Dard Bhari Shayari on Meri Tanhai

Dard Bhari Shayari

Dard Bhari Shayari on Meri Tanhai

और कोई गम नहीं एक तेरी जुदाई के सिवा,

मेरे हिस्से में क्या आया तन्हाई के सिवा,

यूँ तो मिलन की रातें मिली बेशुमार,

प्यार में सब कुछ मिला शहनाई के सिवा..

 

Dard Bhari Shayari on Bekasur The Hum

         

        जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम

           मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम

           सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा

           बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम।

Dard Bhari Shayari on Toota Hua Dil

 

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है!
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है!
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर!
जैसे कोई कांच का खिलौना चूरचूर होता है!




Dard Bhari Shayari Best Collection

 
आज अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया,
क्या करू तुमने जो मुझे भुला दिया,
करती वफ़ा मिलती ये सजा,
शायद मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफा बना दिया।
वफ़ा की तलाश करते रहे हम
बेबफाई में अकेले मरते रहे हम,
नहीं मिला दिल से चाहने वाला
खुद से ही बेबजह डरते रहे हम,
लुटाने को हम सब कुछ लुटा देते
मुहब्बत में उन पर मिटते रहे हम,
खुद दुखी हो कर खुश उन को रखा
तन्हाईयों में सांसे भरते रहे हम,
वो बेवफाई हम से करते ही रहे
दिल से उन पर मरते रहे हम|
कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए,
जब भी तेरी याद आई तुझे भुला के रोए,
एक तेरा ही तो नाम था जिसे हज़ार बार लिखा,
जितना लिख के खुश हुए उस से ज़यादा मिटा के रोए.
प्यार किया बदनाम हो गए,
चर्चे हमारे सरेआम हो गए,
ज़ालिम ने दिल उस वक़्त तोडा,
जब हम उसके गुलाम हो गए|
अपना होगा तो सता के मरहम देगा,
जालिम होगा अपना बना के जख्म देगा,
समय से पहले पकती नहीं फसल,
अरे बहुत बरबादियां अभी मौसम देगा|
कुछ लोग कहते है की बदल गया हूँ मैं,
उनको ये नहीं पता की संभल गया हूँ मैं,
उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है,
पर
अब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मैं|
 
loading...

LEAVE A REPLY