फाइन आर्ट्स मे कॅरियर बनाए | Fine Arts Me Carrier Kaise Banaye

Fine Arts Me Carrier Kaise Banaye,

फाइन आर्ट्स मैं विद्यार्थियों के लिए दौलत और शोहरत भी :- 

एक कलाकार अपनी कूची से नदी झरने हो या फिर पहाड़ जंगल आदि के प्राकृतिक खूबसूरत दृश्य जीवंत बना देता है। अक्सर इन कलाकृतियों को देखकर हर किसी का चेहरा खिल जाता है। लोग चकित होकर इन्हें करीब से निहारते हैं और कलाकारों की प्रतिभा को दाद देते हैं दरअसल यह सब फाइन आर्ट्स का कमाल है। फाइन आर्ट्स की विभिन्न विधाओं जैसे ड्रॉइंग, पेंटिंग्स, डिजाइनिंग, एनिमेशन, गेमिंग, आदि में लोग अपना हुनर दिखा कर दौलत और शोहरत दोनों कमा रहे हैं। फाइन आर्ट्स सेक्टर में अपनी पहचान बनाने की संभावना लगातार बढ़ रही है।

इन क्षेत्रों में है मांग :-

फाइन आर्ट्स ग्रेजुएट की देश में आजकल सबसे ज्यादा मांग सॉफ्टवेयर कंपनीज, डिजाइन फर्म्स, टेक्सटाइल इंडस्ट्री, एडवरटाइजिंग कंपनीज, डिजिटल मीडिया पब्लिशिंग हाउसेस और आर्ट स्टूडियो में है। अगर फील्ड की बात करे तो फाइन आर्ट का कोर्स करने के बाद एक डिपार्टमेंट अखबार या पत्रिका में इलेस्टरेट, कार्टूनिस्ट, एनिमेटेड आदि के तौर पर अपना कैरियर बना सकते हैं। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, टेलीविजन, फिल्म थिएटर प्रोडक्शन, प्रोडक्ट डिजाइन, एनिमेशन स्टूडियो और टेक्सटाइल डिजाइनिंग आदि में भी तमाम अवसर है। फाइन आर्ट्स कोर्स और स्पेशलाइज़ेशन के बाद ऐसे प्रोफेशनल विभिन्न कंपनियों में इलस्ट्रेटर, ग्राफिक डिजाइनर, विजुअल डिजाइनर, डिजिटल डिज़ाइनर, क्रिएटिव मार्केटिंग प्रोफेशनल, flash प्रोग्रामर, 2D, 3D आर्टिस्ट वेब डेवलपर, क्राफ्ट, आर्टिस्ट, लेक्चरर, आर्ट म्यूजियम, टेक्नीशियन कंजरवेटर, आर्ट डायरेक्टर, एडवरटाइजिंग एक्सक्यूटिव, प्रोजेक्ट ऑफिसर पदों पर काम कर सकते हैं।

पर्सनल स्किल होना ज़रूरी हैं :-

फाइन आर्ट्स की पढ़ाई किसी दूसरे विषय से पूरी तरह अलग हैं। इस तरह का कोर्स करने के लिए आपने क्रिएटिव टैलेंट और इस्किल होनी जरूरी है। इसलिए इस फील्ड में कलात्मक और सृजनात्मक प्रतिभा रखने वाले युवाओं को ही आना चाहिए। क्योंकि फाइन आर्ट्स का फोकस एरिया मुख्य रूप से अप्लाइड आर्ट, ग्राफिक डिजाइन, पेंटिंग और स्कल्पचर रिंग के इर्द-गिर्द ही होता है। यदि पेंटिंग के बजाए मॉडर्न डिजाइनिंग में नाम कामना चाहते हैं। तो आप को बदलते वक़्त के अनुसार प्रोडक्ट की डिजाइन को विजुअलाइज करना होगा।

देश के अधिकतर विश्व विद्यालय और कॉलेज में फाइन आर्ट्स के अंडर ग्रेजुएट और पीजी कोर्स संचालित हो रहे हैं। ऐसे में अगर आप आर्ट टीचर लेक्चरार बनना चाहते हैं, तो 12 वीं के बाद बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स कोर्स कर सकते हैं। किसी भी स्ट्रीम के युवा इस तरह के कोर्स में प्रवेश के लिए सकते हैं। अगर आप चाहे तो इसी में आगे मास्टर ऑफ फाइन आर्ट्स भी कर सकते हैं। फाइन आर्ट्स में एमफिल और पीएचडी भी की जा सकती है। क्योंकि फाइन आर्ट्स में विजुअल और परफॉर्मिंग दोनों ही आयाम शामिल है। इसलिए इस तरह के पाठ्यक्रम के अंतर्गत विद्यार्थियों को पेंटिंग, अप्लाइड आर्ट, ग्राफिक्स डिजाइन, इंटीरियर डिजाइन, ड्रामा म्यूजिक पोटरी जैसे कई विषयों की जानकारी दी जाती है।

यह प्रमुख संस्थाएं :-

  • दिल्ली यूनिवर्सिटी दिल्ली,
  • कॉलेज ऑफ आर्ट दिल्ली जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़
  • टीजीसी एनिमेशन एंड मल्टीमीडिया, दिल्ली
  • सर जेजे इंस्टिट्यूट ऑफ़ अप्लाइड आर्ट मुंबई
  • इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ फाइन आर्ट्स मोदीनगर
You May Also Like This Article :- 
loading...

LEAVE A REPLY