मिजोरम की जानकारी, तथ्य, इतिहास | Mizoram information in hindi

Mizoram / मिजोरम भारत का एक उत्तर पूर्वी राज्य है। मिज़ोरम का मतलब होता है ‘पहाड़ों की भूमि’। मिज़ोरम की धरती में अद्भुत प्राकृतिक सुंदरता, कई प्रकार के लैंडस्केप, समृद्ध वनस्पति और जीव, पाईन के समूह और बांस के घरों वाले अनूठे गांव हैं। कर्क रेखा मिज़ोरम के मध्य से गुजरती है और इसलिए यहां साल भर मौसम सुहाना बना रहता है। आइये जाने मिजोरम के बारे में और अधिक जानकारी.. 

Mizoramमिजोरम की जानकारी एक नजर में – Mizoram Information & History In Hindi,

1). इस राज्य की स्थापना सन 20 फरवरी 1987 को हुई थी।

2). इस राज्य की राजधानी आइजोल है।

3). इस राज्य में जिलों की संख्या 8 है।

4). राज्यों में सडकों की कुल लंबाई 5982.25 किमी है।

5). सन् 2011 की साक्षरता दर के अनुसार राज्य की आबादी 10,97,206 है।

6). मिज़ोरम में एकल कक्ष विधान सभा है, जिसमें 40 सीटें हैं। राज्य से दो सदस्य भारतीय संसद जाते हैं, एक राज्य सभा यानि उपरी सदन और एक लोक सभा यानि निचले सदन में।

7). यहॉ की राजकीय भाषा मिजो है।

8). इस राज्य की सबसे लंबी नदी त्लांग है।

9). इस राज्य की प्रमुख फसलें मक्का, सोयाबीन, अदरक, हल्दी, मिर्च, फूलों की खेती है।

10). यहॉ का राजकीय फूल ‘रेड वनाडा’ है।

11). यहॉ का राजकीय वृक्ष ‘आयरन वुड’ है।

12). यहॉ का राजकीय पशु ‘हिलॉक गिब्बेन’ है।

13). इस राज्य का क्षेत्रफल लगभग 21081 वर्ग किलो मीटर है।

14). इसकी सीमाएं पूर्व और दक्षिण से म्यांमार, पश्चिम में बांग्लादेश, उत्तर में मणिपुर, असम और त्रिपुरा के राज्यों से घिरी हैं।

15). राज्य की टोपोग्राफी पर हावी रहने वाला मिज़ो पर्वत 2000 मीटर से भी ज्यादा उंचा है और म्यांमार की सीमा के पास स्थित है।

16). समुद्र तल से 4000 फीट ऊॅचा पर्वतीय नगर आइजोल मिजो लोंगों का धार्मिक और सांस्कृतिक केन्द्र है।

17). मिज़ो लोगों के वि‍भिन्न त्योहारों में से आजकल केवल तीन मुख्य त्योहार ‘चपचार’, ‘मिम कुट’ और ‘थालफवांगकुट’ मनाए जाते हैं।

18). मिज़ोरम पुराने उत्तर और दक्षिण लुशाई पर्वतों का मेल है।

19). म्यांमार की सीमा के निकट चमफाई यहॉ का एक सुंदर पर्यटन स्थल है।

20). 1972 में केंद्रशासित प्रदेश बनने से पहले तक यह असम का एक ज़िला था।

21). मिज़ोरम के शुरुआती इतिहास के बारे में बहुत कम ही जाना जाता है।

22). सन् 1750 से 1850 के बीच मिज़ो जनजाति के लोग पास के चिन हिल्स से आकर यहां बस गए और यहां के स्थानीय लोगों को अपने अधीन कर लिया और समान जनजातियों ने एकजुट होकर अपना एक समाज बना लिया।

23). सन् 1890 की शुरुआत तक मिज़ोरम अंग्रेजों के कब्जे में नहीं रहा, लेकिन यह दो दशक पहले ही उनके अधिकार में आ गया था।

24). मिज़ो कई जनजातियों में बंट गए जैसे लुशाई, पोई, पवाई, राल्ते, पांग, म्हार, कुकी आदि। यहां का समाज मोटे तौर पर आदिवासी गांवों के आसपास आधारित है।

25). मिज़ोरम अपनी रेशाहीन अदरक के लिए मशहूर है। धान, मक्का, सरसों, गन्ना, तिल और आलू इस इलाके की प्रमुख फसलें हैं। फसलों की पैदावार बढ़ाने के लिए छोटे पैमाने की सिंचाई परियोजनाओं का भी विकास किया गया है।

26). मिजोरम के लोग अपने भोजन में अधिकतर मांशाहारी इस्तेमाल करते है। इसके साथ साथ वह अपने भोजन में सब्जियो का भी उचित मात्रा में प्रयैग करते है। आमतौर पर यहा केले के पत्तो पर भोजन परोसा जाता है। जो यहा की संस्कृति है।

मिज़ोरम के पर्यटन स्थल – Mizoram Tourist Place in Hindi

मिजोरम में देखने लायक कई जगह, पाला झील और ताम दिल या सरसों के पौधें की झील मिज़ोरम के दो सबसे बड़े पर्यटन आकर्षण हैं। यहाँ अनेक प्राचीन गुफाऐं हैं जो पर्यटकों को मूलभूत मिज़ोरम के बारे में पता लगाने का अवसर प्रदान करती हैं। यहाँ डंपा वन्यजीव अभयारण्य, खौंगलुंग वन्यजीव अभयारण्य आदि कई वन्यजीव अभयारण्य हैं।


और अधिक जानकारी –

Leave a Comment

Your email address will not be published.