नासिया मंदिर का इतिहास और जानकारी | Nasiyan Temple History in Hindi

Nasiyan Temple / नासिया मंदिर राजस्थान के अजमेर में स्थित हैं जिसे लाल मंदिर भी कहा जाता है। इस मंदिर का निर्माण 1865 में हुआ था और यह अजमेर में पृथ्वीराज मार्ग पर स्थित है। मंदिर की संरचना दो मंजिली है जो प्रथम जैन तीर्थांकर भगवान आदिनाथ को समर्पित है।

नासिया मंदिर का इतिहास और जानकारी | Nasiyan Temple History in Hindi

नासिया मंदिर, अजमेर – Nasiyan Temple History & Information in Hindi

नासिया मंदिर का भवन दो भागों में बनता हुआ है: एक भाग जो पूजा का क्षेत्र है जहाँ भगवान आदिनाथ की मूर्ति है और दूसरे भाग में एक हॉल (कक्ष) है जहाँ संग्रहालय है। संग्रहालय की आंतरिक संरचना सोने की बनी हुई है और यह भगवान आदिनाथ के जीवन के पाँच चरणों जिन्हें पंच कल्याणक कहा जाता है, को दर्शाती है।

इसका क्षेत्र 3200 वर्ग फुट है और यह बेल्जियम के रंगीन काँच, खनिज रंगों और रंगीन काँचों से सुसज्जित है। इसके केंद्र में एक कक्ष है जो सोने और चाँदी से सुसज्जित है और इसे “गोल्डन टेंपल” (स्वर्ण मंदिर) भी कहा जाता है। इस मंदिर में लकड़ी पर सोने का काम, काँच की नक्काशी और पेंटिंग भी देखने को मिलती है।

यह मंदिर “सोनी जी की सैयां” नाम से भी प्रसिद्द इस मंदिर का नाम ऐसा इसलिए पड़ा क्योंकि यह मूल्यवान पत्थरों, सोने और चाँदी से सजा हुआ है। यहां दिगम्बर जैन मंदिर (सोनी जी की नसिया) है जो पूरी तरह से स्वर्ण का बना हुआ है। ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर के निर्माण में एक हज़ार किलो सोने का इस्तेमाल हुआ है।


और अधिक लेख – 

Please Note :- I hope these “Nasiyan Temple, Ajmer, Rajasthan History in Hindi” will like you. If you like these “Nasiyan Temple Information & Story in Hindi” then please like our facebook page & share on whatsapp.

Leave a Comment

Your email address will not be published.