केरल की जानकारी, तथ्य, इतिहास | Kerala information in hindi

Kerala / भारत की दक्षिण-पश्चिमी सीमा पर अरब सागर और सह्याद्रि पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य एक खूबसूरत भूभाग में स्थित एक राज्य हैं जिसका नाम केरल हैं। अपनी संस्कृति और भाषा-वैशिष्ट्य के कारण पहचाने जाने वाले भारत के दक्षिण में स्थित चार राज्यों में केरल प्रमुख स्थान रखता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार परशुराम ने अपना परशु समुद्र में फेंका जिसकी वजह से उस आकार की भूमि समुद्र से बाहर निकली और केरल अस्तित्व में आया। आइये जाने केरल के बारे में और अधिक जानकारी…

Kerelaकेरल की जानकारी एक नजर में – Kerala Information, Facts & History In Hindi  

1). केरल की स्थापना 1 नवंबर 1956 को हुई थी।

2). इसकी राजधानी तिरुवनन्तपुरम (त्रिवेन्द्रम) है।

3). यहॉ की राजकीय भाषा मलयालम और अंग्रेजी है।

4). इस राज्य का क्षेञफल 38863 वर्ग किलो मीटर है।

5). इसके प्रमुख पड़ोसी राज्य तमिलनाडु और कर्नाटक हैं।

6). अंतरराष्ट्रीय बाजारों में केरल ही एक माञ ऐसा राज्य है जो अपने मसालों की गुणवत्ता के लिए जाना जाता है।

7). भारत के राज्यों में केरल का साक्षरता दर में पहला स्थान है।

8). केरल में शिशुओं की मृत्यु दर भारत के राज्यों में सबसे कम है।

9). केरल में सडकों की कुल लंबाई 138196 किमी है।

10). इस राज्य में रेलवे लाइन की कुल लंबाई 1148 किमी है।

11). केरल पश्चिमी घाट और लक्ष्यद्वीप समुद्र के बीच स्थित है। राज्य में 590 किमी लंबी समुद्र तटरेखा है।

12). राज्य के सबसे बडे शहर कोच्चि, कोझिकोड, पालक्काड हैं।

13). राज्य की आधी से अधिक आबादी आय के लिए कृषि पर निर्भर है। चावल केरल की सबसे मुख्य फसल और मुख्य भोजन है।

14). राज्य की प्रमुख फसलें नारियल, चावल, रबड, काली मिर्च, इलाइची, कॉफी, काजू, दालचीनी हैं।

15). राज्य की प्रमुख नदियां कावेरी, पेरियार, पंपा, मणिमाला, नेन्नार हैं।

16). इस राज्य का राजकीय पशु ‘हाथी’ है।

17). इस राज्य का राजकीय फूल ‘कनिकोन्ना’ है।

18). इस राज्य का राजकीय वृक्ष ‘नारियल’ है।

19). इस राज्य का राजकीय पक्षी ‘ग्रेट हॉर्न बिल’ है।

20). यहां 10वीं सदी ईसा पूर्व से मानव बसाव के प्रमाण मिले हैं।

21). प्राचीन केरल को इतिहासकार तमिल भूभाग का अंग समझते थे।

22). केरल और पर्यटन लगभग एक दूसरे के पर्यायवाची हैं, भरपूर ट्रॉपिकल यानि ऊष्‍णकटिबंधीय हरियाली, नारियल के पेड़, तटों पर दूर तक फैले पाम, गदगद कर देने वाली पानी पर तैरती हाउसबोट, कई मंदिर, आयुर्वेद की सुंगध, दुर्बल झीलें या समुद्री झीलें, नहर, द्वीप आदि,


और अधिक लेख – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here