गूगल क्या है? कैसे बना नंबर वन सर्च एंजिन | History of Google in Hindi

1

Google History & Information in Hindi / गूगल जो अभी दुनिया का सबसे बड़ा सर्च एंजिन (Search Engine) हैं। जब इसकी शुरुवात हुवी थी तब इसे बनाने वाले ने कभी नही सोचा होगा की एक दिन ये इतना क्रांति लाएगा। महज 18 साल के सफ़र मे ये दुनिया का सबसे बड़ा इंटरनेट सर्विसे प्रवाइडर कंपनी बन गया। अभी हालत ऐसे हे की आपको गूगल के बारे मे भी जानना हो तो आप उसी को उसी से तलासेंगे। हर दिन लगभग सवा अरब से ज़्यादा बार लोग गूगल सर्च करते है और ये संखिया दीनो-दिन बडते ही जा रहा है, वेब दुनिया ऐसा कोई नही जो गूगल के मार्ग के बिना मंज़िल तक जा सके।

Google Search

गूगल का इतिहास – History of google in Hindi

ये कहना बिल्कुल ग़लत होगा की गूगल ने बड़ी आसानी से कामयाबी हासिल कर ली। 90 के दशक मे याहू और एमएसएन जैसे सर्च एंजिन का ख़ासा नाम था। कोई नये सर्च एंजिन का ज़रूरत भी नही महसूस कर रह था। पर समय से आगे सोच रखने वाले दो युवा सरजई बिन और लैरी पेज ने इंटरनेट खोज को और आसान बनाने का जिम्मा लिया और एक ऐसा सर्च एंजिन बनाने की ठानी जो पहले 10 सूचना मे ही पूरी जानकारी मिल जाए। यही कारण है की गूगल बाद मे भी आकर सबसे आगे निकल गया।

सरजई बिन और लैरी पेज जब स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से दोनों पीएचडी की पढ़ाई कर रहे थे। इस समय दोनों पीएचडी के विद्यार्थियों ने अपनी शोध में सर्च इंजन के नाम से इसे परिभाषित किया था। 1996 मे दोनो ने ‘बैकरब’ नाम का सर्च एंजिन बना लिया। इसे एक गैराज में शुरू किया गया था।

1998 तक दोनो ने दाई करोड़ वेब पेजेज का डेटा तैयार कर लिया। उनके जुनून और लगन को देख के सनमाइक्रोसिस्टें के एक एंडी ने एक लाख डॉलर का चेक ‘गूगल इंक’ के नाम काट दिया जो उस वक्त कही थी ही नही। 4 सितंबर 1998 को सरज़ोई और लैरी ने गूगल की स्थापना की, और उस चेक को कैश करने उसी नाम से ख़ाता खोला। अगर एंडी ने गूगल नाम से चेक नहीं कटा होता तो आज गूगल का नाम कुछ और ही होता।

गूगल की सफलता को देखते हुए पुनः तीन और ‘एंजेल निवेशकर्ता’ द्वारा फंडिंग प्राप्त हुई। ये तीन एंजेल निवेशकर्ता थे अमेजन डॉटकॉम के संस्थापक जेफ बेजोस, स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के साइंस प्रोफेसर डेविड चेरिटोन, तथा इंटरप्रेन्योर राम श्रीराम। वर्ष 1998 -1999 में इस तरह के निवेश के बाद 7 जुलाई 1999 गूगल को 25 मिलियन डॉलर की फंडिंग प्राप्त हुई। इस फंडिंग (निवेश) में कई निवेशकर्ता या इन्वेव्स्टर मौजूद थे।

एक मजेदार बात यह भी हैं की 1999 के आरम्भ में ब्रिन और पेज ने मिलकर यह निर्णय लिया था कि वे एक्साइट नामक कंपनी को गूगल को बेच देंगे। उन्होंने इस कंपनी के सीईओ जॉर्ज बेल से मुलाकात की और 1 मिलियन डॉलर में इसे बेचने का ऑफर दिया, हालाँकि जॉर्ज ने इस ऑफर को ठुकरा दिया। शायद एक्साइट कंपनी की किस्मत ही ख़राब थी। एक्साइट कंपनी के मुख्य निवेशकों में से एक विनोद खोसला ने यह डील हालाँकि 1 मिलियन डॉलर से 750,000 मिलियन डॉलर तक ले आये, लेकिंग जॉर्ज बेल ने इसे फिर भी ठुकरा दिया था।

Google 1998
गूगल 1998 मे

गूगल की सफलता शेयर की बाज़ार वॅल्यू से मापी जा सकती है। 2004 मे कंपनी ने 85 डॉलर मे शेयर जारी किए, 2007 मे कंपनी के शेयर की वॅल्यू 700 डॉलर हो गयी। मौंटेन व्यू कैलिफ़ोर्निया मे गूगल का मुख्यालय है, जिसे गूगल पलेक्स कहते है यहा का काम करने का तरीका बिल्कुल अलग है। ना कोई ड्रेस कोड ना कोई फॉरमॅलिटी आप जैसे चाहे काम पे जा सकते है। गूगल ने ऐसी कुछ अलग करने का सोच पे काम किया।

2000 मे याहू का डिफॉल्ट सर्च एंजिन बना और उसके पास एक अरब यूआरएल इंडेक्स हो गया और गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च एंजिन बना। इसके बाद गूगल ने पीछे मूड के नही देखा। 2000 मे टूल बार (Toolbar), 2001 मे इमेज सर्च (Image Search), 2004 मे जी-मेल (Gmail) के साथ ही गूगल पहला ईमेल प्रवाइडर बना जिसने जीबी स्पेस वाला मेल बॉक्स दिया।

इसी साल सोशियल नेटवर्किंग साइट ओर्कूट (Orkut), 2005 मे सबसे चर्चित गूगल अर्थ (Google Earth) जिसने गली-मुहल्ले से लेकर राष्ट्रपति भवन तक के रास्ते उपलब्ध करा दिए। 2006 मे यूट्यूब (Youtube) का टेक ओवर कर इंटरनेट का खेल को ही पलट दिया।

2008 मे सबसे बड़ा कदम उठाया जिसने अँग्रेज़ी ना जानने वालो के बीच भी लोकप्रिय हो गया गूगल ट्रॅनस्लेट (Google Translator) के ज़रिए जो 60 भाषा का अनुवाद करने की छमता है। 2010 मे गूगल ने गूगल नेक्सस के नाम से एंडराय्ड फोन लॉंच किया।

2010 मे गूगल की इनकम 29.32 अरब डॉलर थी, और मुनाफ़ा 8.5 अरब डॉलर। अक्तूबर 2015 मे गूगल का इनकम 518..7 अरब डॉलर रही। पर ऐसा नही है की गूगल कभी ना कामयाब नही हुवा। गूगल सबसे ज़्यादा ना कामयाब अपने सोशियल नेटवर्किंग साइट पे हुवा जैसे ओर्कूट, गूगल बज़्ज़, गूगल प्लस, ये सब फ़ेसबुक के आगे फेल है। वैसे गूगल की बहुत सारी सर्विस देता है जैसे, ब्लॉग, हेंगआउट, ड्राइव,…

कहा जाता हैं गूगल के पास एक अच्छा डिज़ाइनर नहीं हैं, जिस कारण सोशल नेटवर्किंग में फेल हो गया।

गूगल के डाटा सेंटर कहाँ हैं – Google Data Center 

गूगल जब अपना पहला डाटा सेण्टर लगाया था उस समय उसका हार्डवेयर – 10GB हार्ड डिस्क और 512MB ram था। और प्रोसेस्सर 2 × 300 MHz dual Pentium II था। पर आज लाखो GB हैं।

2016 तक गूगल ने अमेरिका में 9 डेटा सेंटर थे। इसके आलावा एशिया में 2 डेटा सेंटर तथा यूरोप में 4 डेटा सेंटर तैयार कर रखे हैं। साथ कई जगह और सेटअप करने वाला हैं। वर्ष 2011 तक गूगल के सभी डाटा सेंटर को मिलाकर कुल 900,000 सर्वर मौजूद थे। यह आंकड़ा ऊर्जा के इस्तेमाल के आधार पर था। हालाँकि गूगल ने कभी इस बात का खुलासा नहीं किया कि उसके पास कुल कितने सर्वर हैं।

गूगल का सबसे आसानी से चलने वाला डाटा सेंटर 35 डिग्री सेंटीग्रेड के तापमान पर चलता है। इसका सर्वर अक्सर इतना गर्म होता है कि कोई व्यक्ति एक कुछ क्षणों से अधिक देर तक यहाँ पर खड़ा नहीं रह सकता है।

गूगल के बारे मे ज़रूरी जानकारी – Google Information in Hindi

गूगल शब्द एक अन्य शब्द गूगोल (Googol) से आया है। इस सर्च इंजन के पीछे का (संकल्पना) कांसेप्ट था, एक तरह की दो वेबसाइट के बीच तुलना करना। 1 ‘गूगोल’ में 1 के बाद 100 शून्य स्थापित होता है। वर्ष 2012 में गूगल ने 50 बिलियन सालाना कमाई की, वही 2017 आते-आते 100 बिलियन से ज्यादा हो गया।

गूगल इस समय कई अन्य कंपनियों जैसे फेसबुक, इंटेल, माइक्रोसॉफ्ट जैसे आर्गेनाईजेशन के साथ मिलकर भी काम कर रहा है। अक्टूबर 2016 तक गूगल ने विश्व भर के 40 देशों में लगभग 70 ऑफिस बना रखे हैं, जहां पर हजारों लोग कार्यरत हैं। गूगल इस समय संसार के सबसे विजिट किया जाने वाला वेबसाइट है।

गूगल से जुड़े रोचक तथ्य – Google Facts in Hindi

  • गूगल का सबसे ज़्यादा इनकम गूगल एडवोर्ड से होता है, जिसे वो अपने पहले पेज मे दिखाता है।
  • गूगल ने अपना जन्म दिन 27 सितंबर को बनाने का अधिकारिक घोसना किया था, इससे पहले कितना बार अपना जन्म दिन का तारीख बदल चुका है।
  • गूगल की शुरूवात इंटरनेट सर्च एंजिन से हुवी अब ये फोटो, वीडियो, नक्शे और मोबाइल फोन जैसे सेवाए दे रही है।
  • गूगल की शुरूवात 4 सितंबर 1998 को कैलीफ़ोर्निया मे एक कार गैरेज मे सेरजाई और लैरी पेज ने की।
  • अभी गूगल कंपनी का हेड (CEO) चेन्नई (India) मे जन्मे सुंदर पिचाई है।
  • Google Ka Full Form – (G– Global, O – Organization, Oof Oriented , G – Group, L – Language of, E – Earth,)
  • गूगल विश्व भर के लगभग सभी त्यौहार और सभी महान लोगों के जन्मदिन तथा पुण्य तिथि को अपने ब्राउजर पर अनोखे तरीके से मनाता है, जिसे डूडल के नाम से जाना जाता हैं। जो लोगों को काफी पसंद आता है।
  • दिसम्बर में गूगल ने इस बात का ऐलान किया कि 2017 से गूगल अपने डेटा सेंटर और ऑफिस के लिए 100% रिन्यूएबल एनर्जी या कभी ख़त्म न होने वाली ऊर्जा का प्रयोग करेगा। यदि ऐसा होता है, तो गूगल कंपनी रिन्यूएबल एनर्जी प्रयोग करने वाली विश्व की सबसे बड़ी कंपनी बन जायेगी।
  • गूगल ने एंड्राइड मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम का निर्माण किया है। इस सिस्टम का प्रयोग करके लगभग सभी मोबाइल कंपनियों ने स्मार्टफ़ोन बनाया और उसका व्यापार किया।
  • गूगल भारत के प्रमुख रेलवे स्टेशन पर सितम्बर 2016 में पब्लिक वाई-फाई स्थापित करने का मन बनाया है। गूगल के इस प्रोजेक्ट से लगभग 3.5 मिलियन लोग प्रति महीने भारत में इंटरनेट सेवा का लाभ उठाते हैं। इस वर्ष के दिसम्बर तक भारत के 100 प्रमुख रेलवे स्टेशन पर यह सुविधा लागू कर दी गयी थी। यह संख्या आगे और भी बढ़ने वाली है।

और अधिक लेख –

Please Note : – Google History & Story in Hindi मे दी गयी Information अच्छी लगी हो तो कृपया हमारा फ़ेसबुक (Facebook) पेज लाइक करे या कोई (Comments) हो तो नीचे करे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here