रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की जीवनी | Ramdhari Singh Dinkar Biography in Hindi

Ramdhari Singh Dinkar – रामधारी सिंह ‘दिनकर’ हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक, कवि एवं निबंधकार थे। भारतीय स्वतंत्रता अभियान के समय में उन्होंने अपनी कविताओ के माध्यम से देशभक्ति पर कविताये लिखकर लोगो को देश के प्रति जागरूक करते थे। देशभक्ति पर आधारित कविताओ के लिये उन्हें राष्ट्रकवि का दर्जा भी दिया गया था। साहित्य के रूप में उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेज़ी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था।

रामधारी सिंह 'दिनकर' की जीवनी | Ramdhari Singh Dinkar Biography in Hindi

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ का परिचय – Ramdhari Singh Dinkar Biography

नाम रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (Ramdhari Singh Dinkar)
जन्म दिनांक 23 सितंबर, 1908
जन्म स्थान सिमरिया, मुंगेर, बिहार
मृत्यु 24 अप्रैल, 1974 (चेन्नई, तमिलनाडु)
पिता का नाम श्री रवि सिंह
माता का नाम श्रीमती मनरूप देवी
नागरिकता भारतीय
कर्म-क्षेत्र कवि, लेखक
भाषा हिन्दी
प्रसिद्धि राष्ट्रकवि
मुख्य रचनाएँ रश्मिरथी, उर्वशी, कुरुक्षेत्र, संस्कृति के चार अध्याय, परशुराम की प्रतीक्षा, हुंकार, हाहाकार, चक्रव्यूह, आत्मजयी, वाजश्रवा के बहाने आदि।

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ आधुनिक युग के ऐसे कवी थे जिन्होंने अपनी कविताओं के जरिये राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत, क्रांतिपूर्ण संघर्ष की प्रेरणा दी। ‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तिय का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है।

प्रारंभिक जीवन – Early Life of Ramdhari Singh Dinkar

रामधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 ई. में सिमरिया, मुंगेर (बिहार) में हुआ। वे गरीब भूमहार ब्राह्मण परिवार में पैदा हुए थे। उनके पिता का नाम ‘रवि सिंह’ तथा माँ का नाम ‘मनरूप देवी’ था। दिनकर के पिता एक साधारण किसान थे। दिनकर दो वर्ष के थे, जब उनके पिता का देहावसान हो गया। परिणामत: दिनकर और उनके भाई-बहनों का पालन-पोषण उनकी विधवा माता ने किया। दिनकर का बचपन और कैशोर्य देहात में बीता, जहाँ दूर तक फैले खेतों की हरियाली, बांसों के झुरमुट, आमों के बग़ीचे और कांस के विस्तार थे। प्रकृति की इस सुषमा का प्रभाव दिनकर के मन में बस गया, पर शायद इसीलिए वास्तविक जीवन की कठोरताओं का भी अधिक गहरा प्रभाव पड़ा।

उन्होंने गांव में ही मिडिल स्कूल में प्रारम्भिक शिक्षा ग्रहण करने के बाद बी.ए. इतिहास विषय में 1932 में पटना विश्वविद्यालय से किया। जब पढाई कर रहे थे इसी बीच इनका विवाह भी हो चुका था तथा ये एक पुत्र के पिता भी बन चुके थे। स्कूल और कॉलेज में, उन्होंने हिंदी, संस्कृत, मैथिलि, बंगाली, उर्दू और इंग्लिश साहित्य का अभ्यास किया था।

दिनकर को छात्र जीवन में बहुत सारे आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा था। जब वे मोकामा हाई स्कूल के छात्र थे तब स्कूल के बंद होने तक, चार बजे तक स्कूल में रहना उनके लिये संभव नही था। इसीलिए वे बीच की छुट्टी में ही स्कूल छोड़कर वापिस घर आ जाते थे। हॉस्टल में रहना उनके लिये आर्थिक रूप से संभव नही था और इसीलिए वे स्कूल खत्म होने तक स्कूल में नही रुकते थे। बाद में उन्होंने अपनी कविताओ के मध्यम से गरीबी के प्रभाव को समझाया। और ऐसे ही वातावरण में दिनकर जी पले-बढे और आगे चलकर राष्ट्रकवि बने।

कार्यक्षेत्र – Ramdhari Singh Dinkar Career

दिनकर इक़बाल, रवींद्रनाथ टैगोर, कीट्स और मिल्टन से काफी प्रभावित हुए थे। उन्होंने बंगाली से हिंदी में रवींद्रनाथ टैगोर के कार्यों का अनुवाद भी किया था। उनका ज्यादातर कार्य वीर रस से जुड़ा हुआ ही रहा है, लेकिन उर्वशी इसमें शामिल नही है। उनके कुछ प्रसिद्ध कार्यो में राष्मिराथिंद परशुराम की प्रतीक्षा शामिल है। भुषण के समय से ही उन्हें वीर रस का सबसे प्रसिद्ध और बुद्धिमान कवी माना जाता है।

पटना विश्वविद्यालय से बी. ए. ऑनर्स करने के बाद अगले ही वर्ष एक स्कूल में यह ‘प्रधानाध्यापक’ नियुक्त हुए, पर 1934 में बिहार सरकार के अधीन इन्होंने ‘सब-रजिस्ट्रार’ का पद स्वीकार कर लिया। लगभग नौ वर्षों तक वह इस पद पर रहे और उनका समूचा कार्यकाल बिहार के देहातों में बीता तथा जीवन का जो पीड़ित रूप उन्होंने बचपन से देखा था, उसका और तीखा रूप उनके मन को मथ गया।

कृतियाँ – Ramdhari Singh Dinkar Poet

दिनकर जी की प्राय: 50 कृतियाँ प्रकाशित हुई हैं। हिन्दी काव्य छायावाद का प्रतिलोम है, यह कहना तो शायद उचित नहीं होगा पर इसमें सन्देह नहीं कि हिन्दी काव्य जगत पर छाये छायावादी कुहासे को काटने वाली शक्तियों में दिनकर की प्रवाहमयी, ओजस्विनी कविता के स्थान का विशिष्ट महत्त्व है। उन्होंने सामाजिक और आर्थिक समानता और शोषण के खिलाफ कविताओं की रचना की। एक प्रगतिवादी और मानववादी कवि के रूप में उन्होंने ऐतिहासिक पात्रों और घटनाओं को ओजस्वी और प्रखर शब्दों का तानाबाना दिया।

उनकी महान रचनाओं में रश्मिरथी और परशुराम की प्रतीक्षा शामिल है। उर्वशी को छोड़कर दिनकर की अधिकतर रचनाएँ वीर रस से ओतप्रोत है। भूषण के बाद उन्हें वीर रस का सर्वश्रेष्ठ कवि माना जाता है। ज्ञानपीठ से सम्मानित उनकी रचना उर्वशी की कहानी मानवीय प्रेम, वासना और सम्बन्धों के इर्द-गिर्द घूमती है। उर्वशी स्वर्ग परित्यक्ता एक अप्सरा की कहानी है। वहीं, कुरुक्षेत्र, महाभारत के शान्ति-पर्व का कवितारूप है। यह दूसरे विश्वयुद्ध के बाद लिखी गयी रचना है। वहीं सामधेनी की रचना कवि के सामाजिक चिन्तन के अनुरुप हुई है।

उनके द्वारा रचित कुरुक्षेत्र एक बेहतरीन कविता थी जो महाभारत के शांति पर्व पर आधारित थी। यह कविता उस समय में लिखी गयी थी जब कवी और लोगो के दिमाग में द्वितीय विश्व युद्ध की यादे ताज़ा थी। इसके साथ कुरुक्षेत्र में उन्होंने कृष्णा की चेतावनी कविता भी लिखी। इस कविता को स्थानिक लोगो का काफी अच्छा प्रतिसाद मिला था। उनका द्वारा रचित रश्मिरथी, हिन्दू महाकाव्य महाभारत का सबसे बेहतरीन माना जाता है।

निधन

दिनकर जी का निधन 24 अप्रॅल, 1974 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुवा। दिनकर अपने युग के प्रमुखतम कवि ही नहीं, एक सफल और प्रभावपूर्ण गद्य लेखक भी थे। सरल भाषा और प्रांजल शैली में उन्होंने विभिन्न साहित्यिक विषयों पर निबंध के अलावा बोधकथा, डायरी, संस्मरण तथा दर्शन व इतिहासगत तथ्यों के विवेचन भी लिखे। दिनकर जी भले ही हमारे बिच नहीं हैं लेकिन अपनी कविताओं को हमारे बीच जीवित रखकर सदा के लिये अमर हो गये।

अवार्ड्स और सम्मान – Ramdhari Singh Dinkar Awards

दिनकर जी को सरकार के विरोधी रूप के लिये भी जाना जाता है, भारत सरकार द्वारा उन्‍हें पद्म भूषण से अंलकृत किया गया। इनकी गद्य की प्रसिद्ध पुस्‍तक ‘संस्कृति के चार अध्याय’ के लिये साहित्य अकादमी तथा उर्वशी के लिये ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया गया। दिनकर को कुरुक्षेत्र के लिए इलाहाबाद की साहित्यकार संसद द्वारा पुरस्कृत (1948) किया गया।

उन्हें काशी नागरी प्रचारिणी सभा, उत्तर प्रदेश सरकार और भारत सरकार की तरफ से महाकाव्य कविता कुरुक्षेत्र के लिये बहुत से अवार्ड मिल चुके है। भागलपुर यूनिवर्सिटी ने उन्हें LLD की डिग्री से सम्मानित किया था। राजस्थान विद्यापीठ, उदयपुर की तरफ से 8 नवम्बर 1968 को उन्हें साहित्य-चौदमनी का सम्मान दिया गया था। 8 नवंबर, 1968 को उन्हें साहित्य-चूडमानी राजस्थान विद्यापीठ, उदयपुर के रूप में सम्मानित किया गया।

मरणोपरांत 30 सितंबर, 1987 को, भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा ने उनकी 79 वीं जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित की थी। 1999 में, दिनकर भारत के “भाषाई सद्भावना” का जश्न मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा जारी स्मारक डाक टिकटों के सेट में इस्तेमाल किए जाने वाले हिंदी लेखकों में से एक थे। 50 वीं वर्षगांठ के बाद से भारतीय संघ ने अपनी आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया।

2008 को पटना में उनकी 100 वीं जयंती के अवसर पर उनके लिए श्रद्धांजलि दी गईं और बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने दिनकर चौक में उनकी  प्रतिमा का अनावरण किया और दिवंगत कवियों को फूलों की श्रद्धांजलि दी। 2008 में भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उनकी देशभक्त कविताओ को भारतीय संसद भवन के हॉल में भी लगवाया था और 2012 को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 21 प्रसिद्ध लेखको और सामाजिक कार्यकर्ताओ को राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्हें राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ साहित्य रत्न सम्मान देकर सम्मानित भी किया था।

लेखकों के नजर में रामधारी सिंह ‘दिनकर’ – Ramdhari Singh Dinkar

हज़ारी प्रसाद द्विवेदी – वे अहिन्दीभाषी जनता में भी बहुत लोकप्रिय थे क्योंकि उनका हिन्दी प्रेम दूसरों की अपनी मातृभाषा के प्रति श्रद्धा और प्रेम का विरोधी नहीं, बल्कि प्रेरक था।

हरिवंशराय बच्चन – दिनकर जी ने श्रमसाध्य जीवन जिया। उनकी साहित्य साधना अपूर्व थी। कुछ समय पहले मुझे एक सज्जन ने कलकत्ता से पत्र लिखा कि दिनकर को ज्ञानपीठ पुरस्कार मिलना कितना उपयुक्त है ? मैंने उन्हें उत्तर में लिखा था कि यदि चार ज्ञानपीठ पुरस्कार उन्हें मिलते, तो उनका सम्मान होता- गद्य, पद्य, भाषणों और हिन्दी प्रचार के लिए।

नामवर सिंह – दिनकर जी सचमुच ही अपने समय के सूर्य की तरह तपे। मैंने स्वयं उस सूर्य का मध्याह्न भी देखा है और अस्ताचल भी। वे सौन्दर्य के उपासक और प्रेम के पुजारी भी थे। उन्होंने ‘संस्कृति के चार अध्याय’ नामक विशाल ग्रन्थ लिखा है, जिसे पं. जवाहर लाल नेहरू ने उसकी भूमिका लिखकर गौरवन्वित किया था। दिनकर बीसवीं शताब्दी के मध्य की एक तेजस्वी विभूति थे।

और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.