकारी | About Second World War in Hindi”

  1. Dimaag gaas chrne gya h kiya be gdhe!!

    Phle toh khta h 11m people died and then 21million Russian soliders / natives died..
    Dimaag me jng lgi h kiya? Kyo logo ko fail krva rha h, gelchpe..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *