मलिक दीनार मस्जिद, केरल | Malik Deenar Masjid History in Hindi

0

Malik Deenar Masjid / मलिक दीनार मस्जिद केरल के कसरगोड नगर की एक ऐतिहासिक मस्जिद है। यह मस्जिद ‘जूमा मस्जिद’ के नाम से विख्यात है। मस्जिद कसरगोड के थालांगढ़ में स्थित है। मलिक दीनार मस्जिद नगर का मुख्य आकर्षण है और मुस्लिमों की आस्था का केंद्र है। इस मस्जिद में मलिक इब्न मोहम्मद की क़ब्र है।

मलिक दीनार मस्जिद, केरल | Malik Deenar Masjid History in Hindi

मलिक दीनार मस्जिद – Malik Deenar Masjid Information & History in Hindi

Malik Dinar Mosque – मलिक दीनार मस्जिद को औपचारिक तौर पर मलिक दीनार ग्रैंड जुमा मस्जिद (Malik Deenar Juma Masjid) कहा जाता है। इसका निर्माण मलिक इब्न दीनार ने थलंकरा में करवाया था। मूल रूप से इसका निर्माण 642 ई. में हुआ था और 1809 में इसका पुनर्निर्माण किया गया।

कई गैर-मुस्लिम भी इस मस्जिद में श्रद्धा रखते हैं और अपने बच्चों का विद्यारंभ संस्कार करने इस मस्जिद में आते हैं। रमजान के दौरान अन्य धर्मावलंबी इफ्तार तैयार करते हैं। कहते हैं कि चेर वंश के आखिरी शासक चेरामन पेरूमल के संरक्षण में मस्जिद बनाया गया था। चेरामन पेरूमल के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने मक्का में पैगंबर से मिलने के बाद राज्य त्याग दिया था और इस्लाम अपना लिया था।

भारत वापस लौटने के क्रम में ओमान के धुफार में किसी बीमारी से मरने से पहले उन्होंने जिन स्थानीय क्षत्रपों को राज्य सौंपा था, उन्हें एक पत्र लिखकर अरब से आने वाले कुछ व्यापारियों को सभी प्रकार की मदद करने का अनुरोध किया था।

इन्हीं व्यापारियों में से एक था मलिक इबन दीनार, जिन्हें स्थानीय क्षत्रप ने कई मस्जिद बनवाने की अनुमति दी थी। इसलिए मस्जिद को चेरामन मस्जिद कहा जाता है। मलिक इबन दीनार पैगंबर के साथी भी थे। वह इस मस्जिद के पहले गाजी थे। उनके बाद उनके भतीजे हबीब बिन मलिक ने यह जगह ली। हबीब बिन मलिक और उनकी पत्नी को इसी मस्जिद परिसर में दफनाया गया है।

यह भारत की एक प्राचीन एवं ऐतिहासिक मस्जिद है। यह मस्जिद अलग-अलग धर्मो का अद्भुत संगम है। कुछ खास कोण से देखने पर यह एक मंदिर लगता है। दक्षिण के मंदिरों की तर्ज पर मस्जिद में एक तालाब भी है। मस्जिद में एक छोटा संग्रहालय है, जिसके केंद्र में एक सीसे की पेटी में मस्जिद का एक छोटा नमूना रखा हुआ है, जिसे 350 साल पहले वहां लगाया गया है। संग्रहालय में प्राचीन काल के कई कलात्मक महत्व की वस्तुएं रखी हुई हैं।


और अधिक लेख – 

Please Note : – Malik Deenar Masjid Biography & Life History In Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई टिप्पणी (Comments) हो तो नीचे करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here