दुनिया के 10 सबसे विषैले और ख़तरनाक सांप- 10 Poisonous Snakes In Hindi

Snakes / साँपो का नाम सुनते ही जेहन मे क्या आता हैं खैर ये हमे बताने की ज़रूरत नही। जबकि ना तो साँप के हाथ होते हैं ना पैर, ना ही तेज नाख़ून, फिर भी ये दुनिया की सबसे ख़तरनाक शिकारियो मे शुमार हैं, और इसका सबसे बढ़ा कारण हैं इसका विष। वैसे सभी सांप जहरीले नहीं होते हैं लेकिन कुछ सांप इतने जहरीले होते है की उनके जहर की एक बूंद से कई लोगो की जान जा सकती है। दुनिया में साँपों की कोई 2500-3000 प्रजातियाँ पाई जाती हैं जिसमें से 500 के करीब ज़हरीली होती है। वही भारत में करीब 270 प्रजाति के सांप पाए जाते हैं और इनमें से 4 प्रजाति के सांप ही जहरीले होते हैं और इनके काटने से लोगों की जान जाती है। ये सांप हैं- कोबरा (नाग), करैत, रसेल वाइपर और सॉव स्केल्ड वाइपर। इनके अलावा किंग कोबरा, हम्प नोज्ड पिट वाइपर और बैंडेड करैत भी जहरीले सांप हैं, परंतु ये काफी कम संख्या में हैं।

हालांकि, वैज्ञानिकों का मानना है कि सांप के जहर से कई बार मौत नहीं होती, बल्कि उसकी दहशत से ही लोग प्राण त्याग देते हैं। सबसे ज़्यादा ज़हरीली साँप ऑस्ट्रेलिया मे पाया जाता हैं। कई लोगो का यही ख्याल हैं की साँप किसी को देखते ही डस देता हैं वो भी बिना वजह का, लेकिन सच्चाई कुछ और ही हैं। हम सांप से जितना डरते हैं उससे ज्यादा सांप हमसे डरते हैं और इसी कारण वे छिपे रहते हैं। सांप के दांत और जहर शिकार में सहायता और आत्मरक्षा के लिए होते हैं। भोजन की तलाश में निकला सांप शिकार के शरीर पर दांत गड़ा देता है और उसके शरीर में जहर डाल देता है। जहर के कारण शिकार कुछ दूर जाकर बेहोश हो जाता है और सांप अपने जहर को सूंघता हुआ उसके पास पहुंच जाता है। इसके अलावा सांप अपने जहर का इस्तेमाल दुश्मनों से खुद की रक्षा के लिए भी करता है। यही कारण है कि जब इंसानों से इनका सामना होता है तो उसे साक्षात मृत्यु नजर आती है और ये अपनी रक्षा के लिए अपने ताकतवर हथियार का इस्तेमाल कर देते हैं। साँप का विष उसके मुँह में की थैली मे होती है जिससे जुडे़ दाँत तेज तथा खोखले होते हैं और वो जैसे ही किसी को काटते हैं विष शरीर में प्रवेश कर जाता है।

ज़हरीली साँपो को क्रम में रखना बहुत मुश्किल है क्योकि कई प्रजातियों का ज़हर बहुत घातक है पर वो इंसानो को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचाते है जबकि कई प्रजातियों का ज़हर इतना घातक नहीं होता है फिर भी वो अपनी आक्रमकता से इंसानो को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाते है। फिर भी आज हम कुछ ऐसे 10 साँपो से रूबरू कराएँगे, जो दुनिया के सबसे ख़तरनाक, विषैल, माने जाते हैं।

दुनिया के 10 सबसे जहरीले सांप – Top 10 Most Venomous And Dangerous Snakes In The World :-


Inland Taipan(1) इंनलैंड ताइपन  (Inland Taipan)- यह धरती पर पाए जाने वाला सांपों में सबसे जहरीला होता है। यह सांप अपने एक डंक में 110 मिलीग्राम जहर इंजेक्ट कर सकता है, जिससे 100 इंसान और 250,000 चूहे मर सकते हैं। इसका जहर रैट्ल स्नेक से दस गुणा और सामान्य कोबरा के जहर से 50 गुना ज्यादा खतरनाक होता है। यह सांप बीड़-भाड़ से दूर रहना पसंद करता है इसलिए इंसानो से इसका आमना सामना बहुत कम होता है और यदि हो भी जाए तो ये वहाँ से बच निकलने की कोशिश करता है। आपको यह जान के आशचर्य होगा की इस सांप के द्वारा इंसानो को काटने का कोई मामला आज तक रिकॉर्ड नहीं हुआ है। इसलिए इसे संत सांप की भी उपाधि दी जाती है।


Eastern Brown Snake(2) इस्टर्न ब्राउन स्नेक (Eastern Brown Snake)- आस्ट्रेलिया में पाया जानेवाला यह सांप इतना ख़तरनाक होता हैं की इसके जहर का 14 हजारवां भाग एक इंसान के मौत के लिए काफ़ी होता है। उससे भी खराब बात यह है यह ऑस्ट्रेलिया में बीड़-भाड़ इलाको के पास ज्यादा पाया जाता है।


Blue Krait(3) नीला करैत (Blue Krait)- यह सांप दक्षिण-पूर्व एशिया और इंडोनेशिया में पाया जाता है। यह साँप दुनियाँ के सबसे जहरीले साँपो मे एक माना जाता है। ये सांप इतना खतरनाक होता है की यह अन्य सांपो का भी शिकार कर लेता है और कभी कभी तो खुद की करैत प्रजाति के सांपो का भी शिकार कर लेता है। लेकिन यह काफ़ी डरपोक भी होता हैं। इंसानी बस्तियों से दूर रहते हैं और उलझना पसंद नहीं करते। लेकिन एक बार यदि इन्हें अंदेशा हो जाए कि बिना उलझे काम नहीं चलेगा तो फिर ये छोड़ते भी नहीं। इसका इनका ज़हर भी न्यूरो टॉक्सिक होता है।


Taipan(4) ताइपन (Taipan)-  ताइपन आस्ट्रेलिया में पाया जानेवाला दूसरा सबसे विषैल साँप हैं। ये एक बार में इतना ज़्यादा ज़हर छोड़ता है कि उससे एक बार में 12,000 पिग की जान जा सकती है। इसके जहर में बहुत तेज नयूरोटोक्सिक विष होता है जो शिकार के शरीर में खून को जमा देता है। रंग-रूप में यह अफ्रीका के ब्लैक माम्बा के समान होता है।


Black Mamba(5) ब्लैक माम्बा (Black Mamba)- अफ्रीका मे पाए जाने वाला यह साँप बहुत ही ग़ुस्सेल होता हैं। इसकी सबसे बड़ी विशेषता हैं की यह धरती पर सबसे तेज़ चलने वाला सांप है जो कि 20 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से अपने शिकार का पीछा कर सकता है। खतरा महसूस होने पर ये लगातार 10-12 बार काटता है और 400 मिलीग्राम तक ज़हर इंसान के शरीर में छोड़ देता है। इसका ज़हर फ़ास्ट एक्टिंग न्यूरो टॉक्सिक होता है। बलैक मांबा का सिर्फ 1 मिलीग्राम ज़हर ही इंसान को खत्म करने के लिए काफी है। इसके डसने पर आदमी 15 मिनट से लेकर 3 घंटे के अंदर मर जाता है।


Tiger Snake(6) टाइगर स्नेक (Tiger Snake)- ऑस्ट्रेलिया में पाए जाने वाला ‘टाइगर स्नेक’ बहुत ही ज्यादा विषैला सांप है। सामान्यत: इसके शिकार को मौत तक पहुंचने में 6-24 घंटे लगते हैं, लेकिन कई जान बचाने के लिए सिर्फ 30 मिनट ही मिलते हैं। फिर भी यह इंसानो के लिए ज्यादा खतरनाक नहीं है क्योकि इंसानो से मुठभेड़ होने पर यह भाग जाता है यह काटता उसी स्थिति में है जब यह किसी कोने में हो और भागने की कोई जगह न हो।


Philippine Cobra(7) फ़िलिपीनी कोबरा (Philippine Cobra)- कोबरा की अधिकांश प्रजातिया ज्यादा ज़हरीली नहीं होती है पर फ़िलिपीनी कोबरा इसका अपवाद है। यह अपना विष तीन मीटर की दूरी से शिकार पर फेंक सकता है। इसका बेहद तेज न्यूरोटॉक्सिक जहर शिकार को 30 मिनट में मौत के घाट उतार सकता है। जो की सीधे श्वसन और हृदय तंत्र पर असर दिखाता है।


Viper(8) वाइपर (Viper)- वाइपर लगभग पूरी दुनिया में पाया जाता है। सॉव स्केल्ड वाइपर और चैन वाइपर बेहद जहरीले होते हैं। ये सांप मध्यपूर्व और मध्य एशिया विशेषकर भारत, चीन, और दक्षिण-पूर्व एशिया में पाया जाता है। यही सांप भारत में सांपो के काटने से होने वाली सबसे ज्यादा मौतो के लिए ज़िम्मेदार है। इस साँप के काटने के आधे घंटे के भीतर ही इंसान खत्म हो जाता है। यह सांप बहुत ही आक्रामक होता हैं।


Death Adder(9) डेथ एडर (Death Adder)- यह सांप ऑस्ट्रेलिया और न्यू गिनी में पाया जाता है। इसकी विशेषता हैं की यह सांप, साँपो का ही शिकार करता हैं। यह बेहद तेज रफ्तार से हमला करता है और एक बार मे 40-100 मिलीग्राम तक ज़हर शिकार के शरीर में छोड़ देता हैं। इसका जहर न्यूरोटॉक्सिक होता है, जिसके कारण तंत्रिका तंत्र कमजोर पड़ने लगता है, लकवे के लक्षण दिखने लगते हैं और इंसान 6 घंटे से कम समय में मौत हो जाता। इसकी एक और विशेषता जो की इसको और ख़तरनाक बनाती है वो है .13 Sec के भीतर दुबारा वार करने की क्षमता।


Rattle Snake(10) रैटलस्नेक (Rattle Snake)- रेटल स्नेक, पिट वाईपर की फैमिली में आता है। यह उत्तरी अमेरिका मे पाए जाने वाला सबसे ज़हरीला सांप है। इसकी एक खास विशेषता है की इसकी पूंछ के सिरे पर समय के साथ-साथ झुनझूने की तरह खाल इकट्ठी होती रहती है जिसे हिलाने पर तेज आवाज निकलती है जिसे बजाकर यह अपने करीब आने वाले को चेतावनी देता है और इसके बाद भी अगर कोई इसके करीब पहुंचता है तो उसपर यह हमला करने से नहीं चूकता। इसी कारण इसे रेटल स्नेक कहते है। यह सांप अपनी कुल लम्बाई के 2/3 हिस्से तक वार सकता है जो की बहुत ज्यादा है। ये सांप बहुत ही गुस्सैला होता है। इस सांप की सबसे बड़ी विशेषता यह है की इनके बच्चे, बड़ो से ज्यादा खतरनाक होते है। क्योकि बच्चो में बड़ो से ज्यादा ज़हर होता है। इसके शरीर में हेमोटोक्सिक ज़हर पाया जाता है। इस ज़हर के प्रभाव से ह्यूमन टिश्यू खत्म होने लगते हैं, ब्लड क्लॉटिंग बंद हो जाती है।


Belcher’s Sea SnakeE(11) समुद्री सांप (Belcher’s Sea Snake)- बेल्चेर समुद्री सांप साउथ ईस्ट एशिया और नॉर्थन ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है यह साँप ज़्यादा आक्रामक नहीं होता लेकिन छेड़े जाने पर यह काट सकता है और इसके अधिकतर शिकार वह मछुआरे होते है जिनके जाल में फसकर यह बाहर आ जाता है। इसके ज़हर की कुछ मिलीग्राम बुँदे ही 1000 इंसानो की मौत के लिए पर्याप्त है।


और अधिक लेख –




loading…


LEAVE A REPLY