12वीं के बाद करियर ऑप्शन | 12th Ke Baad Career Kaise Kare

12वीं के बाद करियर ऑप्शन | 12th Ke Baad Career Kaise Kare12वी कंप्लीट करने के बाद आगे की पढ़ाई स्टूडेंट के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता हैं, क्यूंकी यही एक ऐसा जगह होता हैं जहाँ से स्टूडेंट किस क्षेत्र मे अपना करियर बनाना चाहता हैं उसका चुनाव करता हैं। यही स्टूडेंट का लगभग तय हो जाता हैं की आगे उसे क्या करना हैं। इसलिए 12वी के बाद आगे की पढ़ाई का विषय बहुत सोच समझकर चुनाव करना चाहिए।

कई स्टूडेंट्स के साथ ऐसा होता हैं की, 12वी कंप्लीट होने के बाद उसके दिमाग़ बस एक ही सवाल रहता हैं, की अब आगे कौन सी पढ़ाई की जाए? किस क्षेत्र का चुनाव करू? मेरे लिए क्या पर्फेक्ट हो सकता हैं? अंत: कुछ समझ मे नही आने पर जो सब्जेक्ट मिला उसी को करने लगते हैं, या उस सब्जेक्ट मे मन ना हो फिर भी पेरेंट्स के खुशी की खातिर कर लेते हैं। ऐसे इस जगह पर एक और बात आती हैं की कई स्टूडेंट को इस बारे मे अधिक जानकारी नही होती हैं, की आगे क्या करना चाहिए। तो चलिए मैं आपको कुछ ऐसे जानकारी दे रहा हूँ जिससे आपको 12वी के बाद अपना करियर बनाने के लिए, सब्जेक्ट चुनने मे प्राब्लम नही होगी..

12 के बाद अपना करियर संबंधित डिसीजन लेने से पहले इन बातो का ख्याल रखे –

अपना Hobby को पहचाने : अगर आप चाहते हैं की आपकी जिंदगी खुशी-खुशी और अच्छी तरीका से गुज़रे तो आपके लिए यह बहुत ज़रूरी हैं की आप उससी काम को करे जिसमे आपको रूचि हो। आप जिस काम को अच्छी तरीका से कर लेते हैं, आपको जिस क्षेत्र मे मन लगता हो। क्यूकी अगर आपने कोई ऐसा काम चूज़ कर लिए जिस काम को करने मे आपको इंटेरेस्ट ही नही हैं तो आप उस काम को कभी भी सही ढंग से नही कर पाएँगे और कभी उस काम के ज़रिए अपनी लाइफ और अपने करियर को डेवेलप नही कर पाएँगे। सिर्फ़ इतना ही नही, साथ-साथ उस काम को करके आप कभी भी अपनी लाइफ मे खुश नही रह पाएँगे। इसलिए अपना हॉबी(शौक) को पहचाने और उसी अनुसार करियर का चुनाव करे।

कोई डिसीजन लेने से पहले थोड़ा सोच ले : अगर आप अपनी लाइफ मे सचमुच कुछ बनना चाहते हैं, कुछ हासिल करना चाहते हैं तो आप कभी भी जल्दबाज़ी मे फ़ैसला ना ले। अपने आप मे धीरज रखे, हमारे कहने का मतलब यह हैं की आप अपने करियर को लेकर ज़रूर एक्शिटेड रहिए मगर इतना ज़्यादा भी नही की इसके चक्कर मे कोई ग़लत डिसीजन ले ले। आप अगर धीरज नही रखेंगे तो आप किसी भी काम को गंभीरता के साथ नही कर पाएँगे और आप किसी काम को गंभीरता के साथ नही करेंगे तो उस मे सफल होने के चान्सस भी कम ही रहेंगे। इसीलिए कोई भी फ़ैसला समझदारी और आराम से लीजिए, कोई जल्दबाज़ी नही।

लाइफ को सीरियस ले : हर स्टूडेंट की यह फ़ितरत होती हैं की जब वह 10वी या 12वी क्लास मे हो तो लाइफ का लेकर ज़्यादा सीरियस नही होते हैं, बस दोस्तो के साथ मौज-मस्ती, गर्लफ्रेंड, बाय्फ्रेंड के चक्कर सब कुछ भूले रहते हैं। पर जब 12वी कंप्लीट हो जाता हैं, तब लाइफ का लेकर सोचने लगते हैं तब जाकर थोड़ा सीरियस होने लगते हैं। खैर मौज-मस्ती अलग चीज़ हैं ये सब भी लाइफ के लिए ज़रूरी हैं, पर ऐसा नही की सबकुछ भूल जाए। आपको अपना लाइफ को लेकर अभी से सीरियस होना पड़ेगा। क्यूंकी समय किसी के लिए नही रुकता हैं. बस एक बार समय बीत गया, तो बीत गया, फिर वो वापिस नही आएगा।

लोगो से राय ले : अगर आपको खुद फ़ैसला लेने मे थोड़ी परेशानी हो रही हैं, तो अपने परिवार वालो से, दोस्तो, शिक्षको से राय ले, उसके बाद कोई डिसीजन ले।

जानकारी हासिल करे : आप जिस क्षेत्र मे अपना करियर बनाना चाहते हैं, उस क्षेत्र की पूरी जानकारी हासिल करे। आप न्यूसपेपर, इंटरनेट. आदि से जानकारी हासिल कर सकते हैं।

12वी के बाद के कोर्स –

(1) Science : साइंस स्‍ट्रीम से 12वीं करने के बाद अकसर स्‍टूडेंट्स डॉक्‍टर या इंजीनियर बनना चाहते हैं। वहीं, कुछ ऐसे भी स्‍टूडेंट्स हैं जो डॉक्‍टर, इंजीनियर तो बनना नहीं चाहते लेकिन उन्‍हें इसके अलावा दूसरा कोई अॉप्‍शन भी समझ में नहीं अाता है और करियर को लेकर कंफ्यूज रहते हैं। असल में साइंस एक बहुत बड़ी स्‍ट्रीम हैं जिसमें एक या दो नहीं बल्कि ढेरों विकल्‍प मौजूद हैं. हम यहां पर अापको कुछ ऐसे ही अॉप्‍शंस के बारे में बता रहे हैं जो आपको अपने करियर में एक अलग मुकाम हासिल करने में मदद करेंगे:

  • B.E./B.tech : यह ऐसा कोर्स हैं जिसे अधिकांश Maths के स्टूडेंट्स करना चाहते हैं क्योंकि इसे करने के बाद आप इंजिनियर बन जाते हैं। इस कोर्स की अवधि 4 साल की होती है और इसकी प्रमुख ब्रॅंचस मेकॅनिकल, एलेक्ट्रिकल, सिविल, कंप्यूटर, पेट्रोलिूं, केमिकल, टेक्सटाइल, इन्फर्मेशन टेक्नालजी, एरोनाटैकल, डेरी टेक्नालजी, आर्किटेक्चर हैं
  • MBBS : यह कोर्स डॉक्टर बनने के लिए किया जाता है। यह कोर्स 5 साल का होता है। इसे करना सभी Biology लेने वाले स्टूडेंट्स की Choice होती है, पर डॉक्टर बनना इतना आसान भी नही है। कम सीट्स होने के कारण केवल वही स्टूडेंट्स सेलेक्ट हो पाते है जो मेडिकल की प्रवेश परीक्षा में टॉप मेरिट में आते हैं।

(2) Commerce : अगर आप 12वी मे कॉमर्स लेके पढ़ाई किए हैं तो चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) बनकर अपना भविष्या उज्ज्वल कर सकते है, पर इसके प्रश्न पत्र थोड़े कठिन होते हैं। इसलिए इसे पास करने के लिए ज़्यादा मेहनत और अभ्यास की ज़रूरत पढ़ेगी। इसके अलावा आप B.Com भी कर सकते हैं।

(3) Arts : अगर आप 12वी मे arts की पढ़ाई किए हैं और आपकी Maths अच्छी हैं तो आप BBA कर सकते हैं। BBA करने के बाद आप MBA कीजिए और अगर आपकी इंग्लीश अच्छी है तो आप अच्छी मल्टिनॅशनल कंपनी में नौकरी पा जाएँगे।

और अधिक जानकारी –

Pilot : अगर आप पायलट बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको किसी फ्लाइंग क्लब में एडमिशन लेना होता है, जो DGCA (Directorate General of Civil Aviation), गवर्नमेंट ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त होना चाहिये। इसमें रजिस्‍ट्रेशन के लिये मेडिकल सर्टिफिकेट, सिक्योरिटी क्लीयरेंस और बैंक गारंटी होनी चाहिए। इसके बाद आपको कई विषयों जैसे एयर रेग्यूलेशंस, एविएशन मेट्रोलॉजी, एयर नेविगेशन और इंजन के बारे में एक एग्‍जाम देना होता है।

Dairy Science : डेयरी प्रोडक्शन के क्षेत्र में भारत अहम देश है। भारत डेयरी प्रोडक्शन में अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है। डेयरी टेक्नोलॉजी या डेयरी साइंस के तहत मिल्क प्रोडक्शन, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, स्टोरेज और डिस्ट्रिब्यूशन की जानकारी दी जाती है। भारत में दूध की खपत को देखते हुए इस क्षेत्र में ट्रेंड प्रोफेशनल्स की डिमांड बढऩे लगी है। साइंस सब्जेक्ट से 12वीं करने के बाद स्टूडेंट ऑल इंडिया बेसिस पर एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद चार वर्षीय स्नातक डेयरी टेक्नोलॉजी के कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। कुछ इंस्टीट्यूट डेयरी टेक्नोलॉजी में दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स भी ऑफर करते हैं।

Pharmacy : अगर आप दवाइयों की कंपनी मे काम करना चाहते हैं या अपनी खुद की दवाई की दुकान खोलना चाहते हैं तो आप ये कोर्स चूज कर सकते हैं।

Space Science : यह बहुत ब्रॉड फील्ड है। इसके तहत कॉस्मोलॉजी, स्टेलर साइंस, प्लैनेटरी साइंस, एस्ट्रोनॉमी जैसे कई फील्ड्स आते हैं। इसमें तीन साल की बीएससी और चार साल के बीटेक से लेकर पीएचडी तक के कोर्सेज खास तौर पर इसरो और बेंगलुरु स्थित IISC में कराए जाते हैं।

Astro Physics : अगर आप सितारों और गैलेक्‍सी में दिलचस्पी रखते हैं तो 12वीं के बाद एस्ट्रो-फिजिक्स में रोमांचक करियर बना सकते हैं. इसके लिए आप चाहें तो पांच साल के रिसर्च ओरिएंटेड प्रोग्राम (एमएस इन फिजिकल साइंस) और चार या तीन साल के बैचलर्स प्रोग्राम (बीएससी इन फिजिक्स) में एडमिशन ले सकते हैं। एस्ट्रोफिजिक्स में डॉक्टरेट करने के बाद स्टूडेंट्स इसरो जैसे रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट बन सकते हैं।


You May Also Like This Article :-

Please Note : – Career Guidance & Career Options after 12th Tips In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे Comments Box मे करे।




loading…


LEAVE A REPLY