धर्म

सावन (श्रावण) में शिव जी को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय

सावन ‘श्रावण’ में शिव जी को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय

श्रावण हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह से प्रारंभ होने वाले वर्ष का पांचवा महीना जो ईस्वी कलेंडर के जुलाई या अगस्त माह में पड़ता है। इसे वर्षा ऋतु का महीना भी कहा जाता है क्यों कि इस समय भारत में काफ़ी वर्षा होती है। यह महीना शिवजी की भक्ति का महीना है। श्रावण मास …

सावन ‘श्रावण’ में शिव जी को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय Read More »

भगवन गणेश का इतिहास, कथा, जानकारी | Ganesh Ji History in Hindi

गणेश भगवान् का इतिहास, कथा, जानकारी | Ganesh Ji History in Hindi

हिन्दू धर्म में गणेश जी सर्वोपरि स्थान रखते हैं। गणेश शिवजी और पार्वती के पुत्र हैं। उनका वाहन मूषक है। गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है। सभी देवताओं में इनकी पूजा-अर्चना सर्वप्रथम की जाती है। श्री गणेश जी विघ्न विनायक हैं। भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को मध्याह्न के समय गणेश …

गणेश भगवान् का इतिहास, कथा, जानकारी | Ganesh Ji History in Hindi Read More »

इस्लाम धर्म के शिया और सुन्नी में क्या अंतर हैं Shia and Sunni

इस्लाम धर्म के शिया और सुन्नी में क्या अंतर हैं Shia and Sunni

शिया और सुन्नी में अंतर क्या हैं – Difference Between Shia and Sunni in Hindi मुसलमान मुख्य रूप से दो समुदायों में बंटे हैं शिया-सुन्नी, ये विवाद इस्लाम के सबसे पुरानी और घातक लड़ाइयों में से एक है।

नमाज़ पढ़ने का तरीका | नमाज़ की जानकारी | Namaz Kaise Padhe

इस्लाम के पांच बुनियादी अरकान बताए गए हैं। कलिमा-ए-तयैबा, नमाज, रोजा, जकात और हज। और नमाज़ (Namaz) इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है। नमाज फारसी शब्द है, जो उर्दू में अरबी शब्द सलात का पर्याय है। कुरान शरीफ में सलात शब्द बार-बार आया है और प्रत्येक मुसलमान स्त्री और पुरुष को नमाज पढ़ने का …

नमाज़ पढ़ने का तरीका | नमाज़ की जानकारी | Namaz Kaise Padhe Read More »

जानिए आखिर परशुराम ने क्यों किया था 21 बार क्षत्रियों का संहार

जानिए आखिर परशुराम ने क्यों किया था 21 बार क्षत्रियों का संहार

Lord Parshuram / परशुराम त्रेता युग (रामायण काल) के एक मुनि थे। उन्हें भगवान विष्णु का छठा अवतार भी कहा जाता है। पौरोणिक वृत्तान्तों के अनुसार उनका जन्म भृगुश्रेष्ठ महर्षि जमदग्नि द्वारा सम्पन्न पुत्रेष्टि यज्ञ से प्रसन्न देवराज इन्द्र के वरदान स्वरूप पत्नी रेणुका के गर्भ से वैशाख शुक्ल तृतीया को हुआ था। वे भगवान …

जानिए आखिर परशुराम ने क्यों किया था 21 बार क्षत्रियों का संहार Read More »