सलीम चिश्ती की जीवनी, इतिहास | Salim Chishti Biography in Hindi

Salim Chishti / सलीम चिश्ती अजमेर के ख़्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती के पौत्र थे। जब बादशाह अकबर द्वारा संतान प्राप्ति के लिए किए गए सभी प्रयास असफल रहे तो वह स्वप्न में आए निर्देश के मुताबिक़ बाबा सलीम चिश्ती के पास आए। उन्हीं के आशीर्वाद से अकबर को महारानी मरीयम-उज़्-ज़मानी से पुत्र प्राप्ति हुई और बाबा के नाम पर उसका नाम भी सलीम रखा गया।

सलीम चिश्ती की जीवनी, इतिहास | Salim Chishti Biography in Hindi

सलीम चिश्ती की जीवनी – Salim Chishti Biography & History in Hindi

कई लोगों का मानना था कि चिश्ती चमत्कार कर सकते थे। उनकी शोहरत सुनकर अकबर, एक पुत्र की कामना लेकर उनके पास पहुंचा और जब अकबर को बेटा हुआ तो अकबर ने उसका नाम सलीम रखा। सीकरी में जहां सलीम चिश्ती रहते थे उसी के पास अकबर ने सन् 1571 में एक क़िला बनवाना शुरू किया। अकबर की कई रानियाँ और बेगम थीं, किंतु उनमें से किसी से भी पुत्र नहीं हुआ था। अकबर पीरों एवं फ़कीरों से पुत्र प्राप्ति के लिए दुआएँ माँगता फिरता था। शेख सलीम चिश्ती ने अकबर को दुआ दी। दैवयोग से अकबर की बड़ी रानी जो कछवाहा राजा बिहारीमल की पुत्री और भगवानदास की बहिन थी, गर्भवती हो गई, और उसने पुत्र को जन्म दिया। उसका नाम शेख के नाम पर सलीम रखा गया जो बाद में जहाँगीर के नाम से अकबर का उत्तराधिकारी हुआ।

अकबर शेख से बहुत प्रभावित था। उसने अपनी राजधानी सीकरी में ही रखने का निश्चय किया। सन् 1571 में राजधानी का स्थानांतरण किया गया। उसी साल अकबर ने गुजरात को फ़तह किया। इस कारण नई राजधानी का नाम फ़तेहपुर सीकरी रखा गया। सन् 1584 तक लगभग 14 वर्ष तक फ़तेहपुर सीकरी ही मुग़ल साम्राज्य की राजधानी रही। अकबर ने अनेक निर्माण कार्य कराये, जिससे वह आगरा के समान बड़ी नगरी बन गई थी। फ़तेहपुर सीकरी समस्त देश की प्रशासनिक गतिविधियों का प्रमुख केन्द्र थी।

सन् 1584 में एक अंग्रेज़ व्यापारी अकबर की राजधानी आया, उसने लिखा है− ‘आगरा और फतेहपुर दोनों बड़े शहर हैं। उनमें से हर एक लंदन से बड़ा और अधिक जनसंकुल है। सारे भारत और ईरान के व्यापारी यहाँ रेशमी तथा दूसरे कपड़े, बहुमूल्य रत्न, लाल, हीरा और मोती बेचने के लिए लाते हैं।’

हालांकि, कुछ सालों के भीतर ही पानी की किल्लत के कारण शहर को छोड़ दिया गया था। परंतु आज भी यह शहर अच्छी हालत में है तथा यह भारत के मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक है।

बाबा सलीम चिश्ती के सम्मान में ही बादशाह अकबर ने बुलंद दरवाज़ा बनवाया था। यहाँ पर बादशाह अकबर का महल भी है जो कि भारत सरकार के पुरातत्त्व संरक्षण विभाग द्वारा संरक्षित है। यहाँ पर जोधाबाई महल, पंचमहल, अस्तबल, पचीसी दरबार, दीवान-ऐ-ख़ास, दीवान-ऐ-आम, बीरबल महल, अनूप तालाब भी है जहाँ पर सुरसम्राट तानसेन अपना संगीत सुनाते थे।

सलीम चिश्ती की दरगाह – Salim Chisti Dargah in Hindi

शेख सलीम चिश्ती की समाधि भारत के आगरा जिले में नगर से 35 किलो मीटर दूर फतेहपुर सीकरी शहर में, ज़नाना रौजा के निकट, दक्षिण में बुलन्द दरवाजे़ की ओर मुख किये हुये, जामी मस्जिद की भीतर स्थित है।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.