सियारामशरण गुप्त की जीवनी | Siyaram Sharan Gupt Biography in Hindi

Siyaram Sharan Gupt / सियारामशरण गुप्त हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार और राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त के छोटे भाई थे। उन पर गाँधीवाद का विशेष प्रभाव रहा है। वे गाँधी जी के सत्य एवं अहिंसा के सिद्धान्तों के समर्थक रहे। इसलिये उनकी रचनाओं में करुणा, सत्य-अहिंसा की मार्मिक अभिव्यक्ति मिलती है। सियारामशरण गुप्त भारतीयता एवं भारतीय संस्कृति के पक्षधर थे।

सियारामशरण गुप्त की जीवनी | Siyaram Sharan Gupt Biography in Hindi

सियारामशरण गुप्त का जीवन परिचय – Siyaram Sharan Gupt Biography & Life History in Hindi

सियारामशरण गुप्त का जन्म 4 सितम्बर 1895 ई. को चिरगांव, झाँसी में हुवा था। वे राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त के छोटे भाई थे। इन्होने प्राइमरी शिक्षा पूर्ण कर घर में ही गुजराती, अंग्रेज़ी और उर्दू भाषा सीखी। सियारामशरण गुप्त बचपन से ही अत्यन्त सरल और सौम्य व्यक्ति थे।

सन् 1929 ई. में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और कस्तूरबा के सम्पर्क में आये। कुछ समय वर्धा आश्रम में भी रहे। सन् 1940 ई. में चिरगांव में ही नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का स्वागत किया। वे सन्त विनोबा भावे के सम्पर्क में भी आये।

गुप्त जी महात्मा गांधी और विनोबा भावे के विचारों के अनुयायी थे। इसका संकेत इनकी रचनाओं में भी मिलता है। गुप्त जी की रचनाओं का प्रमुख गुण है कथात्मकता। इन्होंने सामाजिक कुरीतियों पर करारी चोट की है। देश की ज्वलंत घटनाओं और समस्याओं का जीवंत चित्र इन्होंने प्रस्तुत किया है। इनके काव्य की पृष्ठभूमि अतीत हो या वर्तमान, उनमें आधुनिक मानवता की करुणा, यातना और द्वंद्व समन्वित रूप में उभरा है।

सियारामशरण गुप्त की भाषा-शैली पर घर के वैष्णव संस्कारों और गांधीवाद का प्रभाव था। गुप्त जी स्वयं शिक्षित कवि थे। मैथिलीशरण गुप्त की काव्यकला और उनका युगबोध सियारामशरण ने यथावत्‌ अपनाया था। अत: उनके सभी काव्य द्विवेदी युगीन अभिधावादी कलारूप पर ही आधारित हैं।

दोनों गुप्त बंधुओं ने हिंदी के नवीन आंदोलन छायावाद से प्रभावित होकर भी अपना इतिवृत्तात्मक अभिघावादी काव्य रूप सुरक्षित रखा है। विचार की दृष्टि से भी सियारामशरण जी ज्येष्ठ बंधु के सदृश गांधीवाद की परदु:खकातरता, राष्ट्रप्रेम, विश्वप्रेम, विश्व शांति, हृदय परिवर्तनवाद, सत्य और अहिंसा से आजीवन प्रभावित रहे।

उनके काव्य वस्तुत: गांधीवादी निष्टा के साक्षात्कारक पद्यबद्ध प्रयत्न हैं। हिंदी में शुद्ध सात्विक भावोद्गारों के लिए गुप्त जी की रचनाएँ स्मरणीय रहेंगी। उनमें जीवन के श्रृंगार और उग्र पक्षों का चित्रण नहीं हो सका किंतु जीवन के प्रति करुणा का भाव जिस सहज और प्रत्यक्ष विधि पर गुप्त जी में व्यक्त हुआ है उससे उनका हिंदी काव्य में एक विशिष्ट स्थान बन गया है।

दीर्घकालीन हिन्दी सेवाओं के लिए सन् 1962 ई. में “सरस्वती’ हीरक जयन्ती में सम्मानित किये गये। इन्हे सन् 1941 ई. में “सुधाकर पदक’ नागरी प्रचारिणी सभा वाराणसी द्वारा प्रदान किया गया। सियारामशरण गुप्त का असमय ही 29 मार्च 1963 ई. को लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया।

प्रमुख रचनाएँ

  • खण्ड काव्य, आर्द्रा, विषाद, दूर्वा दल, बापू, सुनन्दा और गोपिका।
  • मानुषी –कहानी संग्रह
  • पुण्य पर्व –नाटक
  • अनुवाद- गीता सम्वाद
  • नाट्य- उन्मुक्त गीत
  • कविता संग्रह- अनुरुपा तथा अमृत पुत्र
  • काव्यग्रन्थ- दैनिकी नकुल, नोआखली में, जय हिन्द, पाथेय, मृण्मयी तथा आत्मोसर्ग।
  • उपन्यास- अन्तिम आकांक्षा तथा नारी और गोद।
  • निबन्ध संग्रह- झूठ-सच।
  • पद्यानुवाद- ईषोपनिषद, धम्मपद और भगवत गीता

और अधिक लेख –

Please Note : – Siyaram Sharan Gupt Biography & Life History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.