नवाजुद्दीन सिद्दीकी की जीवनी Nawazuddin Siddiqui Biography In Hindi

Nawazuddin Siddiqui Biography In Hindi

नाम –  नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी,
जन्म –  19 May 1974
जन्म स्थान –  मुज़फ्फरनगर (UP),
राष्ट्रीयता –  भारतीय,
उपलब्धि –  अभिनेता,

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी / Nawazuddin Siddique Biography


नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता हैं। नवाज़ुद्दीन एक ऐसे अभिनेता है जिन्होने अपने जीवन मे बहुत असफलताए देखी है और आख़िरकार उन्होने सफलता पाई। और कहते हैं ना जो लोग अपना सफर बहुत नीचे से शुरू करते हैं, वे काफी ऊपर तक जाते हैं. और ये कहावत नवाज़ुद्दीन पे बिल्कुल बैठती है। तभी तो 1999 में शूल फिल्म में वेटर और सरफरोश में मुखबिर का रोल करने वाले नवाजुद्दीन सिद्दीकी ऐसे सितारे बन चुके हैं जिनकी कान फिल्म फेस्टिवल में एक साथ तीन-तीन फिल्में अपना जलवा बिखेरने जाती हैं तो उन्हें एक नहीं चार फिल्मों के लिए एक साथ राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है. ये एक मंझे हुए कलाकार है। जो अपनी एक्टिंग को लोहा मनवा चुके है। आए जानते है नवाज़ुद्दीन का इस सफलता के पीछे राज क्या है।

प्रारंभिक जीवन :

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का जन्म 19 May 1974 को U.P के मुज़फ्फरनगर डिस्ट्रिक्ट के एक छोटे से गाँव बुढ़ाना में हुआ था। अपने नौ भाई बहनो नवाज़ुद्दीन सबसे बड़े है। वे एक किसान परिवार से सबंध रखते है। हालाँकि ये कहना ग़लत होगा की नवाज़ुद्दीन ग़रीब परिवार से थे। वो एक वेल-ऑफ ज़मींदार किसानो की फॅमिली से बिलॉंग करते हैं। हालांकि, अपना करियर बनाते वक्त उन्होंने परिवार से कोई आर्थिक मदद नहीं ली और बहुत बुरे दिने देखे, जो अल्टिमेट्ली उन्हें और स्ट्रॉंग (Strong) बनाते गए।

पढ़ाई :

नवाज़ुद्दीन ने इंटर तक की पढ़ाई गाँव से करने के बाद वो हरिद्वार चले गए, क्यूंकी गाँव मे पढ़ाई लिखाई का माहौल नही था, हरिद्वार मे उन्होने गुरुकुल कंगरी विश्वविद्यालया से अपनी केमिस्ट्री में बीएससी की पढाई पूरी की।

इसके बाद वो वडोदरा, गुजरात में एक कम्पनी में बतौर केमिस्ट काम करने लगे। इस काम में उनका मन नहीं लगता था, लेकिन कुछ न कुछ करना था इसलिए करते जा रहे थे। फिर एक दिन उनका एक दोस्त उन्हें एक फिल्म दिखाने के लिए ले गया। फिल्म उसे अच्छा लगा उसके बाद उन्हे एहसास हुआ की शायद वो इसी काम के लिए बने है। इस बारे मे उन्होने अपने दोस्त सलाह लिया, और दोस्त ने समझाया की एक्टर बनना है तो एक्टिंग सीखनी होगी। इसके बाद उन्होने ‘नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा’ में दाखिला ले लिया और 1996 में वहां से ग्रेजुएट होकर निकले।

संघर्ष (struggle) : 

एक्टिंग का एक्सएपरीयेन्स (Experience) लेने के लिये उन्होने ‘साक्षी थिएटर ग्रुप’ के साथ काम भी किया, जहां उन्हे मनोज वाजपेयी और सौरभ शुक्ला जैसे कलाकारों के साथ काम करने का मौका मिला। लेकिन यहीं से असली संघर्ष की दास्तान शुरू हुई. इसके बाद 2000 में वे मुंबई चले गये से जहाँ से शुरू हुआ रिजेक्शन का दौर।

” मैंने जीवन में रिजेक्शन और परेशानियों का एक लंबा दौर देखा है, लेकिन मैंने कभी धीरज नहीं खोया सिर्फ और सिर्फ अपना काम करने में लगा रहा. मैंने सिर्फ ओरिजिनेलिटी पर ध्यान दिया. फिर चाहे वह मेरी फिल्में हों या फिर असल जिंदगी, मैं सिर्फ एक अच्छे कलाकार के तौर पर पहचान चाहता हूं “

नवाज़ुद्दीन कहते है, मेरे साथ मुंबई आए सभी दोस्त अपने घरों को लौट गए, लेकिन मैं डटा रहा. हताशा के इन दिनों में मुझे अपनी मम्मी की एक बात याद रही कि “12 साल में तो घूरे के दिन भी बदल जाते हैं बेटा तू तो इनसान है”

नवाज़ुद्दीन ने अंजली से शादी की जो उसी की गाँव की थी, उनकी एक लड़की है जिसका नाम शोरा है।

फिल्मी सफ़र :

नवाज़ुद्दीन ने अपनी फिल्मी करियर की शुरूआत ‘शूल’ और ‘सरफरोश’ जैसी फिल्‍मों से हुई थी। लेकिन इन फिल्‍मों में उनका किरदार काफी कम समय के लिए था। इसके बाद उन्‍होंने कई छोटी-बड़ी फिल्‍मों में काम किया. उनके काम को हर तरफ से काफी सरा‍हा गया लेकिन असली पहचान उन्‍हें आमिर खान प्रोडक्शंस ‘पिपली लाइव’ से मिली, उसके बाद उन्होने कई हिट फ़िल्मे दी जैसे ‘क‍हानी’, ‘गैंग्‍स ऑफ वासेपुर’, ‘द लंच बॉक्‍स’ इसके लिए उन्हे कई पुरूस्कार मिले. और नवाज़ुद्दीन बॉलीवुड मे एकदम अलग किस्म के कलाकार के रूप मे अपनी पहचान बना लिए।

2015 मे आई फिल्म ‘मांझी द माउंटन मेन’ मे उनके अभिनय की काफ़ी प्रशंसा की गयी. नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने फिल्म में दशरथ मांझी का किरदार निभाया था। इस फिल्म में दशरथ मांझी अपने गांव को सड़क तक मिलाने के लिए अकेले पूरा पहाड़ काटता है। इस फिल्म ने दर्शकों के दिल को जीत लिया था।

नवाज़ुद्दीन हमेशा ऐसे एक्टिंग करते है  की अपने किरदार पे पूरा घुल-मिल जाते है यही वजह है की वो आज बॉलीवुड के बेहतरीन अभिनेताओ मे गिने जाते हैं. और उनकी हर मूवी बहुत ही इंटरेस्टिंग रहता हैं।

नवाज़ुद्दीन के अनमोल वचन / Nawazuddin Siddique Quotes :

  1. Quote  –  “मैं rejection का इतना used to हो चुका था कि अब इसका कोई असर ही नहीं पड़ता था।”

2. Quote –  “मैं लकी नहीं रहा, मैंने बहुत स्ट्रगल किया है और सीखा है कि कभी उम्मीद मत छोड़ो और हमेशा कड़ी मेहनत करो। तैयार रहो। शायद आपको तब मौका मिल जाए जब आप इसकी सबसे कम उम्मीद कर रहे हों”

3. Quote  – “यह इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजिए, आग का दरिया है और डूब कर जाना है”

प्रसिद्ध फ़िल्मे : 

शूल, सरफरोश, पिपली लाइव, क‍हानी, गैंग्‍स ऑफ वासेपुर 1-2, द लंच बॉक्‍स, बदलापुर, मांझी: द माउंटन मेन,

More Information About Nawazuddin Siddiqui  : –

Nawazuddin Siddiqui Height – 5’6″ (1.68m)

⇒ Nawazuddin Siddiqui Hobbies  –  N/A

⇒ Nawazuddin Siddiqui Religion  –  Islam

Favorite Food    –    N/A

Favorite Color   –   N/A

Favorite Actor    –  Ashis Vidyarathi

Favorite Actress  –  N/A

Favorite Location  –  Rajasthan, jaisalmer

Does Nawazuddin Siddiqui smoke? : Yes

Does Nawazuddin Siddiqui alcohal? : Yes

          Related  •  रजनीकांत की जीवनी
                             •  असफलता ही सफलता की कुंजी है|

Nawazuddin Siddiqui Biography In Hindi मे जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे फ़ेसबुक मे सेयर करे. और Nawazuddin Siddiqui Life History In Hindi मे आपके पास और Information हैं तो कृपया कॉमेंट्स से बताए.

नयी पोस्ट डाइरेक्ट ईमेल मे पाने के लिए फ्री Email-Subscribe करे, धन्याबाद

loading...

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY