कैसे परखे सोना असली है या नकली? How To Identify Gold Purity In Hindi

Gold Purity Tips In Hindi / महंगाई के इस दौर में अगर दुकानदार आपके साथ छल करें तो क्‍या आप बर्दाश्‍त कर पाएंगे। शायद नहीं! त्योहारी सीजन में महिलाएं केवल डिजाइन और कम कीमत देखकर कहीं से भी खरीद लेती हैं। और जिसका खामियाजा उन्हें आभूषण बेचते या बदलते समय उठाना पड़ता है। असली सोने की पहचान करना आसान नही होता, खासतौर से आम आदमी के लिए। सोने की पहचान में पूरी तरह पारंगत होना तो आसान नहीं है, लेकिन कुछ सावधानियां बरत कर आप गलत चीज खरीदने से बच सकते।

कैसे परखे सोना असली है या नकली? How To Identify Gold Purity In Hindi

चलिए आज हम आपको बताएंगे कि सोना (Gold) खरीदते समय किन बातों का ध्‍यान रखें। हम आपको बताएंगे कि आपका सोना कितना शुद्ध है। सोना खरीदते वक्त उसकी क्वॉलिटी पर जरूर गौर करें। सबसे अच्छा है कि हॉलमार्क देखकर सोना खरीदें। हॉलमार्क (Hallmark) सरकारी गारंटी है। हॉलमार्क का निर्धारण भारत की एकमात्र एजेंसी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (BIS) करती है। कई लोगों ने अपने अलग ब्रांड के तहत मानक तय कर रखे हैं जो जेवर पर अंकित कर देते हैं, लेकिन वह बीआईएस से स्वीकृत नहीं होती। ऐसे लोगो से सचेत रहे।

24 कैरेटगोल्ड की नहीं बनती ज्वैलरी :-

हॉलमार्किंग योजना भारतीय मानक ब्यूरो अधिनियम के तहत संचालन, नियम और विनियम का काम करती है। सबसे पहली बात यह कि असली सोना 24 कैरेट (24 Carat Gold) का ही होता है, लेकिन इसके अभूषण नहीं बनते, क्‍योंकि वो बेहद मुलायम होता है। आम तौर पर आभूषणों के लिए 22 कैरेट सोने का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें 91.66 फीसदी सोना होता है। हॉलमार्क पर पांच अंक होते हैं। सभी कैरेट का हॉलमार्क अलग होता। मसलन 22 कैरेट पर 916, 21 कैरेट पर 875 और 18 पर 750 लिखा होता है। इससे शुद्धता में शक नहीं रहता।

ऐसे समझिए कैसे तय कर सकते हैं अपने गोल्ड की कीमत :-

  1. कैरेट गोल्ड का मतलब होता हे 1/24 पर्सेंट गोल्ड, यदि आपके आभूषण 22 कैरेट के हैं तो 22 को 24 से भाग देकर उसे 100 से गुणा करें।
(22/24) * 100= 91.66 यानी आपके आभूषण में इस्‍तेमाल सोने की शुद्धता 91.66 फीसदी।

मसलन 24 कैरेट सोने का रेट टीवी पर 27000 है और बाजार में इसे खरीदने जाते हैं तो 22 कैरेट सोने का दाम (27000/24) * 22=24750 रुपए होगा। जबकि ज्वैलर (Jeweller) आपको 22 कैरेट सोना 27000 में ही देगा। यानी आप 22 कैरेट सोना 24 कैरेट सोने के दाम पर खरीद रहे हैं।

  1. ऐसे ही 18 कैरेट गोल्ड की कीमत (Price) भी तय होगी। (27000/24) * 18=20250 जबकि ये ही सोना ऑफर के साथ देकर ज्वैलर आपको छलते हैं।
नोटः यदि आप इस कैल्कुलेशन के हिसाब से सोना खरीदेंगे तो बाजार में कभी धोखा नहीं खाएंगे।

शुद्धता के हिसाब से दिए जाने वाले अंक : –

24 कैरेट- 99.9,  23 कैरेट–95.8,  22 कैरेट- 91.6,  21 कैरेट – 87.5, 18 कैरेट -75.0,  17 कैरेट – 70.8,  14 कैरेट – 58.5,  9 कैरेट–37.5.

ऐसे पहचानें असली हॉलमार्क :-

हॉलमार्किंग में किसी उत्पाद को तय मापदंडों पर प्रमाणित किया जाता है। भारत में BIS वह संस्था है, जो उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराए जा रहे गुणवत्ता स्तर की जांच करती हैं. यदि सोना-चांदी हॉलमार्क है तो इसका मतलब है कि उसकी शुद्धता प्रमाणित है। लेकिन कई ज्वैलर्स बिना जांच प्रकिया पूरी किए ही हॉलमार्क लगा रहे हैं। ऐसे में यह देखना जरूरी है कि हॉलमार्क ओरिजनल है या नहीं? असली हॉलमार्क पर भारतीय मानक ब्यूरो का तिकोना निशान होता है। उस पर हॉलमार्किंग सेंटर के लोगो के साथ सोने की शुद्धता भी लिखी होती है। उसी में ज्वैलरी निर्माण का वर्ष और उत्पादक का लोगो भी होता है।

असली सोने की पहचान कैसे करें – How to identify the original gold ? In Hindi : 

  1. दांतों से दबा कर देंखे:-

हम सब ने कई फिल्मों में देखा है कि पूर्वेक्षक सोने के टुकड़े को मुँह से काटकर परीक्षण करते हैं कि असली है या नकली। जब ओलंपिक खिलाडियों को सोने का मेडल मिलता है, तो वे भी उसे मुँह से काटते हैं। सोना बहुत ही सॉफ्ट होता है अगर उसे दांतों से दबाया जाए तो यह आसानी से दब जायेगा और उस पर दांतों के निशान भी पड़ जायेंगे लेकिन अगर सोने में मिलावट हुई तो ये हार्ड लगेगा। हालाँकि लेड धातु, सोने से भी ज्यादा नरम होता है और अगर लेड धातु पर सोने की परत लगी हुई है, तो आपके दांतों के निशान उस पर भी दिखाई देंगे।

2. पानी मे दल कर देखे :-

एक कप में पानी भरकर उसमे गोल्ड डाल दें। नकली गोल्ड पानी में हल्का सा तैरने लगेगा जबकि असली सोना पानी में बैठ जाता है।

3. सोने को चुम्बक पर लगाएं : –

सोना एक चुंबकीय धातु नहीं है, इसलिए अगर कोई सोने की चीज़ चुम्बक पर चिपकती है, तो वह असली सोना नहीं है। लेकिन अगर वह सोने पर नहीं चिपकती है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि सोना असली है, क्यूंकि ऐसे कई धातु है जो चुंबकीय नहीं होते है। हो सकता है उन धातुओं पर सोने की परत लगा रखी हो।

4. घनत्व परीक्षण :-

बहुत कम धातु सोने से सघन होते हैं। शुद्ध सोने 24क का घनत्व 19.3 g/ml होता है, जो बाकि धातुओं के मुकाबले बहुत ज्यादा होता है। जितना ज्यादा घनत्व होगा उतना खरा आपका सोना होगा। इसलिए, सोने की परख करने के लिए घनत्व को मापें। ध्यान दें कि घनत्व परीक्षण उस सोने पर करें जिसमें कोई पत्थर या रत्न ना लगा हो। घनत्व परीक्षण के जाँच के लिए नीचे देखें –

  • अपने सोने को तोलें : अगर आपके पास भार मापक नहीं है तो कोई भी जौहरी आपके सोने को मुफ्त में तोल कर दे देगा। आपका भार मापक ग्राम में होना चाहिए।
  • एक शीशी में पानी भरें : (1) शीशी पर मिलीमीटर चिन्ह होना चाहिए ताकि आप आसानी से माप को जान सकें।(2) शीशी को पूरा ना भरें क्यूंकि जब आप सोने के टुकड़े को पानी में डालेंगे, तो पानी ऊपर आएगा। (3) सोने के टुकड़े को डालने से पहले और बाद में, पानी के माप को ध्यान से देखकर नोट कर लें।
  • सोने के टुकड़े को शीशी में डालें : पानी के सही राशि को नोट कर लें। अब दोनों राशिओं के फरक को मिलीमीटर के हिसाब से लगाएं।
  • घनत्व का हिसाब ऐसे लगाएं : घनत्व = अधिकांशअ/आयतन (Density = mass/volume) विस्थापन | अगर उत्तर 19 g/ml है या इसके आस-पास है, तो सोना असली है। नीचे उदाहरण दिए गए है –

आपके सोने का वजन 38 g है और पानी की राशि 2 मिलीमीटर है। फॉर्मूला के हिसाब से [अधिकांशअ (38 g)]/[ आयतन विस्थापन (2 ml)], उत्तर 19 g/ml जो सोने का घनत्व है।

ध्यान दें कि अलग सोने के शुद्धता के अलग g/ml अनुपात होते हैं।

14K – 12.9 से 14.6 g/ml

18K Yellow – 15.2 to 15.9 g/ml

18K white – 14.7 to 16.9 g/ml

22K – 17.7 to 17.8 g/ml

5.  नाइट्रिक एसिड परीक्षण :-

सोना असली है या नकली “एसिड परीक्षण” से पता लगाया जा सकता है। लेकिन, एसिड का मिलना और घर पर इस परीक्षण को करना, खतरे से खाली नहीं है। इसलिए, इस परीक्षण को जोहरी से करवाना चाहिए।

  • एक छोटे से स्टेनलेस स्टील के कटोरे में सोने को रखें।
  • एक बूँद नाइट्रिक एसिड की डालें और देखें क्या होता है।

⇒ अगर कोई हरा रंग दिखाई दे, तो आपकी वस्तु किसी ओर धातु की है या फिर आपका सोना पाट्र चढा हुआ है। अगर सुनहरा रंग दिखे तो आपकी वस्तु पर सोना चढ़ाया हुआ पीतल है।

⇒ दूध सा रंग दिखे तो आपकी वस्तु पर सोना चढ़ाया हुआ खरी चांदी है।

⇒ अगर कोई भी रंग ना दिखे तो आपका सोना असली है।

निकेल और प्लैटिनम भी समझें :- 

वाइट गोल्ड ज्वैलरी अगर आप ले रहे हैं तो निकेल या प्लैटिनम मिक्स के बजाए पैलेडियम मिक्स ज्वैलरी लेना बेहतर होगा। निकेल या प्लैटिनम मिक्स वाइट गोल्ड से स्किन एलर्जी होने का खतरा रहता है।

केडीएम और तांबे की होती है मिलावट :-

कई सुनार केडीएम को भी शुद्ध बताकर बेचते हैं, लेकिन इसमें कैडमियम नामक तत्व होता है, जोकि फेफड़ों के लिए हानिकारक होता है। साथ ही, इसमें तांबे की मिलावट भी होती है। इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए आभूषण या सोने की किसी भी वस्‍तु पर अंक जरूर देखें। यहां पर सबसे अहम बात यह है कि अखबारों में प्रतिदिन छपने वाले या टीवी पर दिखाए जाने वाले सोने के दाम 24 कैरेट गोल्‍ड के होते हैं। इसलिए यदि आप 23, 22 या कम कैरेट का सोना खरीद रहे हैं, तो दाम कम होंगे।


ये महत्वपूर्ण लेख भी पढ़े :-

  1. दिल्ली लाल किले का इतिहास
  2. पृथ्वी का इतिहास, उत्पत्ति
  3. ये पाँच टिप्स आपको बनाएँगे लीडर
  4. श्री गुरु नानक देव अनमोल वचन
  5. लोकमान्य तिलक जीवनी, निबंध
  6. बुखार ठीक करने के घरेलू उपचार
loading...

LEAVE A REPLY