मामा-भांजा मंदिर, छत्तीसगढ़ | Mama Bhanja Temple History in Hindi

Mama Bhanja Temple / मामा-भांजा मंदिर, छत्तीसगढ़ राज्य के दन्तेवाड़ा ज़िले में स्थित भगवान शिव को समर्पित मंदिर हैं। छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में एक यह मंदिर पर्यटको के लिए भी आकर्षण का केंद्र हैं। अभी यह मंदिर ‘भारतीय पुरातत्त्व विभाग’ की देखरेख में है।

मामा-भांजा मंदिर का इतिहास और जानकारी - Mama Bhanja Temple History & Story in Hindi

मामा-भांजा मंदिर का इतिहास और जानकारी – Mama Bhanja Temple History & Story in Hindi

यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के दन्तेवाड़ा ज़िले में एक छोटे-से ग्राम बरसुर अथवा बारसुर में स्थित है। यह मंदिर काफ़ी ऊँचा है और मंदिर की अवस्था जर्जर है। पर इस हालत में भी ये मंदिर अत्यंत सुन्दर है। हालाँकि ‘भारतीय पुरातत्त्व विभाग’ इसे सुधारने के कार्य में लगा हुआ है।

इस मंदिर के नाम की भी कहानी रोचक हैं। वैसे तो ये मंदिर शिव को समर्पित है, लेकिन इसका नाम ‘मामा-भांजा मंदिर’ (Mama Bhanja Mandir) है। कहा जाता है कि ‘मामा’ और ‘भांजा’ दो शिल्पकार थे, जिन्हें ये मंदिर सिर्फ एक दिन में ही पूरा करने का काम मिला था। उन दोनों ने मंदिर एक दिन में बना दिया था।

मंदिर ‘भारतीय पुरातत्त्व विभाग’ की देखरेख में है, लेकिन यहाँ कोई बोर्ड आदि नहीं लगा है, जिससे कोई भी दिशा-निर्देश और मंदिर कब बना, क्यूँ बना, कैसे बना आदि का पता नहीं लग पाता। लेकिन, स्थानीय लोगों की मानें तो यह मंदिर सैकड़ों साल पुराना है। ‘मामा-भांजा मंदिर’ काफ़ी ऊँचा है और इसमें ऊपर दो तरफ़ मामा और भांजा की भी पत्थर की मूर्तियां बनायीं गयी हैं।


और अधिक लेख –

Please Note : – Mama Bhanja Temple Chhattisgarh History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.