त्रिपुरा की जानकारी, तथ्य, इतिहास – Tripura information in hindi

Tripura / त्रिपुरा भारत के पूर्वोत्तर में स्थित ‘सेवन सिस्टर’ राज्यों में से एक है। वास्तव में यह भारत का दूसरा सबसे छोटा राज्य है। इसका कुल इलाका 10,486 वर्ग किलोमीटर का है। भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को बढाता हुआ, भारत के कई अत्यंत सुंदर राज्यों में से एक है। आइये जाने त्रिपुरा के बारे में और अधिक जानकारी…

tripuraत्रिपुरा की जानकारी एक नजर में – Tripura Information & History In Hindi

1). त्रिपुरा की स्थापना 21 जनवरी 1972 को हुई थी।

2). इस राज्य की राजधानी अगरतला है।

3). राज्य में जिलों की संख्या 8 है।

4). राज्य की राजकीय भाषा बंगला, काक, बरक, अंग्रेजी है।

5). राज्य का क्षेत्रफल 1049169 वर्ग किलो मीटर है।

6). यह राज्य उत्तर, पश्चिम और दक्षिण में बांग्लादेश से घिरा है। अपने पूर्वी ओर से यह राज्य मिजोरम और असम से घिरा है।

7). राज्य का राजकीय पशु ‘फायर्स लंगूर’ है।

8). राज्य का राजकीय वृक्ष ‘अगार’ है।

9). राज्य का राजकीय फूल ‘नागेश्वर’ है।

10). राज्य का राजकीय पक्षी ‘हरा कबूतर’ है।

11). राज्य के सबसे बडे शहर बदरघाट, अगरतला, कुमारघाट, पिलाक, उदयपुर हैं।

12). राज्य की प्रमुख फसलें चावल, जूट, गेहॅू, गन्ना, चाय, कपास आदि है।

13). राज्य की प्रमुख नदीयॉ गोमती, मनू, खुवाई हैं।

14). राज्य में सडकाें की कुल लंबाई 15227 किमी है।

15). यहॉ पर हैडलूूम तथा बांस से बस्तुओं का निर्माण किया जाता है।

16). यहॉ के लोकनृत्यों में गारिया, मसक, सुमानी, झूम, ओर लेबांग बूमानी प्रसिद्ध हैं।

17). संस्कृत में त्रिपुरा का मतलब है ‘तीन शहर’। जीवाश्म की लकड़ी से बने पाषाण काल के उपकरण खोवई और हाओरा घाटियों में पाए गए हैं।

18). त्रिपुरा का पुराना नाम कीरत देश था, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि कीरत देश आधुनिक त्रिपुरा के मुकाबले कब तक रहा।

19). इस राज्य में कई शाही महल और मंदिर हैं जो दुनिया भर के पर्यटकों और यहां छुट्टी मनाने आने वाले लोगों को आकर्षित करते हैं। राजधानी अगरतला भी देखने और घूमने के लिए एक लोकप्रिय स्थान है।

20). भारत में ब्रिटिश शासन के समय में त्रिपुरा एक रियासत बन गया था। राज्य के दक्षिणी भाग में स्थित उदयपुर त्वीपरा राजवंश की राजधानी था।

21). सन् 1947 में भारत को आजादी मिलने के बाद तिपेरा जिला पूर्वी पाकिस्तान का भाग बन गया।

22). सन् 1949 में महारानी रीजेंट ने त्रिपुरा विलय समझौते पर हस्ताक्षर किए। सन् 1956 में यह राज्य एक केंद्र शासित प्रदेश बन गया। सन् 1963 में यहां एक निर्वाचित मंत्रालय स्थापित किया गया।

23). त्रिपुरा राज्य सिक्किम और गोवा के बाद भारत का सबसे छोटा राज्य है।

24). यह राज्य उन्नीस स्वदेशी समुदायों और गैर-आदिवासी बंगाली लोगों के सामंजस्य का मिश्रण है।

25). त्रिपुरा का मौसम इसकी उंचाई से प्रभावित है और लगभग वैसा ही है जैसा कि आम तौर पर पर्वतीय क्षेत्रों में होता है। त्रिपुरा में एक उष्णकटिबंधीय सवाना जलवायु है और यहाँ मुख्य चार ऋतुएं होती हैं: ठंड – दिसंबर से फरवरी। मानसून पूर्व ऋतु मार्च से अप्रैल तक। मानसून- मई से सितंबर तक। त्रिपुरा में ठंड के दौरान तापमान दस डिग्री तक गिर सकता है और गर्मियों में 35 डिग्री तक जा सकता है। यहाँ जून के महीने में भारी बारिश होती है।

26). त्रिपुरा की संस्कृति काफी समृद्ध है। इस राज्य में करीब 19 जनजातीय है और आज भी जंगलो में रहना पसंद करती है। त्रिपुरी, रंग, चकमा, गारो, कुकी, उचोई, मणिपुरी और मिज़ो जैसी जनजातीय आज भी अधिकतर जंगलो में रहना पसंद करती है।

27). यहापर अधिकतर बंगाली हिन्दू लोग अधिक संख्या में रहते है और त्रिपुरा की संस्कृति पर बगांली हिन्दू लोगो का ज्यादातर प्रभाव भी देखने को मिलता है क्यों की यहापर एक समय में त्रिपुरी राजा के दरबार में बंगाली साहित्य और बंगाली भाषा का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता था। आज इस राज्य में हिन्दू, मुस्लीम, बौद्ध और ख्रिश्चन सभी धर्म के लोग एक साथ मिलजुलकर रहते है।

त्रिपुरा के पर्यटन स्थल – Tripura Tourist Place in Hindi

त्रिपुरा जैसे छोटेसे राज्य में देखने जैसे कई सारी जगह है जो पर्यटन का मुख्य आकर्षण बन चुकी है। इस जगह को प्रकृति ने बहुत ही सुंदर रचना है। यह चारों ओर से पहाड़ियों, घाटियाें, हरी-भरी वादियों और पहाड़ी नदियांे से घिरा है। कमलासागर झील, दंबूर झील, उज्जयंत महल, नीरमहल, कुंजबन महल, गवर्नमेंट म्यूजियम, जंपुई हिल्स आदि त्रिपुरा के प्रमुख आकर्षण हैं।


और अधिक लेख –

Leave a Comment

Your email address will not be published.