उम्मैद भवन पैलेस की जानकारी, इतिहास | Umaid Bhawan Palace Information in Hindi

Umaid Bhawan Palace in Hindi/ उम्मैद भवन पैलेस राजस्थान (भारत) के जोधपुर ज़िले में स्थित एक महल है। यह दुनिया के सबसे बड़े निजी महलों में से एक है। यह ताज होटल का ही एक अंग है। एक सर्वेक्षण में उम्मेद भवन पैलेस को दुनिया का सबसे अच्छा होटल आंका गया है। उम्मेद भवन पैलेस का नाम इसके संस्थापक महाराजा उम्मेद सिंह के नाम पर रखा गया है।

उम्मैद भवन पैलेस के बारे में जानकारी | Umaid Bhawan Palace Information In Hindiउम्मैद भवन पैलेस – Umaid Bhawan Palace Information in Hindi

ट्रिपएडवाइजर के ‘ट्रेवलर्स च्वाइस अवॉर्ड फॉर होटल्स’ में दुनिया के शीर्ष होटल श्रेणी में इसे पहले स्थान पर रखा गया है। चित्तर पहाड़ी पर होने के कारण यह सुंदर महल ‘चित्तर पैलेस’ के रूप में भी जाना जाता है। यह भारत – औपनिवेशिक स्थापत्य शैली और डेको-कला का एक आदर्श उदाहरण है।

यह महल सोलह वर्ष में बनकर तैयार हुआ था। संगमरमर और बालू पत्‍थर से बने इस महल का दृश्‍य पर्यटकों को ख़ासतौर पर लुभाता है। इस महल के संग्रहालय में पुरातन युग की घड़ियाँ और चित्रकारी आज भी संरक्षित हैं। इस स्मारक में 347 कमरे हैं और तत्कालीन जोधपुर शाही परिवार के लिए उपयोग किये जाते हैं। यही एक ऐसा बीसवीं सदी का महल है, जो बाढ़ राहत परियोजना के अंतर्गत निर्मित हुआ। जिसके कारण बाढ़ से पीड़ित जनता को रोजगार प्राप्त हुआ। बलुआ पत्थर से बना यह अतिसमृद्ध भवन अभी पूर्व शासकों का निवास स्थान है, जिसके एक हिस्से में होटल चलता है और बाकी के हिस्से में संग्रहालय।

महल को तराशे गये बलुआ पत्थरों को जोड़ कर बनाया गया था। महल के निर्माण के दौरान पत्थरों को बाँधने के लिये मसाले का उपयोग नहीं किया गया था। यह विशिष्टता बड़ी संख्या में पर्यटकों को इस महल की ओर आकर्षित करती है। इस सुंदर महल के वास्तुकार हेनरी वॉन, एक अंग्रेज थे।

महल की सुंदरता में इजाफा करने के लिए, हरे भरे हरियाली और फूलों की विभिन्न किस्मों के साथ बाहर एक सुंदर बगीचा है। इस महल में 300 लोगों की क्षमता वाला एक बैंक्वेट हॉल था। महल में एक सिंहासन कक्ष, एक विशेष निजी बैठक हॉल, जनता से मिलने के लिए एक दरबार हॉल, एक मेहराबदार बैंक्वेट हॉल, स्विमिंग पूल और स्पा, निजी भोजन कक्ष, दो अद्वितीय संगमरमर स्क्वैश कोर्ट, एक बॉल रूम, एक पुस्तकालय है इनडोर, एक बिलियर्ड रूम, चार टेनिस कोर्ट और लंबे मार्ग शामिल है।

वर्तमान में उम्मैद भवन पैलेस का मालिक गज सिंह है। इस पैलेस के तीन भाग है, एक लग्ज़री ताज होटल जो (1972) से है ,एक शाही परिवार के लिए तथा एक संग्रहालय है। संग्रहालय के खुलने का समय सुबह 9 बजे से शाम 5 तक। यहाँ एक दीर्घा भी है जहाँ पर कई चीजें देखने को मिलती है।

उम्मैद भवन पैलेस का इतिहास – Umaid Bhawan Palace History In Hindi

उमैद भवन पैलेस के निर्माण का इतिहास एक संत के अभिशाप से जुड़ा है,जिन्होंने कहा था कि अच्छे शासन का पालन करनेवाले राठौड़ वंश को अकाल के एक दौर से गुजरना पड़ेंगा। इस प्रकार, 1920 के दशक में जोधपुर को लगातार तीन वर्षों तक सूखे और अकाल की स्थिति का सामना करना पड़ा।

अकाल की स्थिति का सामना करने वाले क्षेत्र के किसानों ने कुछ रोजगार प्रदान करने के लिए तत्कालीन राजा उम्मेद सिंह की सहायता मांगी, जो झारपुर में मारवाड़ के 37 वें राठौड़ शासक थे, ताकि वे अकाल की स्थिति से बच सकें । राजा, किसानों की मदद के लिए, एक भव्य महल का निर्माण करने का फैसला किया। उन्होंने महल के लिए योजना तैयार करने के लिए हेनरी वॉन लेन्चेस्टर को वास्तुकार के रूप में नियुक्त किया; लैनचस्टर सर एडविन लुटियन के समकालीन थे जिन्होंने नई दिल्ली सरकार के परिसर की इमारतों की योजना बनाई थी। महल को इस तरह से डिजाइन किया गया था कि इसमें पश्चिमी प्रौद्योगिकी के साथ-साथ शास्त्रीय भारतीय वास्तुकला सुविधाओं को भी शामिल किया गया था।

यह महल का वास्तविक निर्माण वर्ष 1929 में शुरू हुआ था, लेकिन वर्ष 1943 में ही पूरा हो गया था। बलुआ पत्थर से बने इस भव्य होटल में 347 कमरे हैं। डेको कला स्थापत्य शैली यहाँ हावी है और यह 1920 और 1930 के दशक के आसपास की शैली है। इस महल को धीमी गति से बनाया गया था क्योंकि इसका प्रारंभिक उद्देश्य स्थानीय स्तर पर अकाल-खतरनाक किसानों को रोजगार प्रदान करना था। लगभग 2,000 से 3,000 लोग इसे बनाने के लिए कार्यरत थे। महल के निर्माण की अनुमानित लागत 11 मिलियन थी।

उम्मेद भवन पैलेस म्यूजियम – Umaid Bhawan Palace Museum in Hindi

उम्मेद भवन पैलेस के एक हिस्से को म्यूजियम में परिवर्तित किया गया है जो देश विदेश पर्यटकों और इतिहास प्रेमियों को आकर्षित करता है। यहां पर कलाकृतियों और विलासिता का एक भव्य प्रसार है। संग्रहालय में तेंदुए, कांच और चीनी मिट्टी के बरतन के बर्तन और स्मृति चिन्ह जैसे एक प्रतीकात्मक झंडे को रखा गया है, जिसे राजा जसवंत सिंह ने स्वयं रानी विक्टोरिया को उपहार में दिया था। संग्रहालय में घड़ियों और तस्वीरों का एक विशाल संग्रह भी है जो अपने सबसे शानदार रूप में पैलेस के इंटीरियर को चित्रित करते हैं। इसके आलावा संग्रहालय के सामने वाले बगीचे में महाराजाओं की क्लासिक कारें भी हैं।

उम्मेद भवन पैलेस होटल – Umaid Bhawan Palace Hotel in Hindi

उम्मेद भवन पैलेस को रॉयल निवास, म्यूजियम के साथ साथ 1971 में एक होटल में बदल दिया गया जिसमे 70 अतिथि कमरे हैं। जानकारी के मुताबिक, यह दुनिया के सबसे बड़े निजी महलों में से एक है. यह ताज होटल का ही एक अंग है. इसका नाम महाराजा उम्मेद सिंह के पौत्र ने दिया था जो वर्तमान में मालिक है। यही पर अमेरिकी सिंगर निक जोनस और बॉलीवुड की देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा की शादी हुई थी। उम्मेद भवन देश का सबसे लग्जरी होटलों में शुमार है. उम्मेद भवन पैलेस अपनी लग्जरी, स्ट्रक्चर के लिए फेमस है। इसलिए यहां एक रात ठहरने का किराया भी लाखों में है। उम्मेद भवन पैलेस के महारानी और महाराजा प्रेसिडेंशियल सुईट में एक रात का किराया 8 लाख रुपये से ज्यादा है।

उम्मेद भवन पैलेस की एंट्री फीस और टाइमिंग –  Umaid Bhawan Palace

Entry fees and Timing 

यहां पर आप सुबह 9.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक आ सकते हैं। यहां की फीस भारतीय पर्यटकों के लिए : 30 रूपये और बच्चो के लिए : 10 रूपये हैं। वहीँ विदेशी पर्यटकों के लिए : 100 रूपये हैं।

उम्मेद भवन पैलेस कैसे पहुंचे – How To Reach Umaid Bhawan Palace Jodhpur in Hindi

पैलेस रोड जोधपुर में स्थित उम्मैद भवन पैलेस से मेहरानगढ़ दुर्ग से 6.5 किमी और जसवंत थढ़ की समाधि से 6 किमी दूर है। राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम (आरएसआरटीसी) की बस सेवायें सभी पास के शहरों से जोधपुर के लिए उपलब्ध हैं। जोधपुर के लिये पर्यटक जयपुर, दिल्ली, जैसलमेर, बीकानेर, आगरा, अहमदाबाद, अजमेर, उदयपुर, और आगरा से निजी डीलक्स बसें भी ले सकते हैं।

उम्मेद भवन पैलेस का निकटतम हवाई अड्डा अपना घरेलु हवाई अड्डा है जो उम्मेद भवन पैलेस से लगभग 04 किलोमीटर दूर स्थित है। यह हवाई अड्डा दिल्ली, मुंबई, जयपुर और कोलकाता जैस देश का कई प्रमुख शहरों से हवाई मार्ग से जुड़ा हुआ है। और नजदीकी रेलवे स्टेशन जोधपुर स्टेशन हैं।


और अधिक लेख –

Please Note : – Umaid Bhawan Palace Information In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे  Comment Box मे करे।

Leave a Comment

Your email address will not be published.