भगवान् महावीर के अनमोल वचन | Quotes On Mahavir Bhagwan In Hindi

Quotes On Mahavir Bhagwan In Hindi

Lord Mahavir Swami Quotes in Hindi – महावीर स्वामी के महत्वपूर्ण अनमोल विचार :

महावीर स्वामी (जन्म – ईसा से 599 वर्ष पूर्व) विश्व के उन महात्माओं में से एक थे जिन्होंने मानवता के कल्याण के लिये राजपाट को छोड़कर ताप और त्याग का मार्ग अपनाया था। बचपन से ही उनमें महानता के लक्षण दृष्टिगत होने लगे थे। 30 वर्ष की आयु में वन में जाकर ‘केशलोच’ के साथ उन्होंने गृह त्याग कर दिया। 12 वर्ष के कठोर तप के बाद जम्बक में एक शाल वृक्ष के नीचे उन्हें सच्चा ज्ञान प्राप्त हुआ और क्रमशः उनके उपदेश चतुर्दिक फैलने लगे। तीस वर्ष तक महावीर स्वामी ने त्याग, प्रेम एवं अहिंसा का संदेश फैलाया। जैन धर्म के वे 24 वें तीर्थकर थे। आइए जाने महावीर स्वामी के महत्वपूर्ण अनमोल विचार.


Quote 1 : जीवो के प्रति दयाभाव रखो, नफरत विनाश की ओर ले जाती है।

Quote 2 : किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को ना पहचानना है , और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है।

Quote 3 : शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है।

Quote 4 : प्रत्येक जीव स्वतंत्र है. कोई किसी और पर निर्भर नहीं करता।

Quote 5 : सुखी जीवन जीने के लिए दो बातें हमेशा याद रखें : (1) अपनी मृत्यु (2) भगवान।

Quote 6 : भगवान् का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है. हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है।

Quote 7 : प्रत्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदमय है. आनंद बाहर से नहीं आता।

Quote 8 : सभी जीवित प्राणियों के प्रति सम्मान अहिंसा है।

Quote 9 : सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं।

Quote 10 : अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है. (दूसरों के दुखों को देखकर दुखी होना और उनके दर्द दूर करने का प्रयत्न करना अहिंसा है।)

Quote 11 : एक व्यक्ति जलते हुए जंगल के मध्य में एक ऊँचे वृक्ष पर बैठा है. वह सभी जीवित प्राणियों को मरते हुए देखता है. लेकिन वह यह नहीं समझता की जल्द ही उसका भी यही हस्र होने वाला है. वह आदमी मूर्ख है।

Quote 12 : क्या तुम लोहे की धधकती छड़ सिर्फ इसलिए अपने हाथ में पकड़ सकते हो क्योंकि कोई तुम्हे ऐसा करना चाहता है ? तब, क्या तुम्हारे लिए ये सही होगा कि तुम सिर्फ अपनी इच्छा पूरी करने के लिए दूसरों से ऐसा करने को कहो, यदि तुम अपने शरीर या दिमाग पर दूसरों के शब्दों या कृत्यों द्वारा  चोट बर्दाश्त नहीं कर सकते हो तो तुम्हे दूसरों के साथ अपनों शब्दों या कृत्यों द्वारा ऐसा करने का क्या अधिकार है?

Quote 13 : खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है।

Quote 14 : स्वयं से लड़ो, बाहरी दुश्मन से क्या लड़ना ? वह जो स्वयम पर विजय कर लेगा उसे आनंद की प्राप्ति होगी।

Quote 15 : आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है. असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं, वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच, आसक्ति और नफरत।

Quote 16 : आत्मा अकेले आती है अकेले चली जाती है, न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है।

Quote 17 : किसी के अस्तित्व को मत मिटाओ। शांतिपूर्वक जिओ और दुसरो को भी जीने दो।

 You May Also Like This Articles :-
loading...

LEAVE A REPLY